ताज़ा खबर
 

ISI ने बदला दाऊद इब्राहिम का ठिकाना, कराची से मूरी पहुंचा आतंकी

दाउद से जुडे़ अड्डों की खबरें भारतीय मीडिया में दिखाए जाने के बाद पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने आतंकी ठिकाना बदल दिया है।
ISI ने बदला दाऊद इब्राहिम का ठिकाना, कराची से मूरी पहुंचा आतंकी

दुनिया भर में जहां आतंकी संगठन आतंकी संगठन ने दहशत फैला रखी है तो वहीं दूसरी ओर 1993 में मुंबई के सीरियल बम धमाकों के गुनाहगार अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भी आतंकी घटनाओं की साजिश रचने के लिए एक के बाद एक ठिकाने बदल रहा है।

दरअसल, दाउद से जुडे़ अड्डों की खबरें भारतीय मीडिया में दिखाए जाने के बाद पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने आतंकी ठिकाना बदल दिया है।

बताया जा रहा है कि दाऊद को उसके कराची वाले घर से निकाल कर सुरक्षित ठिकाने पर भेजा गया है, लिहाजा अब आतंकी दाऊद का नया ठिकाना पाकिस्तान के मुर्री में है।

बताते चलें कि पाक के मुर्री में दाउद से पहले पाक सेना का ठिकाना भी है। जानकारी के मुताबिक दाऊद के साथ साथ उसकी पत्नी, बेटी और छोटे भाई अनीस इब्राहिम को भी उसके साथ ही सुरक्षित ठिकाने पर भेजा गया है।

सूत्रों के मुताबिक मिली जानकारी से पता चला है कि खुफिया एजेंसियों के पास दाऊद से जुड़े ऐसे दस्तावेज हैं जिनसे साबित होता है कि दाऊद पाकिस्तान में ही है। यही नहीं, एजेंसियों के पास 59 साल के दाऊद का नया फोटो भी है, जिसमें वो बिना दाढ़ी और मूछ के नजर आ रहा है।

इनमें न केवल दाऊद के घर का पता दर्ज है बल्कि उसका मोबाइल नंबर भी है। ये सबूत पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित के उन दावों की हवा निकालने के लिए काफी हैं जिनमें उन्होंने कहा था कि दाऊद पाकिस्तान में नहीं है तो उसे भारत को सौंपने का सवाल कहां पैदा होता है? लेकिन ये दस्तावेज साबित करते हैं कि पाकिस्तान दाऊद को लेकर लगातार झूठ बोलता आया है।

खुफिया एजेंसियों को दाऊद की पत्नी मेहजबीन शेख का अप्रैल 2015 का टेलीफोन बिल मिला है। इसमें कराची के पास स्थित क्लिफ्टन कॉलोनी का पता है। दाऊद पत्नी महजबीन शेख, बेटे मोइन नवाज, बेटियों माहरुख, महरीन और माजिया के साथ रहता है।

गौरतलब है कि दाऊद के पास मौजूद तीन पाकिस्तानी पासपोर्ट के मुताबिक उसके कराची में ही दो और रिहायशी ठिकाने भी हैं। इनमें से एक का पता है- 6 ए, खायाबन तंजीम फेज 5, डिफेंस हाउसिंग एरिया, और दूसरा पता है- मोइन पैलेस, सेकेंड फ्लोर, अब्दुल्ला शाह गाजी दरगाह के पास, क्लिफ्टन।

दाऊद के इन पासपोर्ट की कॉपी खुफिया एजेंसियों के पास है। दाऊद भी याकूब मेमन की तरह मुंबई में 1993 में हुए बम धमाकों का मुख्य आरोपी है। इन सिलसिलेवार धमाकों में 257 लोगों की मौत हो गई थी। मेमन को तो फांसी हो गई लेकिन दाउद अभी भी जिंदा है और अपनी दहशत फैलाने की साजिश रच रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App