चक्रवाती तूफान ‘क्यार’ के चलते भारतीय तट पर भारी बारिश की संभावना, कर्नाटक, गोवा व महाराष्ट्र में ज्यादा खतरा

जैसा कि स्काइमेट द्वारा बार-बार बताया गया है कि, इस समय अरब सागर में बनने वाले 80 प्रतिशत चक्रवात ओमान या यमन की ओर ही जाते हैं। बहुत कम ही ऐसे होते हैं जो गुजरात या उससे सटे कराची तट की ओर बढ़ते हैं।

Weather Forecast Report, Cyclone Kyarr LIVE: अरब सागर पर एक चक्रवाती तूफान 'क्यार' तेज से उठ रहा है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार को कहा कि पूर्व-मध्य अरब सागर पर एक चक्रवाती तूफान ‘क्यार’ तेज से उठ रहा है। इस सेंटर महाराष्ट्र के रत्नागिरी से लगभग 240 किमी पश्चिम-दक्षिण पश्चिम में है। यह मौसम प्रणाली फिलहाल अक्षांश 15.4 ° N और देशांतर 70.4 ° E पर केंद्रित है। जो रत्नागिरि से 240 किमी पश्चिम-दक्षिण-पश्चिमी दिशा में, मुंबई से 460 किमी दक्षिण-पश्चिमी में और सलाला, ओमान से 1710 किमी दक्षिण-पूर्व में स्थित है। यह प्रणाली अक्टूबर तक तट के करीब उत्तर-उत्तरपूर्वी दिशा में बढ़ती रहेगी।

हालांकि, इस संभावित चक्रवाती तूफान के ओमान और यमन तट की ओर बढ़ने की संभावना है। इस समय यह प्रतीक्षा करने और देखने की स्थिति है। जैसा कि स्काइमेट द्वारा बार-बार बताया गया है कि, इस समय अरब सागर में बनने वाले 80 प्रतिशत चक्रवात ओमान या यमन की ओर ही जाते हैं। बहुत कम ही ऐसे होते हैं जो गुजरात या उससे सटे कराची तट की ओर बढ़ते हैं।

Live Blog

14:20 (IST)26 Oct 2019
जाने कैसा रहेगा बिहार का साप्ताहिक मौसम
22:05 (IST)25 Oct 2019
‘फानी’ के चलते 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था

इस साल मई में आए ‘फानी’ तूफान ने ओडिशा में आम जनजीवन ठप कर दिया था। राजधानी भुवनेश्वर में भी काफी नुकसान पहुंचा था। हालांकि प्रशासन ने चक्रवात से पहले एहतियातन करीब 10 हजार गांवों और 52 शहरी इलाकों से करीब 11 लाख लोगों को हटा लिया था।

21:47 (IST)25 Oct 2019
यहां लाल चेतावनी जारी

चक्रवातीय तूफान ‘‘क्यार’’ के चलते सिंधुदुर्ग जिले में ‘बेहद भारी बारिश’ के लिए लाल चेतावनी जारी की गई है। यहां अगले 24 घंटे में 204.5 मिमी बारिश हो सकती है। 

20:53 (IST)25 Oct 2019
फानी तूफान में इतनी थी हवा की स्पीड

इस साल मई में चक्रवाती तूफान फानी ने ओडिशा में दस्तक दी थी। ओडिशा के तटीय इलाकों पर लैंडफॉल भी हुआ था। इस दौरान 175 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं जो धीरे-धीरे 275 किलोमीटर प्रतिघंटा तक पहुंच गई थी।

20:10 (IST)25 Oct 2019
चल सकती हैं तेज हवाएं

चक्रवातीय तूफान ‘‘क्यार’’ के चलते अगले 12 घंटों में महाराष्ट्र के तटीय जिलों रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग में बेहद तेज हवाएं भी चल सकती हैं। मौसम विभाग ने यह जानकारी दी।

19:31 (IST)25 Oct 2019
मई में ‘फानी’ ने दी थी दस्तक

इस साल मई में चक्रवाती तूफान ‘फानी’ ने भारत के पूर्वी तटीय इलाकों में दस्तक दी थी। इस तूफान के खतरों से निपटने के लिए मौसम विभाग, एनडीआरएफ समेत सभी राहत और बचाव एजेंसियां हाई अलर्ट पर थीं।

18:50 (IST)25 Oct 2019
तूफान धीरे-धीरे हो रहा विकराल

मौसम विभाग के मुताबिक अरब सागर में शुक्रवार की शुरुआत में एक गहरा विक्षोभ तेज होकर चक्रवात में बदल गया। तूफान धीरे-धीरे विकराल रूप धारण करता जा रहा है।

18:33 (IST)25 Oct 2019
अगले 24 घंटों के दौरान इसके अत्यधिक शक्तिशाली चक्रवाती तूफान

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अगले 12 घंटों के दौरान क्यार एक शक्तिशाली चक्रवात में बदल सकता है, जबकि अगले 24 घंटों के दौरान इसके अत्यधिक शक्तिशाली चक्रवाती तूफान में तब्दील होने का अनुमान है।

18:09 (IST)25 Oct 2019
पर्यटकों को 27 अक्टूबर तक गोवा न आने की सलाह

मंडोवी नदी में जलस्तर बढ़ने के मद्देजनर पर्यटकों को 27 अक्टूबर तक गोवा न आने की सलाह दी गई है। प्रशासन ने इस संबंध में जानकारी भी दी है। बताया गया है कि का कुछ जगहों पर नौका सेवा अस्थायी रूप से बंद कर दी गई है।

17:38 (IST)25 Oct 2019
गोवा: मछुआरों-पर्यटकों को चेतावनी

तूफान क्यार के चलते गोवा में लगातार तीसरे दिन भी भारी बारिश हुई। अगले 12 घंटों के दौरान मौसम ऐसा ही रहेगा। भारतीय मौसम विभाग ने मछुआरों- पर्यटकों को समुद्र से दूर रहने की चेतावनी दी है।

17:13 (IST)25 Oct 2019
तूफान के चलते होगी तेज बारिश

मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि चक्रवातीय तूफान ‘‘क्यार’’ के चलते अगले 12 घंटों में महाराष्ट्र के तटीय जिलों रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग में भारी बारिश हो सकती हैं।

16:34 (IST)25 Oct 2019
चल सकती हैं तेज हवाएं

मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि चक्रवातीय तूफान ‘‘क्यार’’ के चलते अगले 12 घंटों में महाराष्ट्र के तटीय जिलों रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग में बेहद तेज हवाएं भी चल सकती हैं।

14:23 (IST)25 Oct 2019
ओमान या यमन की ओर ही जाते हैं चक्रवात

जैसा कि स्काइमेट द्वारा बार-बार बताया गया है कि, इस समय अरब सागर में बनने वाले 80 प्रतिशत  चक्रवात ओमान या यमन की ओर ही जाते हैं। बहुत कम ही ऐसे होते हैं जो गुजरात या उससे सटे कराची तट की ओर बढ़ते हैं।

अपडेट