ताज़ा खबर
 

‘पराली जलाने से 4% प्रदूषण ही होता है, तो दिल्ली में 15 दिन में क्यों खराब हुई हवा’, जावड़ेकर के दावे पर केजरीवाल का पलटवार

दिल्ली में आज सुबह 11.10 बजे एक्यूआई 321 पहुंच गया। इसके बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से प्रदूषण कम करने में सरकार का साथ देने की अपील की है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: October 15, 2020 2:54 PM
Arvind Kejriwal, Prakash Javadekarदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर पर निशाना साधा।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के बीच राजधानी और उसके आसपास के क्षेत्र में बढ़ते प्रदूषण को लेकर तीखी नोकझोंक हुई है। दरअसल, गुरुवार को ही जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा था कि पराली जलना दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण की वजह नहीं है, क्योंकि पराली जलाने से इस क्षेत्र में सिर्फ 4 फीसदी प्रदूषण ही होता है। 96 फीसदी प्रदूषण स्थानीय कारणों से हो रहे हैं, जैसे- बायोमास का जलना, कूड़े के फेंके जाने, बिना पेवमेंट वाली सड़कों के कारण, धूल और निर्माण कार्यों की वजह से।

इस पर पहले आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा ने जावड़ेकर पर निशाना साधा। चड्ढा ने कहा, “केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के 2019 के अनुमान कहते हैं कि दिल्ली के वायु प्रदूषण में 44 फीसदी का योगदान पराली जलाने की वजह से होता है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ‘SAFAR’ ने भी कहा है कि पंजाब और हरियाणा में पराली जलाए जाने का दिल्ली के प्रदूषण में 44 फीसदी का योगदान है। आखिर जावड़ेकर आज कल क्या ले रहे हैं?”

इसके बाद दिल्ली सीएम और आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल भी मैदान में कूद पड़े। उन्होंने कहा, “किसी बात को न मानने से फायदा नहीं है। अगर पराली जलाने से 4 फीसदी प्रदूषण ही होता है, तो आखिर क्यों पिछले 15 दिनों में प्रदूषण अचानक बढ़ गया? हवा इससे पहले तक साफ थी। हर साल वही कहानी। बीते कुछ दिनों में स्थानीय स्रोतों से प्रदूषण में कोई बड़ा उछाल नहीं आया है।”

गौरतलब है कि दिल्ली में आज सुबह 11.10 बजे एक्यूआई 321 पहुंच गया। इसके बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से प्रदूषण कम करने में सरकार का साथ देने की अपील की। केजरीवाल ने कहा, “हम वायु प्रदूषण का सामना करने के लिए ‘लाल बत्ती चालू, गाड़ी बंद’ अभियान चला रहे हैं। दिल्ली में एक करोड़ रजिस्टर्ड गाड़ियां हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अगर 10 लाख गाड़ियां भी ट्रैफिक सिग्नल पर इंजन बंद कर दें, तो एक साल में 1.5 टन पीएम-10 प्रदूषक कम हो जाएंगे।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सरकारी पैसे से धार्मिक पढ़ाई नहीं तो कुंभ पर 4200 करोड़ का खर्च क्यों, उदित राज ने उठाया सवाल तो संबित पात्रा ने दिया जवाब
2 Coronavirus Vaccine, Unlock 5.0 India HIGHLIGHTS: भारत बायोटेक ने बढ़ाई फेज-2 ट्रायल की रफ्तार, सरकार से मांगेगा फेज-3 परीक्षण की इजाजत
3 PM CARES में 50 सरकारी विभागों के कर्मचारियों की सैलेरी से गए 157 करोड़, 90% रेलवे से; PMO से नहीं मिला RTI का जवाब
यह पढ़ा क्या?
X