ताज़ा खबर
 

कोरोना मरीज के परिजन बोले- अस्पताल में हो रही पिटाई, पेशंट दे दो, घर पर मार देंगे

राजधानी दिल्ली के अस्पतालों को लेकर लोगों में असंतोष देखने को मिली। लोग यहां तक कह रहे थे कि मरीजों को वे घऱ वापस ले जाना चाहते हैं।

corona virus, delhiकोविड मरीज की मौत के बाद अंतिम संस्कार के लिए आए परिजन। फोटो- पीटीआई

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देशभर में हाहाकार मचा दिया है। कहीं लोग बेड के लिए भटक रहे हैं तो कहीं अपनों के अंतिम संस्कार के लिए। इस लहर में आम आदमी के साथ खास लोग भी त्रस्त हैं। राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहां मंगलवार को 28 हजार से ज्यादा नए मामले रिकॉर्ड किए गए और 277 मरीजों की मौत हो गई। राज्य में बेड और ऑक्सीजन की किल्लत है। वहीं मरीजों के परिजन भी कई तरह की परेशानियों का सामना कर रहे हैं।

दिल्ली के कोविड अस्पतालों के बाहर की स्थिति देखते नहीं बनती। ऐसा लगता है हर कोई इस मौत के तांडव का शिकार है। वहीं प्रशासन और अस्पतालों के रवैये को लेकर भी लोगों में बड़ा असंतोष है। ‘द लल्लन टॉप’ के एक रिपोर्टर जब दिल्ली के जीटीबी अस्पताल के बाहर पहुंचे तो लोगों ने अपनी शिकायतें बतानी शुरू कर दीं।

एक महिला ने कहा, ‘कल मैं अपने पापा को बिस्किट और पानी देकर गई। आज मैं आई तो यही नहीं पता कि मेरे पापा कहां हैं। न मिलने दे रहे, न बोलने दे रहे। गार्ड बोलते हैं, सीएमओ से लिखवाकर लाओ। सीएमओ कहते हैं , मैं यहां का इनचार्ज नहीं हूं।’

वहीं खड़ी एक अन्य महिला ने कहा, ‘यहां की लेडीज गार्ड ने मुझे मारा है। मैं अपने मरीज को लेने गई थी तो मुझे मारा। मेरा सिर फोड़ दिया। मुझे मेरा मरीज वापस चाहिए। हम उसे घर में मार देंगे।’ महिला के साथ मौजूद एक शख्स ने कहा, आधा घंटा पहले मरीज ठीक से खाना खाता है और आधा घंटा बाद डॉक्टर का फोन आता है कि आपका मरीज सीरियस है। 5 मिनट बाद कहा जाता है कि आपका मरीज मर गया। उसने दावा किया कि सुबह से 25-30 मरीज ऐसे ही मर चुके हैं।

वहीं मौजूद एक युवक ने कहा, मेरी पत्नी को कल कहा गया कि वह एक्सपायर हो गई हैं। मैं गया तो पता लगा कोई और एक्सपायर हुआ है।मैं सुबह से इधर से उधर भटक रहा हूं। मुझे पता ही नहीं चल रहा कि वह हैं कहां। इसी तरह की शिकायतें वहां मौजूद हर शख्स कर रहा था और यही कह रहा था कि मरीज वापस दिलवा दो। कई महिलाओं ने गार्ड पर भी बदसलूकी और मारपीट करने का आरोप लगाया।

बता दें कि राजधानी दिल्ली के अस्पतालों में जबरदस्त भीड़ है और बेड कम पड़ रहे हैं। वहीं मंगरवार को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि अगर केंद्र सरकार ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं करती तो सुबह तक हाहाकार मच जाएगा। उन्होंने कहा कि अधिकतर अस्पतालों के पास 8-10 घंटी की ही ऑक्सीजन बची है।

Next Stories
1 जब लालू प्रसाद यादव ने बताई थी पीएम मोदी की ‘उपलब्धि’, बताया- तीन मूर्ति की सरकार
2 कोरोना संकट पर बोले पीएम मोदी- देश को लॉकडाउन से बचाना है, अंतिम विकल्प के तौर पर ही इस्तेमाल करें राज्य
3 कोरोना पर बोले राकेश टिकैत, वे मांग रहे चंदा, किसानों के बीच फैला कोरोना तो जिम्मेदार सरकार की
यह पढ़ा क्या?
X