ताज़ा खबर
 

COVID-19 केस भारत में 70 लाख के पार, 13 दिन में बढ़े 10 लाख मामले; पर 60 लाख से अधिक हो चुके हैं रिकवर

इसी बीच, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 10 अक्टूबर तक 8,68,77,242 नमूनों की जांच की गई है, जिनमें से 10,78,544 नमूनों की जांच शनिवार को की गई।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: October 11, 2020 1:16 PM
COVID-19, Coronavirus, IndiaJ&K: श्रीनगर में अपने COVID-19 Rapid Antigen टेस्ट के सैंपल देने के लिए इंतजार करते लोग। (फोटोः पीटीआई)

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 70 लाख के पार पहुंच गए हैं, जबकि देश में संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की दर 86.17 प्रतिशत है। देश में संक्रमित लोगों की संख्या 13 दिन पहले 60 लाख के पार पहुंची थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार सुबह आठ बजे तक के अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 74,383 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 70,53,806 हो गए हैं। इसी अवधि में 918 और लोगों की मौत हो जाने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,08,334 हो गई है।

संक्रमणमुक्त हुए लोगों की संख्या 60 लाख से अधिक हो गई है। भारत में संक्रमण के मामले 21 दिन में 10 लाख से 20 लाख हुए थे। इसके बाद ये 16 दिन में 30 लाख, फिर 13 और दिन बाद 40 लाख तथा 11 और दिन बाद 50 लाख के पार हो गए थे। मामलों की संख्या 50 लाख से 60 लाख होने में 12 दिन लगे। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 110 दिन में एक लाख के पार पहुंचे थे, जबकि इसके बाद 59 दिन में मामले 10 लाख से अधिक हो गए।

देश में लगातार तीसरे दिन उपचाराधीन लोगों की संख्या नौ लाख से नीचे रही। आंकड़ों के अनुसार, इस समय देश में 8,67,496 लोगों का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 12.30 प्रतिशत है। कोविड-19 के कारण मृत्युदर 1.54 प्रतिशत है। भारत में कोविड-19 के मामले सात अगस्त को 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख, 16 सितंबर को 50 लाख और 28 सितंबर को 60 लाख के पार चले गए थे। इसी बीच, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 10 अक्टूबर तक 8,68,77,242 नमूनों की जांच की गई है, जिनमें से 10,78,544 नमूनों की जांच शनिवार को की गई।

सक्रिय मामलों के 61% इन 5 राज्यों (महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु) में रिकॉर्ड किए गए हैं और कुल रिकवरी मामलों के 54.3% भी इन 5 राज्यों में रिकॉर्ड किए गए हैं। (फोटो सोर्स: ANI)

दीपावली के बाद ही फिर स्कूल खोलने पर सोचेगी गुजरात सरकारः गुजरात सरकार दीपावली के बाद ही स्कूल पुन: खोलने पर विचार करेगी। राज्य शिक्षा विभाग के सचिव विनोद राव ने कहा कि स्कूल खोलने की तत्काल कोई योजना नहीं है। राव ने शनिवार को ‘पीटीआई भाषा’ से कहा, ‘‘हम तत्काल ऐसा नहीं करेंगे। हम कोरोना वायरस संक्रमण संबंधी स्थिति के आकलन के बाद दीपावली (की छुट्टियों) के बाद ही स्कूल फिर से खोलने पर विचार करेंगे।’’ उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग इस मामले को लेकर अभिभावकों के प्रतिनिधियों और स्कूल संघों के संपर्क में है।

दीपावली इस साल 14 नवंबर को मनाई जाएगी। राज्य सरकार ने पूर्व में 21 सितंबर से स्कूल पुन: नहीं खोलने का फैसला किया था। केंद्र की मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के तहत छात्रों को अभिभावकों की अनुमति से शिक्षकों का मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए स्कूल जाने की अनुमति दी गई थी। नई एसओपी के अनुसार केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को 15 अक्टूबर से चरणबद्ध तरीके से स्कूल पुन: खोलने का फैसला करने की अनुमति दी है।

‘गोवा में सभी पक्षों की सहमति के बाद ही होगा स्कूल पर निर्णय’: गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि गोवा सरकार स्कूलों को खोलने के बारे में फैसला शिक्षकों समेत सभी पक्षों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ही लेगी। शिक्षक संघ फिलहाल व्यक्तिगत उपस्थिति वाली कक्षाएं शुरू करने के पक्ष में नहीं हैं। उन्हें आशंका है कि स्कूलों में भौतिक दूरी कायम करना असंभव होगा। सावंत ने पीटीआई-भाषा से कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच छात्रों की सुरक्षा सर्वोपरि है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने राज्य के शिक्षा सचिव और शिक्षा निदेशक से कहा है कि वे स्कूल प्रबंधन, अभिभावक-शिक्षक संघों और शिक्षक संस्थाओं जैसे कि ‘गोवा हेडमास्टर एसोसिएशन’ और ‘गोवा प्रिंसिपल्स फोरम’ समेत सभी पक्षकारों से बातचीत करें। उन्होंने कहा कि स्कूलों को फिर से खोलने के बारे में फैसला सभी पक्षों की सहमति के बाद और आवश्यक मानक संचालन प्रक्रियाओं का क्रियान्वयन करने के साथ ही लिया जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 SVAMITVA Scheme: ‘गांवों को उनके हाल पर नहीं छोड़ सकता’, संपत्ति कार्ड बांटने के बाद बोले PM नरेंद्र मोदी
2 खूनी इतिहास के बावजूद भारत में मुस्लिम रह रहे और दूसरे मुल्क के धर्म का पालन करते हुए भी विश्व में हैं सर्वाधिक खुशः RSS चीफ
3 Triple Talaq के खिलाफ SC में सबसे पहले उठाई थी आवाज, अब सायरा बानो BJP में शामिल
यह पढ़ा क्या?
X