ताज़ा खबर
 

LAC विवादः चीनी सरहद पर फौज तैयार, हाल जानने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जाएंगे लेह, आर्मी चीफ भी रहेंगे साथ

भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले सात सप्ताह से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में कई जगहों पर गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। गत 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़पों में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद तनाव और बढ़ गया।

Inda China, Rajnath Singh,रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लद्दाख में चीनी सेना के साथ सीमा पर गतिरोध के मद्देनजर भारत की सैन्य तैयारियों का जायजा लेने के लिए शुक्रवार को क्षेत्र का दौरा कर सकते हैं।(फाइल फोटो-ANI)

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लद्दाख में चीनी सेना के साथ सीमा पर गतिरोध के मद्देनजर भारत की सैन्य तैयारियों का जायजा लेने के लिए शुक्रवार को क्षेत्र का दौरा कर सकते हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लद्दाख यात्रा के दौरान सिंह सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक कर सकते हैं।

भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले सात सप्ताह से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में कई जगहों पर गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। गत 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़पों में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद तनाव और बढ़ गया। इस झड़प में चीन के सैनिक भी हताहत हुए लेकिन पड़ोसी देश ने अभी तक उनकी संख्या नहीं बताई है।

बता दें कि भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर टेंशन बढ़ती जा रही है। लद्दाख में वास्तवीक नियत्रंण रेखा (LAC) पर चीन ने 20 हजार जवानों को तैनात किया है। चीन की ओर से सेना के दो डिविजन की तैनाती भारतीय सीमा की तरफ की गई है। चीन को जवाब देने के लिए भारत ने भी सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी है।

सूत्रों का कहना है कि तिब्बत क्षेत्र में चीनी की आम तौर पर भी दो टुकड़ियां होती हैं, लेकिन इस बार उन्होंने भारतीय चौकियों के खिलाफ तैनाती के लिए 2,000 किलोमीटर दूर स्थानों से करीब दो प्रभागों को अतिरिक्त रूप से तैनात किया है। चीन ने दो हजार किलोमीटर दूर से अतिरिक्त डिविजन मंगाए हैं।

उधर, भारत और चीन की सेनाओं ने मंगलवार को करीब 12 घंटे की कमांडर स्तरीय वार्ता में प्राथमिकता के साथ जल्द, चरणबद्ध और क्रमिक तरीक से तनाव घटाने पर जोर दिया। सैन्य सूत्रों ने इस बारे में बताया है। पूर्वी लद्दाख में सात सप्ताह से दोनों सेनाओं के बीच बढ़े तनाव को खत्म करने के मकसद से कमांडर स्तरीय वार्ता हुई है। सूत्रों ने बताया कि बैठक में हुई चर्चा से व्यक्त होता है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव घटाने के लिए दोनों पक्ष प्रतिबद्ध हैं।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 COVID-19 काल में Coronil को ‘क्लीनचिट’: नहीं किया सरकार संग कोई मैनेजमेंट, न PMO को घुमाया फोन, न ही गृह मंत्री से हुई बात- रामदेव ने किया साफ
2 नरेंद्र मोदी ने चीन के Weibo से हटने का लिया फैसला, पोस्ट डिलीट; BJP बोली- PM ने दिया स्पष्ट संदेश
3 Coronil के दावे पर संकट में रामदेव! अब उत्तराखंड HC से योगगुरु और Divya Pharmacy को नोटिस, चिट्ठी में केंद्र सरकार सहित 5 के नाम