ताज़ा खबर
 

डरपोक बॉलीवुड सुपरस्टार पंजाबी गीतों के इन ग्लोबल स्टार्स से सीख सकते हैं- कंवर ग्रेवाल का उदाहरण दे बोले रवीश कुमार, पोस्ट वायरल

रवीश कुमार ने हिंदी सिनेमा स्टार्स को डरपोक करार देते हुए कहा कि उन्हें पंजाबी गायकों से सीखना चाहिए जो किसानों के प्रदर्शन में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं।

Farmers protestपंजाबी गायक कंवर ग्रेवाल ने किसानों के प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है। (वीडियो स्क्रीनशॉट)

एनडीटीवी के प्राइम टाइम शो एंकर और पत्रकार रवीश कुमार ने किसान आंदोलन पर बॉलीवुड जगत की चुप्पी पर सवाल उठाया है। उन्होंने हिंदी सिनेमा स्टार्स को डरपोक करार देते हुए कहा कि उन्हें पंजाबी गायकों से सीखना चाहिए जो किसानों के प्रदर्शन में बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब के गायक अपनी मकबूलियत को खेती-किसानी की देन समझते हैं।

रवीश कुमार ने रविवार को अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘एक ट्वीट में देखा कि कंवर ग्रेवाल भी ट्रैक्टर में सवार हैं और किसान आंदोलन में हिस्सा ले रहे हैं। कंवर साहब ने मुकद्दस और मुकम्मल आवाज पाई है। आवाज की बुलंदी ऐसी है कि सर चढ़ जाए। जिंदगी में कभी तो इस गायक से मुलाकात होनी ही है लेकिन कोई उनके आस-पास है तो मेरा सलाम पहुंचा दे।’

पत्रकार रवीश आगे कहते हैं, ‘कंवर ग्रेवाल को आप सभी यूट्यूब में सुन देख सकते हैं। अच्छी बात है कि पंजाब के गायक अपनी मकबूलियत को खेती-किसानी की देन समझते हैं और उसके लिए फ़र्ज अदा कर रहे हैं। मशहूर गायक जस्सी, बब्बू मान साहब ने भी इस आंदोलन को समर्थन दिया है।’ बॉलीवुड जगत पर निशाना साधते हुए रवीश कुमार लिखते हैं, ‘बॉलीवुड के डरपोक सुपरस्टार पंजाबी गीतों के इन मेगा और ग्लोबल स्टार से सीख सकते हैं। कंवर ग्रेवाल को सुनिए।’

कृषि बिलों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं किसानों का पंजाबी गायकों ने समर्थन किया है। किसानों को समर्थन करते हुए पंजाबी गायक जैजी बी ने कहा कि किसानों को हमारा समर्थन, किसान एकता जिंदाबाद, सभी लोग दिल्ली पहुंचो। जैजी बी ने इंस्टाग्राम पर किसानों के समर्थन में जो पोस्ट लिखा है, उसमें आंदोलित किसानों की तस्वीर को साझा किया है।

इसी तरह बब्बू मान ने कहा है कि वो किसानों का साथ देंगे। इस सोशल मीडिया में उनका एक वीडियो भी वायरल हो है जिसमें वो किसानों के बीच नजर आ रहे हैं। बता दें कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर डटे हुए हैं। एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “जब सारी बैठक हमेशा जंतर-मंतर पर होती हैं तो किसान को जंतर-मंतर पर क्यों नहीं जाने दे रहे? जब तक कोई फैसला नहीं निकलेगा हम यहीं रहेंगे।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली दंगा: विडियो होने के बावजूद पुलिस ने बंद कर दी जांच, कोर्ट ने दिया एफ़आईआर का ऑर्डर
2 देश के 97% हिस्से तक पहुंच गई है कोरोना जांच की सुविधा, 20 लाख बेड तैयार: डॉ. हर्षवर्धन
3 इन पांच कैटेगरी के लोगों को सबसे पहले मिलेगा कोरोना का टीका, अगस्त तक 30 करोड़ लोगों का टीकाकरण
ये पढ़ा क्या ?
X