ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: सिख नेताओं में अरविंद केजरीवाल के खिलाफ नाराजगी, एक एमएलए ने किया AAP छोड़ने का ऐलान

कहा जा रहा है कि कालकाजी सीट पर अवतार सिंह काल्का की जगह पार्टी ने आतिशी को टिकट थमाया। जिसके बाद अब अवतार सिंह भी नाराज हो गए हैं।

अवतार सिंह ने कहा कि पार्टी ने मुझे विश्वास में नहीं लिया।

Delhi Election 2020: दिल्ली में विधानसभा चुनाव शुरू होने से पहले आम आदमी पार्टी (AAP) को झटका लगा है। हरि नगर से पार्टी के विधायक जगदीप सिंह ने आम आदमी पार्टी छोड़ने का ऐलान किया है। ‘AAP’ छोड़ने का ऐलान करते हुए जगदीप सिंह ने कहा कि ‘हां, मैं पार्टी छोड़ रहा हूं…मैं किसी अन्य पार्टी में शामिल हो सकता हूं..कई लोगों ने मुझसे संपर्क किया है।’ जगदीप सिंह ने साल 2015 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रत्याशी को इस सीट पर 26,000 से ज्यादा वोटों से हराया था।

आम आदमी पार्टी ने इस बार अपने 14 मौजूद विधायकों को टिकट नहीं देने का फैसला किया है। पार्टी के इस फैसले से कई कुछ सिख नेता नाराज बताए जा रहे हैं। साल 2015 में राजौरी गार्डेन, कालकाजी, तिलक नगर तथा हरि नगर सीट से आम आदमी पार्टी ने सिख प्रत्याशियों को उतारा था और इन सीटों पर पार्टी को सिख समुदाय से अच्छा रिस्पॉन्स भी मिला थी। इस बार आम आदमी पार्टी ने तिलक नगर से जरनैल सिंह और चांदनी चौक से Parlad Singh Sawhney को टिकट दिया है।

कहा जा रहा है कि कालकाजी सीट पर अवतार सिंह काल्का की जगह पार्टी ने आतिशी को टिकट थमाया। जिसके बाद अब अवतार सिंह भी नाराज हो गए हैं। अवतार सिंह ने पार्टी से पूछा है कि आखिर उन्हें इस सीट से टिकट क्यों नहीं दिया गया? अवतार सिंह कालका यहां के मशहूर नेता हैं। यह सीट पारंपरिक तौर पर सिखों के ही हिस्से में जाती रही है। अवतार सिंह कालका ने कहा कि ‘अगर पार्टी ने मुझे विश्वास में लिया होता तो ऐसे हालात नहीं होते कि लोग इस क्षेत्र में ‘आतिशी गो बैक’ के नारे लगा रहे होते। आपने लोकसभा चुनाव हारे हुए एक नेता को इस क्षेत्र से उतारा है जबकि इस इलाके में लोग मुझे जानते हैं औऱ मेरा सम्मान करते हैं।’

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने The Indian Express से बातचीत करते हुए कहा कि ‘इस बार जिन पार्टी नेताओं को टिकट नहीं मिल सका है उन्हें संतुष्ट करने की कोशिश की जा रही है। जब हमने पंजाब में चुनाव लड़ा था तब हमे बताया गया था कि हमने हिंदुओं की तुलना सिखों को ज्यादा टिकट देकर गलती कर दी। लेकिन यह मामला उल्टा है। हमने टिकट बंटवारे के वक्त कई तथ्यों को ध्यान में रखा है। हम चाहते हैं कि लोग हमारी नीतियों और योजनाओं को देखें…मैं टिकट नहीं पा सकने वाले नेताओं से संपर्क में हूं और कोशिश है कि उन्हें कुछ अहम जिम्मेदारियां दी जाए।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सिर्फ पीलीभीत में 95000 शरणार्थी, यूपी सरकार ने CAA लागू होने से पहले ही शुरू करवाया सर्वे, जिलों को भेजे स्पेशल फॉर्म!
2 ‘अपना बर्थडेट याद नहीं रखते तो पैरेन्ट्स का कौन बताएगा?’ होम सेक्रेटरी और RGI की बैठक में राज्यों ने NPR पर खड़े किए हाथ
3 राहुल गांधी को चुनकर केरल की जनता ने बड़ी गलती की, इतिहासकार रामचंद्र गुहा का निशाना- मोदी के सामने राहुल का भविष्य नहीं
ये पढ़ा क्या?
X