ताज़ा खबर
 

Delhi Assembly Polls 2020: हरदीप पुरी ने दिल्ली सरकार पर लगाया आरोप, “सरकार बच्चों के भविष्य से खेल रही है”

Delhi Assembly Polls 2020: पुरी ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली सरकार बच्चों के भविष्य से खेल रही है और शिक्षा प्रणाली को बर्बाद करने के बाद खुशियां मना रही है।

Delhi Assembly Polls 2020: केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने केजरीवाल सरकार पर दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था को तबाह करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि दिल्ली सरकार बच्चों के भविष्य से खेल रही है। पुरी ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली सरकार बच्चों के भविष्य से खेल रही है और शिक्षा प्रणाली को बर्बाद करने के बाद खुशियां मना रही है। उन्होंने (दिल्ली सरकार) अपनी असफलताओं से ध्यान भटकाने के लिए झूठ का पुलिंदा खोल रखा है। स्कूलों में उत्तीर्ण होने वाले बच्चों की संख्या में लगातार गिरावट आई है। दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) राष्ट्रीय राजधानी में विश्वस्तरीय शिक्षा मॉडल लागू करने को केजरीवाल सरकार की बड़ी उपलब्धि के रूप में पेश कर रही है।

पुरी ने आप सरकार के दावों पर छात्रों के उत्तीर्ण होने के आंकड़ों के हवाले से सवाल किए कि सेकेंडरी स्कूल की परीक्षा में सफल होने वाले विद्यार्थियों का आंकड़ा 2014 में 99.4 फीसद से घटकर 2018 में 68.9 फीसद हो गया। क्या यह गर्व करने की बात है? उन्होंने कहा कि कक्षा तीन, पांच और आठवीं के विद्यार्थियों की शिक्षा का स्तर राष्ट्रीय औसत से 10 फीसद कम है और वो लोग (दिल्ली सरकार) इसको सफलता कहते हैं। पुरी ने कहा कि विद्यार्थियों की पूरी क्षमता निखर नहीं पा रही है क्योंकि इनमें से एक तिहाई स्कूलों में विज्ञान स्ट्रीम का विकल्प ही नहीं है। विचलित करने वाली बात तो यह है कि राज्य सरकार की कुछ नीतियों के कारण कई निजी स्कूल बंद हो गए हैं। इससे वे बच्चे अधर में रह गए हैं जो विज्ञान पढ़ना चाहते थे।

पुरी ने के एमसीडी में बदहाली के लिए भी दिल्ली सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि दिल्ली सरकार ने शहर की शिक्षा प्रणाली और एमसीडी स्कूलों के अध्यापकों के मनोबल को तहस नहस कर दिया है। एमसीडी, शिक्षा पर जो पैसे खर्च करती है उसका 70 फीसद हिस्सा दिल्ली सरकार से वापस मिलना होता है। लेकिन रोड़ा अटकाने की आदत के कारण उन्होंने (दिल्ली सरकार) यह पैसा भी रोक रखा है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने नगर निगमों पर दिल्ली सरकार के बकाए के आंकड़ों के हवाले से कहा कि दिल्ली सरकार के पास उत्तरी एमसीडी के 3,941 करोड़ रुपए, पूर्वी एमसीडी के 569 करोड़ और दक्षिणी एमसीडी के 223 करोड़ रुपए बकाया हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कन्नौज हादसा: लग्जरी बस में ट्रक से टक्कर के बाद लगी भीषण आग, जिंदा जल गए 20 ज्यादा यात्री; CM योगी ने जताया दुख
2 VIDEO: भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने दी चेतावनी-यदि हमारे कार्यकर्ताओं को परेशान किया तो हमने चूड़ियां नहीं पहनी है
3 ‘पीएम को विदेशी लोगों पर विश्वास और हम पर अविश्वास क्यों हैं’, J&K में विदेशी राजनयिकों के दौरे पर कांग्रेस ने कसा तंज
ये पढ़ा क्या?
X