ताज़ा खबर
 

Delhi Assembly Elections 2020: छात्र राजनीति से निकलकर सीधे जनता के बीच, डूसू के छह पूर्व अध्यक्ष मैदान में

Delhi Assembly Elections 2020: इस विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने चांदनी चौक से अलका लांबा, मालवीय नगर से नीतू सिंह और राजेंद्र नगर से रॉकी तुसीद को टिकट दिया है।

Author नई दिल्ली | Updated: January 22, 2020 6:35 AM
एनएसयूआइ की ओर से डूसू की अध्यक्ष चुनी गर्इं अलका लंबा पिछले चुनाव में आम आदमी पार्टी के टिकट पर चांदनी चौक से जीती थीं।

Delhi Assembly Elections 2020: दिल्ली विधानसभा चुनाव में इस बार दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) के छह पूर्व अध्यक्ष मैदान में उतरे हैं। इनमें तीन को कांग्रेस और तीन को भारतीय जनता पार्टी ने टिकट दिया है। इसके अलावा डूसू से संबंधित अन्य पदाधिकारी भी चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय अपनी पढ़ाई के साथ-साथ देश को बेहतरीन राजनेता देने के लिए भी जाना जाता है। यहां के छात्र संघ से चुनाव लड़ने वाले कई विद्यार्थी आगे चलकर बड़े नेता बने।

इस विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने चांदनी चौक से अलका लांबा, मालवीय नगर से नीतू सिंह और राजेंद्र नगर से रॉकी तुसीद को टिकट दिया है। वहीं, भाजपा ने किराड़ी से अनिल झा, शालीमार बाग से रेखा गुप्ता और जनकपुरी से आशीष सूद को उम्मीदवार बनाया है। ये सभी डूसू में अध्यक्ष रहे हैं। वहीं, डूसू के उपाध्यक्ष रहे विजेंद्र गुप्ता रोहिणी से भाजपा उम्मीदवार हैं। साल 1995 में एनएसयूआइ की ओर से डूसू की अध्यक्ष चुनी गर्इं अलका लंबा पिछले चुनाव में आम आदमी पार्टी के टिकट पर चांदनी चौक से जीती थीं। कुछ समय पहले आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देकर अलका फिर से कांग्रेस से जुड़ी हैं और कांग्रेस ने उन्हें चांदनी चौक से ही उम्मीदवार बनाया है।

1996 में एबीवीपी की ओर से डूसू की अध्यक्ष चुनी गर्इं रेखा गुप्ता को भाजपा ने शालीमार बाग से चुनाव मैदान में उतारा है। 1997 में एबीवीपी की ओर से डूसू अध्यक्ष बने अनिल झा को भाजपा ने किराड़ी सीट और डूसू अध्यक्ष रहे आशीष सूद जनकपुरी से भाजपा के उम्मीदवार हैं। 2001 में एनसीयूआइ की ओर से डूसू के अध्यक्ष पद पर विजयी रहीं नीतू वर्मा को कांग्रेस ने मालवीय नगर से टिकट दिया है। इसी क्रम में सबसे नया नाम है रॉकी तुसीद का। रॉकी 2017 में एनएसयूआइ की ओर से डूसू अध्यक्ष पद पर जीते थे। कांग्रेस पार्टी ने उन्हें राजेंद्र नगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतारा है।

मंत्री के पद तक पहुंचे कई छात्र

अरुण जेटली 1974 में डूसू के अध्यक्ष थे। वह देश के वित्त व कानून मंत्री रहे। विजय गोयल 1977 में डूसू अध्यक्ष बने और वर्तमान में वह राज्य सभा सांसद हैं। 1985 में डूसू के अध्यक्ष बने अजय माकन पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे हैं। 1980 में डूसू के अध्यक्ष रहे विजय जौली दिल्ली में विधायक रहे हैं। वर्ष 2008 में डूसू की अध्यक्ष रहीं नुपूर शर्मा भाजपा प्रवक्ता हैं और पिछले चुनाव में नई दिल्ली विधानसभा सीट से अरविंद केजरीवाल के खिलाफ भाजपा उम्मीदवार थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Delhi Assembly Election 2020: भाजपा सहयोगियों के साथ उतरी मैदान में, लोजपा को भी दी सीटें
2 Delhi Assembly Polls 2020: भाजयुमो के अध्यक्ष देंगे केजरीवाल को टक्कर
3 Delhi Assembly Polls 2020: अंतिम दिन परचा भरने उमड़ा छोटे-बड़े नेताओं का सैलाब, आकड़ा 600 के पार
ये पढ़ा क्या?
X