ताज़ा खबर
 

दीपिका पादुकोण की Chhapaak फिल्म का करें बहिष्कार, JNU में किया था ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थन; BJP सांसद बोले

Deepika Padukone Chhapaak JNU, BJP: दीपिका पादुकोण मंगलवार को जेएनयू गयीं थीं और उन्होंने नकाबपोश गुंडों के हमले में घायल छात्र-छात्राओं से मुलाकात की थी।

Author Updated: January 8, 2020 4:55 PM
Chhapaak एक्ट्रेस Deepika Padikone मंगलवार शाम JNU पहुंची थीं।

Deepika Padukone Chhapaak JNU, BJP: दक्षिणी दिल्ली के भाजपा सांसद रमेश बिधूड़ी ने ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थन करने के कारण लोगों से बॉलीवुड ऐक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की आगामी फिल्म ‘छपाक’ का बहिष्कार करने के लिए कहा है। बता दें कि एक दिन पहले ही अदाकारा नकाबपोश गुंडों के हमले के शिकार हुए छात्रों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) गयी थीं। वहीं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ‘‘यह लोकतांत्रिक देश है। कोई कलाकार ही क्यों, कोई भी सामान्य व्यक्ति कहीं जा सकता है, अपनी राय रख सकता है।”

क्या बोले बीजेपी सांसद: बिधूड़ी ने कहा कि देश के खिलाफ खड़ा होने वाले लोगों के साथ दिखने की बजाय बॉलीवुड सितारों से फिल्मों के जरिए देश में युवाओं को सकारात्मक संदेश देने की अपेक्षा होती है। पादुकोण मंगलवार को जेएनयू गयीं थीं और उन्होंने नकाबपोश गुंडों के हमले में घायल छात्र-छात्राओं से मुलाकात की थी।

Hindi News Today, 8 January 2020 LIVE Updates: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

केंद्रीय मंत्री का बयान: मंत्रिमंडल की बैठक के बाद प्रकाश जावड़ेकर ने मीडिया के सवाल के जवाब में कहा, ‘‘यह लोकतांत्रिक देश है । कोई कलाकार ही क्यों, कोई भी सामान्य व्यक्ति कहीं जा सकता है, अपनी राय रख सकता है । इसमें कोई आपत्ति नहीं, कभी किसी ने आपत्ति की भी नहीं।’’ इस बारे में कई सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि मैं भाजपा का मंत्री भी हूं और प्रवक्ता भी और मैं यह बात कह रहा हूं।

JNU पहुंची तहि दीपिका: बता दें कि बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्रों पर हुए हमले के बाद अपनी एकजुटता दिखाने के लिए मंगलवार को जेएनयू पहुंची लेकिन उन्होंने वहां मौजूद लोगों को संबोधित नहीं किया। 34 वर्षीय अभिनेत्री दीपिका पादुकोण दिल्ली में अपनी आगामी फिल्म ‘छपाक’ के प्रचार के लिए आईं थी। उनके जेएनयू जाने को लेकर विवाद उत्पन्न हो गई जब एक वर्ग ने इसकी आलोचना की जबकि दूसरे वर्ग ने इसे सराहा।

Next Stories
1 राजनीतिक दलों को चंदा देने संबंधी सूचना वाली आरटीआई का जवाब देने का निर्देश, सीईआसी ने सुनाया फैसला
2 VIDEO: बरसे कन्हैया कुमार- PM कहते हैं पकौड़ा तलना है रोजगार, तो अमित शाह क्यों नहीं बेटे को खुलवा देते हैं दुकान?
3 Bharat Bandh: ममता बनर्जी का लेफ्ट पार्टियों पर हमला, कहा- गुंडागर्दी कर पब्लिसिटी पाने से बेहतर है ‘राजनैतिक मौत’
ये पढ़ा क्या?
X