ताज़ा खबर
 

दिल्ली में पिछले तीन दिन में कोरोना से 152 मौतें, रोजाना बढ़ रहे एक हजार से ज्यादा कोरोना के मरीज, आंकड़े डराने वाले

दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के मामले बढ़े हैं, डॉक्टरों के मुताबिक अब जांच में भी ज्यादा टेस्ट पॉजिटिव आ रहे हैं।

COVID 19, stress, cortisolदेश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। (PTI Photo)

देश में कोरोनावायरस के केस बढ़ने के बावजूद केंद्र सरकार ने लॉकडाउन खोलने का ऐलान किया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए लोगों से जिम्मेदार रहने को कहा। हालांकि, अगर पिछले कुछ दिनों के आंकड़े को उठाकर देखें, तो पता चलता है कि अनलॉक-1 के दौरान राजधानी में कोरोना का फैलाव और तेजी से हुआ है। केंद्र शासित प्रदेश में 3, 4 और 5 जून के आंकड़े मिलाकर देखें तो इस दौरान 152 लोगों की जान गई है। वहीं, 4200 से ज्यादा नए कोरोना के मामले सामने आए हैं। यह डेटा Covid19.org वेबसाइट से है, जो लगातार दिल्ली सरकार के आंकड़ों के अनुसार ही अपडेट है।

दिल्ली में अब तक कोरोना से 708 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि अब तक कुल 26,334 संक्रमित सामने आ चुके हैं। शुक्रवार तक ही राजधानी में 1330 नए केसों की पुष्टि हुई थी। महाराष्ट्र (80 हजार 229 केस) और तमिलनाडु (28,694 मामलों) के बाद दिल्ली में ही सबसे ज्यादा कोरोना के केस सामने आए हैं। मौतोंके मामले में भी महाराष्ट्र और गुजरात के बाद दिल्ली का तीसरा नंबर है।

देश में क्या हैं कोरोना से हाल, जानें…

इन हालात पर दिल्ली के डॉक्टरों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में स्थितियां ज्यादा बिगड़ी हैं। साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल में इंटरनल मेडिसिन विभाग के एसोसिएट डायरेक्टर रोमेल टिक्कू ने द टाइम्स मीडिया ग्रुप को बताया कि पिछले एक हफ्ते में हमने अस्पताल आने वाले मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की है। जांच कराने वालों में संक्रमण के केस भी ज्यादा मिल रहे हैं।

कोविड-19 से जुड़े एक सरकारी अस्पताल के डॉक्टर ने भी कोरोना के बढ़ते केसों पर चिंता जाहिर की है। डॉक्टर ने कहा, “संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी से साफ है कि कोरोना का फैलाव कई क्लर्टर्स में तेजी से हो रहा है।” हालांकि, डॉक्टर का कहना है कि ज्यादातर मरीज या तो बिना लक्षण के हैं या हल्के लक्षण वाले हैं, जिन्हें भर्ती करने की कोई जरूरत नहीं है।

उत्तर प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले, यहां जानें अपडेट्स

गौरतलब है कि दिल्ली में अभी 15,311 एक्टिव केस हैं। इनमें से सिर्फ 3899 ही अस्पतालों में भर्ती हैं, जबकि 244 लोगों को आईसीयू या वेंटिलेटर सपोर्ट की जरूरत पड़ी है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना के ज्यादा गंभीर लक्षण बुजुर्गों या पहले से किसी बीमारी वाले लोगों में ही दिखे हैं। ऐसे लोगों के संक्रमण के बाद मरने की तादाद भी ज्यादा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अमित शाह की रैली से पहले बिहार एनडीए में खटपट? चिराग पासवान ने सीएम नीतीश के नेतृत्व पर उठाए सवाल
2 कोरोना पर मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों से चीन बढ़ा रहा नजदीकियां, पर पीएम मोदी ने तीन महीने में कर ली 40 देशों से बात
3 भारत-चीन शांति से सीमा विवाद सुलझाने पर सहमत, नेपाल ने भेजा बातचीत का प्रस्ताव