ताज़ा खबर
 

Cyclone Nisarga, Weather Today Highlights: महाराष्ट्र-एमपी में हो रही बारिश, अगले 24 घंटों में यूपी और राजस्थान में भी आसार

तूफान निसर्ग से सबसे अधिक महाराष्ट्र का रायगढ़ ज़िला प्रभावित हुआ है। रायगढ़ में कई स्थानों पर कच्चे मकान, झोपड़े नष्ट होने की खबरें हैं। बिजली आपूर्ति व्यवस्था चरमरा गई है।

Cyclone Nisargaतूफान निसर्ग बुधवार दोपहर करीब एक बजे महाराष्ट्र तट से टकराया और अगले तीन घंटे तक लैंडफॉल प्रक्रिया चली। (Photo by Narendra Vaskar)

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि तूफान निसर्ग अब कमजोर पड़ता जा रहा है, मगर इसके प्रभाव से महाराष्ट्र के कई जिलों और मध्य प्रदेश में बीस से ज्यादा जिलों में बारिश हो रही है। ये स्थिति अगले 24 घंटों तक बनी रहेगी। एमपी के अलावा इससे सटे छत्तीसगढ़, पूर्वी उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार भी निसर्ग से प्रभावित होंगे। इन राज्यों में कई स्थानों पर तेज हवाओं के साथ बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने बताया कि अगले 24 घंटों में पूर्वी उत्तर प्रदेश में भारी से भीषण बारिश की संभावना है। विभाग के मुताबिक पांच जून को पूर्वी उत्तर और पूर्वी राजस्थान में भारी बारिश की संभावना है।

बता दें कि तूफान निसर्ग से सबसे अधिक महाराष्ट्र का रायगढ़ ज़िला प्रभावित हुआ है। रायगढ़ में कई स्थानों पर कच्चे मकान, झोपड़े नष्ट होने की खबरें हैं। बिजली आपूर्ति व्यवस्था चरमरा गई है। NDRF के महानिदेशक सत्य प्रधान ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीमें राहत कार्य के लिए रायगढ़ गई। महाराष्ट्र में कुल 20 टीमें तैनात हैं, 7-7 टीमें रायगढ़ और मुंबई में राहत कार्य के लिए काम कर रही हैं।।

Live Blog

Highlights

    16:53 (IST)04 Jun 2020
    केंद्रीय टीम चक्रवात से तबाह बंगाल के जिलों में सर्वेक्षण करेगी

    अंतर-मंत्रालयीय केंद्रीय टीम (आईएमसीटी) चक्रवात अम्फान से तबाह हुए जिलों का सर्वेक्षण करने के लिए बृहस्पतिवार शाम को पश्चिम बंगाल पहुंचेगी। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (साइबर एवं सूचना सुरक्षा) अनुज शर्मा की अगुवाई वाली सात सदस्यीय टीम नुकसान का आकलन करने के लिए सबसे बुरी तरह से प्रभावित उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों में सर्वेक्षण करेगी। आईएएस अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया, " टीम के सदस्य शुक्रवार को सर्वेक्षण करने के लिए दो समूहों में विभाजित होंगे। वे हवाई सर्वेक्षण कर सकते हैं या जमीनी हालात का मूल्यांकन कर सकते हैं। चूंकि उनके पास सर्वेक्षण के लिए सिर्फ एक ही दिन है तो वे हवाई सर्वेक्षण कर सकते हैं।"

    16:16 (IST)04 Jun 2020
    राजधानी दिल्ली में बारिश के आसार

    मौसम विभाग ने चेताया है कि  राजधानी दिल्ली में 4 जून यानी आज और 5 जून को बारिश की पूरी संभावना है। 10 जून तक दिल्ली में तेज हवाओं का दौर जारी रहेगा। इस बीच अधिकतम तापमान 39 डिग्री रहेगा।

    15:33 (IST)04 Jun 2020
    तीन दिन तक हो सकती है रुक-रुक कर बारिश

    अरब सागर में चक्रवातीय तूफान ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है। जम्मू-कश्मीर के ऊपर बना पश्चिमी विक्षोभ तिब्बत की ओर बढ़ने लगा है। पंजाब से लेकर पूर्वी उत्तर प्रदेश होते हुए एक निम्न वायुदाब क्षेत्र छत्तीसगढ़ तक बना हुआ है। इसके अलावा पुरवा हवाएं नमी लेकर पूर्वी उत्तर प्रदेश तक निरंतर पहुंच रही हैं। इन वायुमंडलीय परिस्थितियों की वजह से गुरुवार से पूर्वी उत्तर प्रदेश में तेज हवा के साथ गरज-चमक के बीच बारिश का जो सिलसिला शुरू होगा, वह रुक-रुक कर तीन से चार दिन तक जारी रह सकता है।

    14:47 (IST)04 Jun 2020
    इन इलाकों में हुई अधिक बारिश

    मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि बुधवार सुबह 08:30 बजे से लेकर गुरुवार सुबह 08:30 बजे के बीच सूबे के जिन स्थानों में सबसे ज्यादा बारिश दर्ज की गयी है, उनमें सेगांव (136 मिलीमीटर), खण्डवा (132 मिलीमीटर), सेंधवा (104 मिलीमीटर), निवाली (102 मिलीमीटर), सोनकच्छ (100 मिलीमीटर), भैंसदेही (95.4 मिलीमीटर) और अमरपुर (94) शामिल हैं। "निसर्ग" के प्रभाव से बृहस्पतिवार को डिंडोरी, अनूपपुर, शहडोल, सीधी, सिंहगरौली, उमरिया और बड़वानी जिलों में 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल सकती है। इन जिलों में गरज-चमक के साथ मध्यम से भारी वर्षा हो सकती है और कुछ स्थानों पर बिजली गिर सकती है। इस बीच, प्रदेश सरकार ने अधिकारियों को संभावित प्राकृतिक आपदा के प्रति आगाह करते हुए इससे निपटने के लिये तैयार रहने को कहा है। इंदौर समेत कुछ जिलों में नागरिकों से अपील की गयी है कि फिलहाल वे अपने घरों में ही रहें।

    13:58 (IST)04 Jun 2020
    चक्रवात ‘निसर्ग’ विदर्भ में दबाव के क्षेत्र में बदला, और कमजोर होगा मुंबई

    चक्रवात ‘निसर्ग’ मुंबई के करीब अलीबाग तक पहुंचा लेकिन इसने महानगर को प्रभावित नहीं किया और अब यह महाराष्ट्र में पश्चिमी विदर्भ में दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है और फिर कमजोर पड़ जाएगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने गुरुवार को यह जानकारी दी। चक्रवात निसर्ग ने बुधवार को यहां से करीब 110 किलोमीटर दूर अलीबाग के समीप दस्तक दी लेकिन पहले से ही कोविड-19 से जूझ रहे देश के आर्थिक केंद्र पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। विभाग ने ट्वीट किया, ‘‘गहरे दबाव का क्षेत्र पूर्व-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ते हुए चार जून को भारतीय समयानुसार साढ़े पांच बजे पश्चिमी विदर्भ (महाराष्ट्र) में दबाव के क्षेत्र में बदल गया और आज शाम तक यह कम दबाव के क्षेत्र के रूप में कमजोर पड़ जाएगा।’’

    13:34 (IST)04 Jun 2020
    कई राज्यों में तूफान का प्रभाव

    तूफान निसर्ग आगे बढ़ते हुए कमजोर हो गया है। यह सिस्टम इस समय मध्य प्रदेश के ऊपर है। निसर्ग के चलते ही राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली समेत उत्तर भारत के भागों पर भी बादल पहुंचे हैं।

    Next Stories
    1 कोरोना संकट पर हमने पश्चिम की तरफ देखा, वायरस भी नहीं रुका और अर्थव्यवस्था तबाह हो गई: राजीव बजाज
    2 मैंने तुम पर भरोसा किया, तुमने किया विश्‍वासघात- गर्भवती हथिनी की जान लेने वालों को लानत दे रहे लोग