ताज़ा खबर
 

दर्जनभर राज्यों के 145 जिले बनने जा रहे कोरोना के नए हॉटस्पॉट, कैबिनेट सेक्रेटरी ने पूर्वी राज्यों को चेताया

Covid-19 Hotspots: राज्यों के समक्ष एक प्रेजेंटेशन में कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने कहा कि पूर्वी भारत में कोरोना के हॉटस्पॉट उभरने की संभावना है, जो कि कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों से प्रवासी मजदूरों की वापसी के साथ शुरू होगा।

नाम ना छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि यह मुख्य रूप से महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश जैसे कोविड हॉटस्पॉट राज्यों से प्रवासी श्रमिकों की वापसी की वजह है कि पूर्वी भारत में मामले बढ़े हैं।

Covid-19 Hotspots: केंद्र ने ऐसे 145 जिलों की पहचान की है जहां पिछले तीन हफ्तों में कोरोना वायरस के मामलों की पुष्टि हुई है। सरकार ने चेतावनी दी है कि अगर प्रभावी रोकथाम के उपाय नहीं किए गए थे तो ये इस महामारी के हॉटस्पॉट के रूप में उभर सकते हैं। जिन जिलों की पहचान की गई है उनमें अधिकतर ग्रामीण क्षेत्रों में हैं।

बीते गुरुवार को राज्यों के समक्ष एक प्रेजेंटेशन में कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने कहा कि पूर्वी भारत में कोरोना के हॉटस्पॉट उभरने की संभावना है, जो कि कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों से प्रवासी मजदूरों की वापसी के साथ शुरू होगा। कैबिनेट सचिव ने कहा कि 12 राज्य में 25 मई तक तीन सप्ताह के भीतर तेजी से संक्रमण फैला। इसमें बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा शामिल हैं, जहां पूर्व में कोरोना संक्रमितों की संख्या ज्यादा नहीं थी। ऐसे ही अन्य राज्यों जैसे त्रिपुरा और मणिपुर में भी सिंगल डिजिट के मुकाबले संक्रमितों की संख्या में तेजी आई है।

Coronavirus India LIVE updates

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश जैसे बड़े राज्यों में गुरुवार तक भारत के कुल मामलों के 1,65,000 केस थे। पिछले दो सप्ताह में इसमें तेजी आई है। 13 तक भारत में कोरोना के 75,000 केस थे। मंत्रालय ने कहा कि इस बढ़ोतरी में बड़े राज्यों का खासा योगदान रहा। मगर बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों में भी कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है।

नाम ना छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि यह मुख्य रूप से महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश जैसे कोविड हॉटस्पॉट राज्यों से प्रवासी श्रमिकों की वापसी की वजह है कि पूर्वी भारत में मामले बढ़े हैं। अधिकारी ने आगे कहा कि प्रवासी श्रमिकों की संख्या अधिक होने के कारण रेलवे और बस स्टेशनों पर यात्रियों की उचित स्क्रीनिंग नहीं हुई थी। इसलिए कई लोगों से संक्रमण एक राज्य से दूसरे राज्य में पहुंच गया।

Lockdown 5.0 LIVE Updates

ऐसे में मंत्रालय ने ऐसे 145 जिलों की पहचान की है, जहां राज्य सरकारों को मुख्य रूप से सक्रिय रहने की जरुरत है और सुनिश्चित किया जा सके कि कोरोना के नए उपकेंद्र नहीं बने। प्रेजेंटेशन के मुताबिक इन जिलों में कुल 2,147 एक्टिव केस हैं जो भारत के कुल मामलों का 2.5 फीसदी है। इनमें से 26 जिलों में 20 से ज्यादा एक्टिव केस हैं। 145 जिलों में आधे जिले असम, छत्तीसगढ़, झारखंड, उत्तर प्रदेश, ओडिशा और मध्य प्रदेश में हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories