ताज़ा खबर
 

ढिलाई का असर? 24 राज्यों, UT में राष्ट्रीय औसत से भी तेज पैर पसार रहा कोरोना! जानें, कहां है कितना केस लोड

Covid-19, Lockdown: असम और त्रिपुरा में अब एक सप्ताह से अधिक समय से हर दिन 10 फीसदी से अधिक मामले की बढ़ोतरी हो रही है। कर्नाटक में भी पिछले कुछ दिनों से कोरोना मरीजों के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है।

Author Translated By Ikram पुणे | Updated: June 9, 2020 7:50 AM
covid-19देश में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है।

Covid-19, Lockdown: राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में छूट देने के बाद कोरोना वायरस महामारी के मामलों में जल्द ही अपेक्षित उछाल शुरू होने की संभावना है। पिछले कुछ दिनों में कई राज्यों में ट्रेंडलाइन से ऊपर की ओर ग्राफ बढ़ता नजर आया है। रविवार को जम्मू-कश्मीर और हरियाणा ने कोविड-19 के नए मामलों की असामान्य रूप से बढ़ोतरी की सूचना दी। उत्तर प्रदेश ने पिछले तीन दिनों में दो बड़ी छलांग लगाई हैं। असम और त्रिपुरा में अब एक सप्ताह से अधिक समय से हर दिन 10 फीसदी से अधिक मामले की बढ़ोतरी हो रही है। कर्नाटक में भी पिछले कुछ दिनों से कोरोना मरीजों के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है और ये दक्षिणी राज्य अब कोरोना से प्रभावित टॉप दस राज्यों की लिस्ट में शामिल हो चुका है।

दूसरे राज्य जैसे पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और केरल में भी बड़ी संख्या रोज कोविड के केस सामने आ रहे हैं। तमिलनाडु और दिल्ली, जो कि कोरोना प्रभावित राज्यों में दूसरे और तीसरे नंबर पर हैं, में हर रोज 1,300 से 1,500 मामलों की पुष्टि हो रही है। असल में 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना के नए मामलों की पुष्टि की दर राष्ट्रीय औसत 4.39 (7 दिन के आधार पर) से भी ज्यादा है।

Bihar, Jharkhand Coronavirus LIVE Updates

हालांकि कोरोना से प्रभावित शीर्ष पांच राज्यों में से तीन (महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान) में नए मरीजों की संख्या में थोड़ी कमी आई है। तीनों राज्यों में संयुक्त रूप से कमी आने पर राष्ट्रीय औसत में भी कमी आई है। मगर इन तीनों राज्यों का प्रभाव ज्यादा लंबे समय तक नहीं रहेगा। खासतौर पर तब जब चोटी के पांच में से दो राज्यों (दिल्ली और तमिलनाडु) में रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं। हालांकि राष्ट्रीय केस लोड में इन पांच राज्यों की हिस्सेदारी अब घटने लगी है। हाल ही में देश में कुल संक्रमितों की संख्या में इन पांच राज्यों की 74 फीसदी की हिस्सेदारी थी, जो अब घटकर 68 फीसदी पर आ गई है।

तीन राज्य महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान जिनकी राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना के मामलों में 52 फीसदी हिस्सेदारी थी, वो भी घटकर अब 45 फीसदी पर आ गई है। दो सप्ताह तक कुल मामलों में अकेले 37 फीसदी के हिस्सेदार वाले महाराष्ट्र में अब ये आंकड़ा घटकर 33 फीसदी पर आ गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus in India HIGHLIGHTS: 77 दिन बाद अच्छी खबर! संक्रमितों से ज्यादा हुई ठीक हुए लोगों की संख्या, अब 1.34 लाख पीड़ित, तो 1.35 लाख हुए रिकवर
2 शोध: कोरोना से जंग में कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर जोर
3 एलएनजेपी आंखों देखी: मरीज मरता रहा और कर्मचारी पूछते रहे, दिल्ली से हो
यह पढ़ा क्या?
X