ताज़ा खबर
 

Delhi Anaj Mandi Fire: महज 2 हजार रुपए में 16 घंटे काम करते थे नाबालिग मजदूर, अग्निकांड में जिंदा बचे बच्चों ने सुनाई आपबीती

पुलिस के मुताबिक उनसे बड़ों के बराबर काम लिया जाता था, लेकिन उनकी तुलना में वे आधे या उससे भी कम वेतन पाते थे।

दिल्ली अनाज मंडी के इसी बिल्डिंग में आग लगी थी। (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

दिल्ली में रविवार को अनाज मंडी में मारे गए 43 लोगों में सात लोग ऐसे थे जिन्हें बहुत मामूली वेतन पर अवैध रूप से रखा गया था। घटना की जांच कर रही पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारियों के मुताबिक आग लगने पर लगभग 20 नाबालिग इमारत के अंदर थे। सात घायल नाबालिगों में से तीन लंचबॉक्स कवर करने और बैग और जैकेट बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले रेक्सिन को काटने के लिए दो अलग-अलग कारखानों में काम करने वाले कर्मचारी थे। तीन घायल श्रमिकों में से 15 वर्षीय एक लड़का बोल भी नहीं सकता था।

बहुत ही छोटे और तंग कमरों में रहते थे लड़के :  मीडिया सूत्रों के मुताबिक “तीसरे तल के दो अलग-अलग कारखानों में किशोर श्रमिक काम करते थे। उन्हें हर महीने दो से तीन हजार रुपए दिए जाते थे और वे वहीं रहते थे।” हादसे में घायल सभी सातों श्रमिक बिहार के रहने वाले थे। पुलिस के मुताबिक ये लड़के बहुत ही छोटे और तंग कमरों में रहते थे। इनमें क्षमता से दो गुने लोगों को रखा गया था। इनसे 12 से 16 घंटे काम लिया जाता था। एक पुलिस अधिकारी ने बताया,”पुलिस के मुताबिक उनसे बड़ों के बराबर काम लिया जाता था, लेकिन उनकी तुलना में वे आधे या उससे भी कम वेतन पाते थे।”

Hindi News Today, LIVE Updates: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अस्पताल छोड़कर चला गया एक किशोर : अधिकारी के मुताबिक हादसे में बचे किशोर 10 से 17 वर्ष आयु के हैं। 10 साल के लड़के ने अपने बयान में बताया है कि वह कोई कामगार नहीं था, बल्कि हादसे में मृत एक व्यक्ति का रिश्तेदार था। वह कुछ दिन पहले उससे मिलने आया था। 17 वर्षीय एक लड़का अस्पताल छोड़कर चला गया है। उसे बेहोशी की हालत में भर्ती कराया गया था। पुलिस उसके बयान को दर्ज करने के लिए उसका पता लगाने की कोशिश कर रही है।

रिपोर्ट में पुलिस ने धारा 79 को भी जोड़ा : गुरुवार को जांच टीम ने दर्ज रिपोर्ट में किशोर न्याय अधिनियम की धारा 79 को भी जोड़ा। इसके अलावा बचे हुए किशोरों के बयानों पर भी विचार किया गया। इसमें खुलासा किया गया था कि उन्हें काम करने के लिए अमानवीय परिस्थितियों में रखा गया था। जांचकर्ताओं ने कहा कि 10 साल से कम उम्र के दो बच्चे अपनी मां के साथ पहली मंजिल पर रह रहे थे। दूसरी मंजिल पर आग लगने के बाद मां के जाग जाने से तीनों बच निकलने में सफल रहे। जांचकर्ता के मुताबिक “हमें पता चला है कि आग लगने पर कम से कम चार और नाबालिग इमारत के अंदर थे। वे शायद बच गए होंगे। हम उन्हें पहचानने और उनका पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। उनके बयानों से जानने में मदद मिलेगी कि आग कैसे लगी।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गंगा काउंसिल बनने के तीन साल बाद पहली बैठक लेने जा रहे पीएम नरेंद्र मोदी
2 PM मोदी: नॉर्थ ईस्ट के लोग अपने ‘सेवक’ पर भरोसा रखें, आंच नहीं आने दूंगा; कांग्रेस ने सिर्फ धूल- धुआं व धोखा दिया
3 औद्योगिक उत्पादन 3.8% गिरा, तीन साल के उच्चतम स्तर पर खुदरा महंगाई, 6 साल में पहली बार खाद्य महंगाई 10% पार, और त्रस्त हो सकते हैं आमजन
यह पढ़ा क्या?
X