ताज़ा खबर
 

कोरोना पर बिगड़ रहा भारत का हाल! 182143 मामलों के साथ बना विश्व में 7वां सर्वाधिक प्रभावित देश

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में रविवार को पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 8,380 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,82,143 हो गए हैं जबकि मृतक संख्या बढ़कर 5,164 हो गई है। ड

Author Published on: June 1, 2020 12:35 PM
अमेरिका संक्रमण के 17,16,078 मामलों के साथ सबसे अधिक प्रभावित देश है, जबकि 1,82,143 मामलों के साथ भारत सातवें स्थान पर है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार भारत कोरोना वायरस संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित देशों की सूची में सातवें स्थान पर है। देश में संक्रमण के 1,82,143 मामले हैं। डब्ल्यूएचओ ट्रैकर के अनुसार रविवार रात साढ़े दस बजे तक दुनिया भर में संक्रमण के 59,34,936 मामले हैं और 3,67,166 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हो चुकी है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में रविवार को पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 8,380 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,82,143 हो गए हैं जबकि मृतक संख्या बढ़कर 5,164 हो गई है। डब्ल्यूएचओ ट्रैकर के अनुसार, अमेरिका, ब्राजील, रूस, ब्रिटेन, स्पेन और इटली के बाद भारत कोविड-19 से सातवां सबसे अधिक प्रभावित देश है।

अमेरिका संक्रमण के 17,16,078 मामलों के साथ सबसे अधिक प्रभावित देश है, जबकि 1,82,143 मामलों के साथ भारत सातवें स्थान पर है। जर्मनी में कोरोना वायरस संक्रमण के1,81,482 , तुर्की में 1,63,103 और ईरान में1,48,950 मामले हैं।

‘HCQ की खुराक स्वास्थ्यकर्मियों मं कोविड-19 रोकेगी’: मलेरिया-रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की सही खुराक लेने के साथ ही उपयुक्त तरीके से पीपीई (व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण) किट का इस्तेमाल करने से स्वास्थ्यकर्मियों में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आने का खतरा कम हो सकता है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के एक अध्ययन में ऐसे नतीजे सामने आए हैं।

रविवार को आईसीएमआर के इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में ऑनलाइन प्रकाशित मामलों को नियंत्रण करने वाले अध्ययन में पाए गए नतीजों के मुताबिक, अध्ययन में शामिल लोगों को चार से पांच संतुलित खुराक देने पर उनमें सार्स-सीओवी-2 संक्रमण के खतरे में महत्वपूर्ण कमी देखी गई। अनुसंधानकर्ताओं ने अध्ययन में कहा कि इसके साथ ही पीपीई किट का उपयुक्त इस्तेमाल भी लाभकारी साबित हुआ। अध्ययन में कहा गया कि स्वास्थ्यकर्मियों को संक्रमित होने का सबसे अधिक जोखिम होता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अनलॉक 1 के लिए दिल्ली सरकार का प्लान, बाजार में सभी दुकानें, फैक्ट्रियां खुलेंगी, बॉर्डर किए गए सील
2 COVID-19 संकटः 68 दिन के Lockdown में नरेंद्र मोदी सरकार लाई 94 ऑर्डर, करीब 1.3 आदेश MHA ने हर रोज किए जारी
3 कोरोनाः केंद्र का दावा- 29 लाख को संक्रमण, 78 हजार को मौत से बचाया; पर एक्सपर्ट बोले- ये मॉडल पारदर्शी नहीं, किसी को नहीं पता आंकड़े हैं क्या
ये पढ़ा क्या?
X