ताज़ा खबर
 

मोहम्मद कैफ के सूर्य नमस्कार को उलेमा ने बताया इस्लाम विरोधी, कहा- तौबा करें, गलती सुधारें, शरीयत का विरोध न करें

पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ के सूर्य नमस्कार करने को दारुल उलूम ने मजहब के खिलाफ बताया है।

Author January 3, 2017 10:00 AM
मोहम्मद कैफ सूर्य नमस्कार करते हुए। (Source: Twitter)

पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने हाल ही में ट्विटर पर अपनी सूर्य नमस्कार करते हुए तस्वीरें पोस्ट की थीं जिसके बाद वह कट्टरपंथियों के ट्रोल के निशाने पर आ गए। इसी बीच कैफ के सूर्य नमस्कार को लेकर बखेड़ा अभी खत्म होता नजर नहीं आ रहा है। दारुल उलूम ने कैफ के सूर्य नमस्कार करने को मजहब के खिलाफ बताया है। सूर्य नमस्कार पर दारुल उलूम पहले भी फतवा जारी कर चुका है जिसके तहत मुस्लिमों के लिए इसे नाजायज बताया गया है। मोहम्मद कैफ के सूर्य नमस्कार पर जब उन्हें ट्रोल करने की कोशिश की गई, तो काफी सारे लोग उनके सपोर्ट में भी उतर आए थे।

वहीं कैफ के सूर्य नमस्कार की वकालत करने पर दारुल उलूम के मुफ्ती-ए-कराम ने कहा है कि इस संबंध में संस्था अपने रुख पर कायम है। मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने कहा कि दारुल उलूम सूर्य नमस्कार को लेकर पहले ही फतवा जारी कर चुका है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर कैफ इसे कसरत मानकर कर रहे हैं तो भी यह गलत है। उन्हें अपनी गलती को सुधारना चाहिए। क्योंकि तंदुरुस्त रहने के लिए और भी कसरतें हैं।

वहीं कैफ के सूर्य नमस्कार करते हुए अल्लाह का ध्यान करने की बात पर भी दारुल उलूम जिकरिया के उस्ताद और फतवा ऑनलाइन के चेयरमैन मौलाना अरशद फारुकी ने अपनी राय रखी है। उन्होंने इस मामले पर कहा कि सूर्य नमस्कार में बहुत सारी क्रियाएं सूरज के सामने हाथ जोड़ने और सिर झुकाने जैसी हैं जो मजहब के खिलाफ हैं। उन्होंने आगे कहा कि कैफ को इसके लिए तौबा करनी चाहिए और शरीयत की खिलाफवर्जी (विरोध) नहीं करना चाहिए। दारुल उलूम वक्फ के शेखुल हदीस मौलाना अहमद खिजर शाह मसूदी ने कहा कि जिन चीजों पर शरीयत को एतराज है, उन्हीं चीजों को कुछ लोग हवा देकर खुद को प्रचारित करना चाहते हैं।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X