लोकसभा में अधीर रंजन ने उठाया दिल्ली नाबालिग ‘रेप’ कांड का मुद्दा, पलटवार में मेघवाल ने दिलायी राजस्थान की याद

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने दिल्ली में नौ साल की बच्ची के साथ कथित दुष्कर्म और हत्या का मुद्दा बृहस्पतिवार को लोकसभा में उठाया। उन्होंने कहा कि इस पर सदन में निंदा प्रस्ताव पारित होना चाहिए।

adhir ranjan and arjun meghwal
अधीर रंजन चौधरी और अर्जुन मेघवाल (फोटो- PTI)

दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली में हुए दलित बच्ची के साथ कथित रेप का मुद्दा आज लोकसभा में गूंजा। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने नौ साल की बच्ची के साथ कथित दुष्कर्म और हत्या का मुद्दा बृहस्पतिवार को लोकसभा में उठाया। पलटवार में मेघवाल ने अधीर रंजन को राजस्थान की याद दिला दी।

अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि इस मामले पर सदन में निंदा प्रस्ताव पारित होना चाहिए। कांग्रेस नेता के इस बयान के बाद बीजेपी की ओर से संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बच्ची के माता-पिता की तस्वीर सोशल मीडिया में डालकर बाल संरक्षण से जुड़े कानून का उल्लंघन किया है जिसकी निंदा होनी चाहिए।

अधीर रंजन चौधरी ने प्रश्नकाल के दौरान सदन में इस मुद्दे को उठाने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी गयी। एक बार के स्थगन के बाद जब सदन की कार्यवाही दोपहर 12 फिर से आरंभ हुई, तब कांग्रेस नेता ने फिर यह मुद्दा उठाया।

चौधरी ने कहा- ‘‘देश की राजधानी में नौ साल की दलित बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या की जघन्य घटना हुई है। बच्ची का जबरन अंतिम संस्कार कर दिया गया। सदन में इस पर निंदा प्रस्ताव पारित होना चाहिए।’’

कांग्रेस नेता के इस बयान पर पलटवार करते हुए मेघवाल ने कहा- ‘‘चौधरी जी, राजस्थान में बलात्कार के मामलों पर क्यों नहीं बोल रहे? इनके नेता राहुल गांधी जब बच्ची के माता-पिता से मिलने गए तो बाल संरक्षण कानून की धज्जियां उड़ाईं। उनकी तस्वीर शेयर की। कानून के विपरीत काम किया। इसकी निंदा होनी चाहिए।’’

बता दें कि राहुल गांधी ने बुधवार को दिल्ली में पीड़ित से मुलाकात कर पूरी मदद का भरोसा दिलाया था, बच्ची की पिछले दिनों संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। बच्ची के परिवार ने उसकी दुष्कर्म के बाद हत्या किए जाने का आरोप लगाया है। कांग्रेस नेता ने बच्ची के माता-पिता से मुलाकात की तस्वीर साझा करते हुए ट्वीट किया था, ‘‘माता-पिता के आंसू सिर्फ एक बात कह रहे हैं- उनकी बेटी, देश की बेटी, न्याय की हकदार है, और न्याय के लिए इस रास्ते पर मैं उनके साथ हूं।”

राहुल गांधी के ट्विटर हैंडल से इस तस्वीर को साझा करने को लेकर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने दिल्ली पुलिस और ट्विटर से कार्रवाई करने के लिए कहा है।

अपडेट