ताज़ा खबर
 

COVID-19 को हल्के में ले रहा बिहार? लोग बोले- यहां कोरोना नहीं, गर्दा, मिट्टी खाते हैं, गोबर-केमिकल जैसी दवा है, फिर क्या दिक्कत…वायरल हो रहा VIDEO

चुनाव प्रचार के लिए सकड़ों लोगों की भीड़ जुटाई जा रही है और कोविड 19 महामारी के नियमों की धजियां उड़ाई जा रही हैं। लोग मास्क न लगाने के अजीबोगरीब बहाने बना रहे हैं। इससे जुड़ा एक वीडियो वरिष्ठ पत्रकार उमाशंकर सिंह ने ट्विटर पर शेयर किया है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: October 26, 2020 4:26 PM
coronavirus, bihar electionतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (रॉयटर्स)

देश में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। रोजाना यहां हजारों की संख्या में लोग पॉज़िटिव पाये जा रहे हैं। इसी बीच बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। चुनाव प्रचार के लिए सकड़ों लोगों की भीड़ जुटाई जा रही है और कोविड 19 महामारी के नियमों की धजियां उड़ाई जा रही हैं। लोग मास्क न लगाने के अजीबोगरीब बहाने बना रहे हैं। इससे जुड़ा एक वीडियो वरिष्ठ पत्रकार उमाशंकर सिंह ने ट्विटर पर शेयर किया है।

कोरोना से बचने के लिए सरकार लगातार मास्क लगाने के लिए कह रही है। उमाशंकर सिंह ने एनडीटीवी की एक रिपोर्ट का वीडियो ट्वीट कर लिखा “मास्क न लगाने के कैसे-कैसे बहाने… बस सुनिएगा… हँसिएगा नहीं क्योंकि मामला गंभीर है।” एनडीटीवी के इस वीडियो में एक व्यक्ति मास्क न लगाने पर तर्क दे रहा है कि बिहार में कोरोना नहीं है। एक शख्स कहता है “इधर कोई मास्क नहीं लगता है। बिहार में उतना बीमारी नहीं है।”

रिपोर्टर ने जब पूछा की अगर आप को कोरोना हो जाएगा उसके बाद क्या करेंगे। इसपर शख्स ने कहा “जब पकड़ेगा तब देखेंगे, यहां ऐसा-ऐसा दवाई है सब ठीक हो जाएगा।” एक ने कहा “हम लोग गर्दा खाते हैं, मिट्टी खाते हैं हम लोग को क्या बीमारी लगेगी। हम लोग सब सह लेते हैं। यहां 2, 4, 5 किलोमीटर में कहीं कुछ नहीं है।

बता दें आचार संहिता लागू होने के बाद 30 दिनों में कोरोना ने 161 लोगों की जान ले ली है। संक्रमण का खतरा हर दिन बढ़ रहा है। नेताओं की मनमानी और प्रशासन की लापरवाही के कारण संक्रमण का दायरा बढ़ रहा है। चुनाव की घोषणा के बाद ही दो मंत्रियों की कोरोना से मौत हुई है।

नेताओं में संक्रमण के मामले भी बढ़े हैं। राजधानी में तो 30 दिनों में 53 मौतें हुईं। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन चुनाव में नहीं हो रहा है, यह लापरवाही आने वाले दिनों में बड़ा खतरा बन सकती है। आचार संहिता लागू हुई थी तब 25 सितंबर तक बिहार में 881 लोगों की मौत हुई थी जो अब बढ़कर 1042 हो गई है। 30 दिनों में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। आचार संहिता लागू होने के बाद पंचायती राज मंत्री कपिल देव कामत और राज्य मंत्री विनोद की कोरोना से मौत हुई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: चीन से तनातनी के बीच बोले पूर्व मेजर ज.जीडी बख्शी- ‘ड्रैगन’ के खिलाफ नाथुला जैसी कार्रवाई करने का समय आ गया है
2 BJP झूठ फैलाने में सबसे आगे? FB के फैक्ट चेकिंग साझेदार भाजपा की बढ़ाई गलत जानकारी को जांचने-परखने में विफल- रिपोर्ट
3 कोयला घोटाले में पूर्व केन्द्रीय मंत्री दिलीप रे को हुई 3 साल की सजा, तुरंत जमानत पर हुए रिहा
यह पढ़ा क्या?
X