ताज़ा खबर
 

Delhi Assembly Polls 2020: पॉश इलाकों में बिजली और पानी अब कोई मुद्दा नहीं

Delhi Assembly Polls 2020: लाजपत नगर निवासी रविंदर कपूर कहते हैं कि जेजे कलस्टर और अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों को फायदा मिला है।

Author Updated: January 15, 2020 3:04 AM
दिल्ली की जितनी भी पॉश कॉलोनियां है, इनमें अधिकतर मध्यम परिवार के लोग ही रहते हैं।

Delhi Assembly Polls 2020: ‘बिजली हाफ और पानी माफ’ का नारा देकर दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी के नेता और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके सिपहसलारों को भले लगता हो कि बिजली और पानी की सब्सिडी इस बार के चुनाव में भी उनका बेड़ा पार लगा देगी, लेकिन दिल्ली के पॉश इलाकों में यह बेअसर लग रहा है। मलीन बस्तियों से लेकर अनधिकृत कॉलोनियों तक बिजली-पानी और बसों में महिलाओं की मुफ्त में यात्रा का असर बेशक महसूस किया जा रहा हो, लेकिन ग्रीन पार्क, सीआर पार्क, लाजपत नगर, मालवीय नगर, नव जीवन विहार, हौज खास, ग्रेटर कैलाश सहित राजधानी के कई पॉश कॉलानियों में रहने वाले लोगों को बिजली-पानी का यह मुद्दा नहीं लुभा पा रहा है।

मालवीय नगर आरडब्लूए के अध्यक्ष संजीव राव का कहना है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था कि बिजली का बिल हाफ कर दिया जाएगा और पानी माफ कर दिया जाएगा। पर सत्ता में आने के बाद इसकी सीमा निर्धारित कर दी गई, जिसमें कहा गया कि 250 यूनिट तक बिजली माफ होगी। अब कहा जा रहा है कि 400 यूनिट तक सब्सिडी दी जाएगी। हकीकत यह है कि मालवीय नगर में रहने वाले शायद ही कोई ऐसा परिवार होगा, जिसका बिजली बिल शून्य आया हो। उनका आरोप है कि ‘नल से जल’ देने की योजना की शुरुआत भी मालवीय नगर विधानसभा में की गई थी, लेकिन नल से मिलने वाला जल बदबू मारता है।

सुबह तीन-चार घंटे ही पानी आता है। यदि बिजली नहीं हो तो पानी के लिए टैंकर मंगवाना पड़ता है। मालवीय नगर निवासी शिवानी बहल का कहना है कि बिजली हाफ और पानी माफ माध्यम वर्ग परिवार के लिए मुद्दा नहीं है। दिल्ली की जितनी भी पॉश कॉलोनियां है, इनमें अधिकतर मध्यम परिवार के लोग ही रहते हैं। मोबाइल फोन पर रिकॉडेड संदेश जरूर सुनने को मिल रहा है कि दिल्ली में बिजली का शून्य बिल आ रहा है और पानी का बिल नहीं आ रहा, पर सच्चाई यह है कि हर महीने पानी और बिजली का बिल आया है। इलाके में कुछ देर ही पानी आता है। जबकि जेजे कलस्टर और अनधिकृत कॉलोनियों में 24 घंटे पानी आता है।

लाजपत नगर निवासी रविंदर कपूर कहते हैं कि जेजे कलस्टर और अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों को फायदा मिला है। लेकिन लाजपत नगर में अधिकतर लोग हैं, जिनको बिजली और पानी की योजना का लाभ सर्दियों में भी नहीं मिल रहा है। रविंदर कपूर के मुताबिक, सरकार ने कुछ कार्य जरूर किए हैं, मोहल्ला क्लीनिक खोले गए हैं। नवजीवन विहार निवासी सोनिया मलिक का कहना है कि 250 यूनिट के हिसाब से तकरीबन सात-आठ यूनिट रोज की खपत होनी चाहिए। लेकिन गर्मियों में तो कूलर और पंखे चलाने पर ही रोजाना कम से कम 20-30 यूनिट की खपत होती है। सर्दियों में खपत 10-12 यूनिट प्रतिदिन रहती है। ऐसे में यह कैसे संभव है कि हर स्तर के परिवार को इस योजना लाभ मिल रहा है।

निर्भय कुमार पांडेय

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Ramnath Goenka Awards 2020: रामनाथ गोयनका एक्सीलेंस इन जर्नलिज्म अवार्ड्स का आयोजन 20 जनवरी को, राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित
2 7th Pay Commission: मोदी सरकार के Budget 2020 से इन कर्मचारियों को ढेरों आस, जानिए क्या कुछ हो सकता है खास
3 ‘…अब देखना है किसका हाथ मजबूत है, हमारा या उस कातिल का’, कांग्रेस लीडर मणिशंकर अय्यर ने CAA, NRC को लेकर दिया बड़ा बयान
ये पढ़ा क्‍या!
X