ताज़ा खबर
 

कोरोना: एक जैसा नाम होने से अस्पताल ने 2 मरीजों को कर दिया था डिस्चार्ज, मामला खुलने पर फिर भेजे गए क्वारेंटाइन सेंटर

Coronavirus: यह गलती दो मरीजों के एक जैसे नाम के चलते हुई है। मुरादाबाद के इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेन ट्रेड एंड मैनेजमेंट को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। बुधवार शाम इस सेंटर से 121 लोगों को डिस्चार्ज किया गया था।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: April 24, 2020 2:32 PM
sampleप्रतीकात्मक तस्वीर।

कोरोनावायरस से संक्रमितों के इलाज में जुटे डॉक्टरों को पूरा देश सलाम कर रहा है। हालांकि, इस बीच उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले से एक ऐसी खबर आई है, जिसमें स्वास्थ्य विभाग की बड़ी गलती सामने आई है। यह गलती दो मरीजों के एक जैसे नाम के चलते हुई है। मुरादाबाद के इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेन ट्रेड एंड मैनेजमेंट को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। बुधवार शाम इस सेंटर से 121 लोगों को डिस्चार्ज किया गया। ये सभी कोरोनावायरस के संक्रमण में आने के बाद ठीक हुए थे। इनमें एक जैसे नाम वाले दो लोग भी शामिल थे।

इनमें से एक जब व्यक्ति जब अपने घर पहुंचा तो पड़ोसियों को शक हुआ, क्योंकि उसकी एक दिन पहले ही रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। उन्होंने इसकी शिकायत की। मामले की जांच हुई तो पता चला कि जिन्हें घर भेजना था, उनका और कोरोना पॉजिटिव मरीजों के नाम एक जैसे थे। यह बात आग की तरह फैल गई। स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। गुरुवार सुबह दोनों कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इन दोनों के संपर्क में आने वाले सभी लोगों को भी क्वारेंटाइन किया गया है।

मुरादाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) ने एमसी गर्ग ने बताया, COVID19 पॉजिटिव मरीजों को समान नाम के कारण भ्रम होने की वजह से एक क्वारेंटाइन सेंटर से छुट्टी दे दी गई थी। बाद में उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में भेज दिया गया है। मामले की जांच चल रही है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें:
कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा
जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए
इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं
क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

बताया जा रहा है कि जरूरत पड़ने पर क्वारेंटाइन अवधि पूरी कर चुके सभी लोगों के सैंपल फिर से लिए जाएंगे। कोरोना पॉजिटिव मरीजों को घर छोड़ने गए स्टाफ की भी स्क्रीनिंग की जा रही है। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कहा कि अनजाने में ऐसी गलती हुई है। मेडिकल स्टाफ को हिदायत दी गई है कि ऐसी गलती दोबारा नहीं होने पाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पत्नी की खातिर मजदूर ने घर पहुंचने के लिए साइकिल पर की 1100 किलोमीटर की यात्रा, बिस्किट, चावल में गुजारे 7 दिन, भावुक कर देगी ये कहानी
2 कोरोना राहत का सच: गरीबों में बंटनी थी 1.95 लाख मीट्रिक टन दाल, बंटी 19,496 टन
3 पूर्णबंदी से होगा 12 लाख करोड़ का नुकसान
ये पढ़ा क्या?
X