ताज़ा खबर
 

गाय के गोबर से बन सकते हैं बंकर, मांस जहर के सामान: इंद्रेश कुमार

आम आदमी इसे मकान बनाने के लिए सीमेंट के रूप में भी इस्तेमाल करता है। इसके मूत्र में औषधीय तत्व होते हैं जो कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज में काम आते हैं।

Author चंडीगढ़ | Published on: August 3, 2017 12:53 AM
इंद्रेश कुमार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता हैं। (तस्वीर-पीटीआई)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नेता इंद्रेश कुमार ने बुधवार को गाय के मांस को जहर करार दिया और दावा किया कि इसके मूत्र से कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज किया जा सकता है। उन्होंने आगे यह भी कहा कि गोबर को बंकर बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने गाय को ‘मानवता की मां’ करार दिया और कहा कि इसके दूध और गोबर के काफी लाभ हैं और इन्हें विभिन्न कार्यों में इस्तेमाल किया जा सकता है। इंद्रेश ने दावा किया, ‘विश्व की 90 प्रतिशत आबादी गाय के दूध पर निर्भर है और इसीलिए यह मानवता की मां कही जाती है। गाय जहरीली चीजों को अपने पास ही रखती है और हमें दूध व गोबर देती है।’ उन्होंने कहा, ‘गोबर को बंकर बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। आम आदमी इसे मकान बनाने के लिए सीमेंट के रूप में भी इस्तेमाल करता है। इसके मूत्र में औषधीय तत्व होते हैं जो कैंसर जैसी बीमारियों का इलाज में काम आते हैं।’ आरएसएस नेता ने कहा कि गाय का मांस जहर है और किसी भी धर्म में गोवध की अनुमति नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘यदि कोई कहता है कि वह जहर (गाय का मांस) खाएगा तो हम उसके लिए प्रार्थना कर सकते हैं कि उसे सही समझ आए।’ वह यहां फोरम फॉर अवेअरनेस आॅफ नेशनल सिक्योरिटी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। यह पूछे जाने पर कि क्या वह लोगों से गोमांस नहीं खाने को कह रहे हैं, उन्होंने कहा कि वह सचाई बता रहे हैं। यूं तो तंबाकू को भी जहर कहा जाता है लेकिन लोग वह भी खाते हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा ना दिला पाने पर बीजेपी ने कांग्रेस को ठहराया जिम्मेदार, छेड़ेगी आंदोलन
2 मुलायम का दावा: तब सीएम कैंडिडेट बनने के लिए मेरे सामने रोये थे नीतीश कुमार
3 जम्‍मू-कश्‍मीर में भी लागू हुआ जीएसटी, जेटली बोले- आर्थिक एकता के लिए बड़ी पहल