ताज़ा खबर
 

संवेदनशील क्षेत्रों से पॉश इलाकों की ओर हुआ कोरोना का रुख

खोड़ा में अब तक 29, कैला भट्टा में चार, इस्लाम नगर में नौ, डासना में 14 और पसौंडा में 15 पुष्ट मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इन इलाकों में सामुदायिक जांच की गई थी लेकिन पुष्ट मामले निरंतर कम होने पर अब उसे बंद कर दिया गया है।

Author गाजियाबाद | Published on: May 27, 2020 4:10 AM
कोरोना का वायरस।

खोड़ा और झंडापुर जैसे संवेदनशील क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण अब कमजोर पड़ने लगा है। वहीं, पॉश इलाकों में संक्रमण की दस्तक बढ़ गई है। स्वास्थ्य विभाग ने उन इलाकों में जांच लगभग बंद कर दी है। खोड़ा में विभाग ने पांच टीमें लगा रखी हैं और आईएमएस में कोविड नमूने लेने वाला बूथ बनाया गया है। जांच नमूने बढ़ाने के लिए विभाग अब आरकेजीआईटी में कोविड नमूने बूथ बनाने जा रहा है। अधिकारियों के अनुसार अब जिले के पॉश इलाकों में पुष्ट मामले बढ़ रहे हैं। वैशाली, कौशांबी और इंदिरापुरम में लगातार पुष्ट मामले सामने आ रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक इन इलाकों में जितने भी मामले सामने आ रहे हैं, उनमें 90 फीसद से ज्यादा लोग दिल्ली-नोएडा जाने वाले हैं।

जनपद के खोड़ा, लोनी, कैला भट्टा, इस्लाम नगर, डासना और पसौंडा को कोरोना संक्रमण के लिए सबसे ज्यादा संवेदनशील माना गया था। इन इलाकों में औचक जांच शुरू की गई थी। पुष्ट रोगियों के अलावा उनके परिवार और पड़ोसियों के भी नमूने लिए जा रहे थे।

खोड़ा में अब तक 29, कैला भट्टा में चार, इस्लाम नगर में नौ, डासना में 14 और पसौंडा में 15 पुष्ट मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इन इलाकों में सामुदायिक जांच की गई थी लेकिन पुष्ट मामले निरंतर कम होने पर अब उसे बंद कर दिया गया है। केवल खोड़ा में विभाग की पांच टीमें कार्यरत हैं, जो औचक जांचें कर रही हैं। अधिकारियों का दावा है कि खोड़ा में भी अब संक्रमित मामले मिलने बेहद कम हो गए हैं। 14 दिन लगातार यदि खोड़ा में कोई नया संक्रमित सामने नहीं आता है, तो वहां भी नमूने लेने बंद किए जा सकते हैं।

केवल दो स्थानों पर हो रही है जांच
जिले में फिलहाल खोड़ा और कोविड बूथ पर आइएमएस में नमूने लिए जा रहे हैं। अब आरकेजीआइटी में बने पृथकवास केंद्र में बूथ बनाया जा रहा है। ताकि जरूरतमंत और संदिग्ध आसानी से अपनी जांच करवा सकें। इसके अलावा पुष्ट आए मरीजों के निकटम संपर्क वालों की भी जांच की जा रही है। सीएमओ के मुताबिक ट्रांस हिंडन क्षेत्र के पॉश इलाकों में लगातार पुष्ट मामले बढ़ रहे हैं। जांच में सामने आया है कि अधिकांश पुष्ट मामलों का दिल्ली-नोएडा से कोई संपर्क था। जिले में जांच बढ़ाने के लिए एक और सैंपलिंग बूथ आरकेजीआईटी में बनाया जा रहा है। शासन के निर्देश हैं कि केवल उन्हीं लोगों के नमूने लिए जाएं, जो कोरोना रोगियों के संपर्क में आए हैं।

तीन संक्रमितों की मौत
मंगलवार को दो महिलाओं समेत तीन कोरोना संक्रमितों की मौत के मामले सामने आए हैं। एक महिला का मेरठ में और एक रिटायर पुलिसकर्मी की दिल्ली में मौत के बाद वहीं अंतिम संस्कार किया गया। एक महिला की दिल्ली के अस्पताल में मौत हुई है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को जिले में कोरोना संक्रमण के चार मामलों की पुष्टि की है। इनमें मुरादनगर और लोनी में एक-एक युवक और वैशाली में रहने वाले एक दंपति शामिल हैं। इसके अलावा कौशांबी में रहने वाला एक पूरा परिवार जिसमें 2 साल का बच्चा भी शामिल है, कोरोना संक्रमित हुआ है। लोहिया नगर में भी एक पॉजिटिव केस सामने आया है।

फरीदाबाद में 23 संक्रमित
फरीदाबाद जिले में एक दिन में रेकॉर्ड 23 कोरोना संक्रमित सामने आए हैं। मंगलवार को 53 साल की एक महिला की मौत भी हो गई थी। कोरोना से मरने वालों की संख्या सात हो गई है। बीते बारह घंटे में बीस से चौंतीस साल की नौ महिलाएं कोरोना संक्रमित पाई गई हैं। इसके साथ ही कोरोना विषाणु संक्रमितों कुल 234 मामले हो गए हैं। हालांकि इनमें से118 संक्रमित ठीक होकर अस्पताल से चले गए हैं। फिलहाल 98 संक्रमित उपचाराधीन हैं। 11 लोगों को उनके घरों में एकांतवास में रखा गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 8 दिन में 11 साइकिल रिक्शा चालक 1,000 किमी की यात्रा कर गुरुग्राम से बिहार अपने घर पहुंचे
2 तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने वाले 82 विदेशियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर
3 लद्दाख में चीन से तनातनी के बीच पीएम मोदी ने की NSA, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के साथ हाई लेवल मीटिंग