ताज़ा खबर
 

भाजपा प्रवक्ता पर भड़क गए CPI नेता, बोले- प्रधानमंत्री चौकीदार नहीं लुटेरा, झूठ बोलने का ठेका ले रखा है

टीवी डिबेट के दौरान भाजपा प्रवक्ता के द्वारा बीच में टोकने पर सीपीआई नेता अतुल कुमार अंजान भड़क गए और कहने लगे कि प्रधानमंत्री चौकीदार नहीं लुटेरा है और झूठ बोलने का ठेका ले रखा है।

टीवी डिबेट के दौरान सीपीआई नेता अतुल अंजान ने प्रधानमंत्री को लुटेरा कहा तो भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया भड़क उठे। (फोटो- एएनआई)

कोरोना के टीकों की खरीद व मुफ्त टीकाकरण के लिए केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने गैर भाजपा शासित राज्यों के 11 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर केंद्र पर दवाब बनाने की अपील की है। इस मुद्दे पर टीवी डिबेट के दौरान भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया के द्वारा बीच में टोकने पर सीपीआई नेता अतुल कुमार अंजान भड़क गए। अंजान कहने लगे कि प्रधानमंत्री चौकीदार नहीं लुटेरा है और झूठ बोलने का ठेका ले रखा है।

दरअसल आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित टीवी डिबेट के दौरान एंकर चित्रा त्रिपाठी ने डिबेट में मौजूद सीपीआई नेता अतुल अंजान से पूछा कि क्या 11 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर विपक्षी एकजुटता की कोशिश की जा रही है। इसपर जवाब देते हुए अतुल अंजान ने कहा कि प्रधानमंत्री अपने आदमियों को चिट्ठी लिखता है तो क्या दूसरे लोग नहीं लिख सकते हैं। अगर कोई विरोधी है तो लिखने में क्या परेशानी है?

आगे अतुल अंजान ने कहना शुरू किया कि जब प्रधानमंत्री लिखता है..प्रधानमंत्री झूठ बोलता है..प्रधानमंत्री गलत बोलता है.. रोज 3 करोड़ रुपए प्रचार करता है। अतुल अंजान के इतना कहते ही भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने उन्हें बीच में टोकते हुए कहने लगे कि गलत बोलता है नहीं, गलत बोलते हैं। भाजपा प्रवक्ता के बीच में बोलने की वजह से अतुल अंजान ने भड़कते हुए कहा कि बीच में मत बोलिए और आप जरा खामोश रहिए।

इसके बाद सीपीआई नेता अतुल अंजान ने दोबारा कहना शुरू कर दिया कि प्रधानमंत्री झूठ बोलने का स्टॉक है और प्रधानमंत्री झूठ बोलने का ठेकेदार है। प्रधानमंत्री चौकीदार नहीं लुटेरा है। अतुल अंजान के इन बयानों पर एंकर चित्रा त्रिपाठी ने उन्हें रोकते हुए कहा कि प्रधानमंत्री कोई एक व्यक्ति तो होता नहीं है, बल्कि वो एक संस्था होते हैं। इस देश की जनता ने उन्हें चुना है। वो देश का प्रतिनिधित्व करते हैं।

बता दें कि सोमवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने गैर-भाजपा शासित राज्यों के 11 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा कि केंद्र टीका खरीदने, मुफ्त टीकाकरण सुनिश्चित करने से बचना चाहता है। इसलिए समय की मांग है कि केंद्र पर दबाव बनाने के लिए संयुक्त प्रयास किया जाना चाहिए ताकि केंद्र तुरंत कार्यवाही करे।  

Next Stories
1 यूपी में ‘फीडबैक’ के लिए मंत्रियों से मिले भाजपा के सीनियर नेता, योगी सरकार की तारीफ की
2 सरकार ने बताई अनलॉक करने की शर्त, कहा- पहले ’70 फीसदी आबादी’ का करें टीकाकरण
3 Coronavirus India HIGHLIGHTS: डरावने हालात! इस जिले में एक महीने में ही संक्रमित हो गए 10 हजार के करीब नाबालिग, घर के वयस्क ही बन रहे बच्चों के लिए खतरा
ये पढ़ा क्या?
X