ताज़ा खबर
 

अमिश देवगन बोले, सरकारों ने बेची है हिंदू आतंकवाद की थ्योरी, अब कहां गायब? सुबुही खान ने IS, जैश का नाम ले मुस्लिम पैनलिस्ट को ‘धोया’

अपने डिबेट शो में अमिश देवगन ने कहा कि हिंदू आतंकवाद की धारणा को खारिज करते हुए कहा कि यह शब्द केवल राजनीति में इस्तेमाल के लिए था। वकील सुबुही खान ने कहा कि इस्लाम गलत रास्ते पर किया जा रहा है।

Hindu muslim, isis, pakistan, terroristअमिश देवगन बोले, कभी था ही नहीं हिंदू आतंकवाद।

फ्रांस में पैगंबर मोहम्मद के कार्टून के बाद सिलसिलेवार की गई हत्याओं की वजह से एक बार फिर कट्टरवादी सोच की दुनियाभर में आलोचना हो रही है। इस बीच बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो इन हत्याओं को जायज भी ठहरा रहे हैं। एक टीवी डिबेट में ऐंकर अमिश देवगन ने कहा कि जिस हिंदू आतंकवाद की थ्योरी को कई सरकारों ने बेचा आखिर वह थ्योरी आज कहां गायब हो गई? केवल साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित के नाम पर यह थ्योरी गढ़ दी गई थी और वे भी बरी हो गए। अब आखिर यह थ्योरी कहां गायब हो गई। उन्होंने मुगल आक्रांताओं का जिक्र करते हुए कहा कि देश में हिंदू आतंकवाद कभी था ही नहीं।

डिबेट में वकील सुबुही खान ने भी फ्रांस की हत्याओं को जायज करार देने वाले पैनल्स्ट्स को खूब लताड़ा। उन्होंने कहा, ‘इस्लाम के नाम पर इस्लामिक स्टेट चलाते हैं। मोहम्मद के नाम पर जैश-ए -मोहम्मद चलाते हैं आप। अल्ला हु अकबर बोलकर हत्या करते है। ये जायज और नाजायज की बात करते हैं। क्या गजवा-उल-हिंद के नाम पर हमारे देश को बांटना जायज है? क्या हमारे हजारों मंदिर विध्वंस कर देना जायज है? क्या अपनी नस्लें फैलाना के लिए हमारी बहन-बेटियों के साथ बलात्कार करना जायज है? क्या इस्लामिक स्टेट के नाम पर देश को बांट देना जायज है? क्या लव जिहाद के नाम पर जिहाद करना जायज है?’

सुबुही ने योगी आदित्यनाथ के बयान पर सहमति जताते हुए कहा, ‘अगर ये लोग नहीं सुधरे तो राम नाम सत्य करने का वक्त आ गया है। क्या आप हमारी जान ले लें और हम आपकी गिरेबन भी न पकड़ें? आपके आतंकवाद ने हजरत अली को मारा, बीबी फातिमा को माना।’ इसपर वकील असगर खान ने कहा, ‘तुम मुसलमान नहीं हिंदू हो। तुम जैसी मुसलमान को इस्लाम की जरूरत नहीं है। आप अपनी जुबान पर लगाम लगाइए।’ सुबुही खान ने जवाब दिया, ‘हां मैं हिंदू भी हूं और मुसलमान भी हूं।’ इस बहस में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा, लेखक तारेक फतेह, मुस्लिम वचार अतीक-उर-रहमान भी मौजूद थे।

दरअसल अमिश देवगन ने बहस की शुरूआत हिंदू आतंकवाद की धारणा को खारिज करते हुए की। उन्होंने कहा था, ‘दिल्ली में शीशगंज गुरुद्वारा है। गुरुओं के शीश काट दिए गए, लोगों को कढ़ाई में तल दिया गया। यह कौन सा हिंदू आतंकवाद था? इसका जवाब जिस दिन हो उस दिन हिंदू आतंकवाद की बात करिएगा। इस सच को बोलना बहुत जरूरी है। लेकिन ऐसा लगता है कि लोग दुनिया में सच बोलने से डरते हैं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विशेषज्ञ की कलम से:विज्ञापन की दुनिया में अपना भविष्य चमकाएं
2 परामर्श: सफलता के लिए जरूरी है समझदारी और सकारात्मकता
3 जानें-सीखें : कॅप्चा से मानव या मशीन की होती है पहचान
ये पढ़ा क्या?
X