ताज़ा खबर
 

कोरोना की “सुनामी” के बीच टीके का टोटाः मोदी सरकार ‘फॉर्मूला’ खरीदे और कंपनियों को कराए मुहैया- दिल्ली CM का सुझाव

कहा कि कोविड-19 रोधी टीका बनाने वाली मूल दो कम्पनियों को उनका ‘फॉर्मूला’ दूसरी कम्पनियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने के लिए ‘रॉयल्टी’ दी जा सकती है।

Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: May 11, 2021 3:13 PM
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार को दिया सुझाव। (फोटो- पीटीआई)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को केन्द्र से कहा कि देश में टीका निर्माण बढ़ाने के लिए कोविड-19 रोधी टीके का निर्माण कर रही दो कंपनियों का ‘फॉर्मूला’ दूसरी कंपनियों के साथ साझा करें। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश में टीकों की कमी है और युद्ध स्तर पर टीके का निर्माण बढ़ाने की जरूरत है। अगले कुछ महीनों में सभी को टीका लगाए जाने की नीति तैयार की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि केन्द्र को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि टीके के निर्माण में सक्षम सभी संयंत्र में इसका निर्माण हो। उन्होंने कहा कि कोविड-19 रोधी टीका बनाने वाली मूल दो कम्पनियों को उनका ‘फॉर्मूला’ दूसरी कम्पनियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने के लिए ‘रॉयल्टी’ दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की अगली लहर आने से पहले सभी को टीका लगाने के लिए टीके का निर्माण बढ़ाने की जरूरत है।

उधर, पश्चिमी दिल्ली के पंजाबी बाग में कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए आवश्यक दवाइयों तथा इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के आरोप में 27 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने मंगलवार को बताया कि पश्चिम विहार के निवासी लवी नरूला ने अपने एक साथी राहुल से दवाइयां और इंजेक्शन खरीदे थे और बाद में एक इंजेक्शन तीन लाख रुपये में बेचा थे।

पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) उर्विजा गोयल ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर एक टीम का गठन किया गया और उसने आठ मई को छापेमारी की, जिसके बाद नरूला को पकड़ा गया। उन्होंने बताया कि पुलिस को आरोपी के पास से दो एक्टेम्रा 400 मिलीग्राम/20 मिलीलीटर टोसिलिजुमैब 400 मिलीग्राम/200 मिली, इंजेक्शन के लिए 10 लिपोसमल एम्फोटेरिसिन-बी 50 मिलीग्राम, 14 मेफेंर्टिमन सल्फेट इंजेक्शन आईपी टर्म 30 मिग्रा/मिली और 3,04,500 रुपये नगद बरामद किए हैं।

गोयल ने कहा, “जांच के दौरान, पता चला कि वह अपने एक साथी राहुल से ये दवाइयां खरीदता था और एक इंजेक्शन को तीन लाख रुपये में बेचा था, क्योंकि उसकी बहुत मांग है।”अधिकारी ने बताया कि उसका दवाइयों का काम है।

पुलिस ने बताया कि भादंवि की प्रासंगिक धाराओं और महामारी अधिनियम के तहत नरूला के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और सह-आरोपी राहुल की तलाश जारी है।

Next Stories
1 कोरोना: नई वैक्सीन नीति से शहर और गांव के बीच बढ़ी असमानता, CoWin App पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होने से और बढ़ रही खाई
2 कोरोनाः PM को सोनिया ने लिया था आड़े हाथ, तो नड्डा ने पूछा- पंजाब सरीखे सूबों में मृत्युदर अधिक क्यों?
3 कोरोना: 204 जिलों में कम हुआ टीकाकरण, 306 जिलों में 20% से ज्यादा पॉजिटिविटी
ये पढ़ा क्या?
X