ताज़ा खबर
 

दाना मांझी को बहरीन के प्रधानमंत्री से मिले 8.9 लाख रु, पत्नी की लाश 12 km तक लादकर ले जाने पर आए थे चर्चा में

ओड़िशा में अपनी पत्नी की लाश को कंधे पर रखकर 12 किमी तक ले जाने वाले दाना मांझी को बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने 8.9 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी है।

Author Published on: September 16, 2016 7:40 AM
दाना मांझी को बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने 8.9 लाख रुपए दिए हैं।

ओड़िशा में अपनी पत्नी की लाश को कंधे पर रखकर 12 किमी तक ले जाने वाले दाना मांझी को बहरीन के प्रधानमंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने 8.9 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी है। बता दें कि एक बहरीन दीनार 178 भारतीय रुपए के बराबर होता है। दाना मांझी को पैसों का चेक गुरुवार (15 सितंबर) को मिला। पैसों का चेक लेने के लिए दाना मांझी को दिल्ली में बनी बहरीन एंबेसी आना पड़ा था। उन्हें एयर इंडिया की फ्लाइट से भुवनेश्वर से दिल्ली लाया गया था। वह अपनी सबसे छोटी बेटी के साथ आए थे। अपने घर के लिए फ्लाइट पकड़ने से पहले मांझी ने मीडिया को बताया कि वह पैसों को बचाकर रखेंगे और उसे अपनी बेटियों के लिए इस्तेमाल करेंगे। मांझी ने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं। मैं इस पैसे को बैंक में रखूंगा और अपनी तीनों बेटियों की पढ़ाई के लिए इसे इस्तेमाल करूंगा। मैं आशा करता हूं कि उन्हें अच्छी शिक्षा और नौकरी मिलेगी।’

गौरतलब है कि ओड़िशा के कालाहांडी जिले में रहने वाले आदिवासी दाना मांझी की 42 वर्षीय पत्नी को टीबी था और उनको इलाज के लिए भवानीपटना के जिला अस्पताल लाया गया था जहां उनकी मृत्यु हो गयी थी। दाना मांझी को मृत पत्नी को ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली थी, जिसके बाद दाना ने पत्नी के शव को चटाई और चादर में लपेटा और कंधे पर लेकर 12 साल की बेटी के साथ गांव की ओर चल पड़ा। पत्नी को कंधे पर ले जाते मांझी की तस्वीर और वीडियो मीडिया में आने के बाद इस मामले पर काफी विवाद हुआ। घटना की खबर मिलने के बाद बहरीन के प्रधानमंत्री भी दुखी हो गए थे। उन्होंने तब ही मांझी को वित्तीय सहायता देने का ऐलान कर दिया था।

मांझी को भारतीय संगठनों की तरफ से भी आर्थिक मदद मिली है। जिला प्रशासन के मांझी को 75 हजार रुपए दिए हैं। यह पैसा उन्हें प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत दिया जाएगा। जिला प्रशासन ने उनकी तीनों लड़कियों को सरकारी स्कूल में दाखिला भी दिलवा दिया है, साथ ही हॉस्टल की भी सुविधा दी गई है। वहीं रेड क्रॉस ने उन्हें 50 हजार रुपए देने का वादा किया है। सुलभ इंटरनेशनल ने उनके नाम से एक फिक्स डिपोजिट खोला है। उनकी बेटियों के लिए हर महीने 10 हजार रुपए देने की बात कही गई है। वहीं एक अनजान शख्स ने भी उनके बैंक अकाउंट में 80 हजार रुपए जमा करवा दिए हैं। पैसे मिलने के बाद मांझी ने कहा, ‘मैं एक आदिवासी हूं। मुझे एक लाख का मतलब भी नहीं पता। मुझे मेरे पड़ोसी ताने मारते हैं कि मैं अमीर बन गया हूं। यह मुझे सबसे ज्यादा दुख पहुंचाता है।’

Read Also: Blog: दाना मांझी की घटना बताती है कि मंगल पर जाने के बाद भी हम सौ साल पुराने भारत में जी रहे हैं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सभी को विश्वास में लेने के बाद लागू करेंगे संविधान: प्रचंड
2 सौम्या रेप केस: सुप्रीम कोर्ट ने निरस्त बलात्कारी की मौत की सज़ा, केरल सरकार व परिवार ने की निंदा
3 फर्ज़ी डिग्री विवाद: स्मृति ईरानी को तलब करने पर एक अक्तूबर को फैसला
ये पढ़ा क्या?
X