ताज़ा खबर
 

पीछे हटने को राज़ी होने के बाद भी चीन ने नहीं छोड़ी अकड़: दिया कड़ा बयान, भारत ने नहीं किया खंडन

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प को दिमाग में रखते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि दोनों पक्षों को चरणबद्ध तरीके से एलएसी से सैनिकों को वापस बुलाना चाहिए।

Author नई दिल्ली | Updated: July 7, 2020 10:29 AM
india china tension ajit dovalअजीत डोवाल और वांग यी के बीच हुई मुलाकात में सीमा पर तनाव कम करने पर सहमति बनी है।

 Shubhajit Roy

एलएसी पर जारी तनाव को कम करने की कोशिशों के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और चाइनीज स्टेट काउंसलर और विदेश मंत्री वांग यी के बीच रविवार को अहम बातचीत हुई, जिसमें दोनों पक्ष एलएसी पर सेनाओं को जल्द पीछे हटाने और शांति कायम करने के लिए सहमत हुए हैं। डोवाल और वांग यी दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधि हैं, जिनकी मुलाकात 2018 और 2019 में भी हो चुकी है।

इससे पहले भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच 17 जून को बातचीत हुई थी। हालांकि 15 जून को गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद यह बातचीत गर्मजोशी के माहौल में नहीं हुई थी। सोमवार को विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि डोवाल और वांग दोनों तरफ से सैनिकों की जल्द वापसी पर सहमत हुए हैं।

एलएसी पर दोनों सेनाओं के पीछे हटने के बाद जहां भारतीय विदेश मंत्रालय ने सधा हुआ और संतुलित बयान दिया है। वहीं चीनी विदेश मंत्रालय ने गलवान घाटी हिंसा पर कुछ कठोर बातें कही हैं। चीनी विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि भारत चीन सीमा के पश्चिमी बॉर्डर पर गलवान घाटी में जो हुआ, उसका सही और गलत पूरी तरह से स्पष्ट है। चीन अपनी सीमा और क्षेत्रीय संप्रभुत्ता की रक्षा के साथ ही सीमा पर शांति की आगे भी कोशिश करता रहेगा। हालांकि चीन की तरफ से अब गलवान घाटी पर अपना दावा पेश नहीं किया गया ।

भारत की तरफ से चीन के बयान का खंडन नहीं किया गया है। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्ष हाल के समय में मिलिट्री और कूटनीतिक स्तर पर हुई बातचीत से जो हासिल हुआ है, उसका स्वागत करते हैं और आगे भी बातचीत जारी रखेंगे। कमांडर लेवल की मीटिंग में जो आम सहमति बनी उसकी अहमियत पर जोर देते हुए फ्रंट लाइन सैनिकों की जल्द वापसी की हरसंभव कोशिश करेंगे।

चीनी विदेश मंत्रालय ने ये भी कहा कि दोनों पक्ष आपसी संचार को मजबूत करेंगे और सीमा विवाद पर लगातार बैठकों और चर्चा का दौर जारी रहेगा। विश्वास बहाली की कोशिशें की जाएंगी, ताकि सीमाई इलाकों में और ऐसी (गलवान) घटनाएं ना हों और सीमा पर शांति स्थापित की जा सके।

वहीं भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि दोनों पक्षों को चरणबद्ध तरीके से एलएसी से सैनिकों को वापस बुलाना चाहिए। दोनों पक्ष एलएसी का सम्मान करें और उस पर नजर रखें। किसी भी पक्ष को सीमा पर यथास्थिति से छेड़छाड़ की एकतरफा कार्रवाई से बचना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना वायरस की टेस्टिंग से जुड़ी शीर्ष वैक्सीन साइंटिस्ट डॉ. गगनदीप कंग का इस्तीफा, स्वदेशी रोटावायरस वैक्सीन में बनाने में निभाई थी अहम भूमिका
2 पंजाब में कोरोना संक्रमण की दर देश में सबसे कम
3 07 जुलाई का इतिहास: क्रिकेट की तीनों विश्व प्रतियोगिताएं जीतने वाले कप्तान धोनी का आज ही के दिन हुआ था जन्म
ये पढ़ा क्या?
X