ताज़ा खबर
 

बीजेपी सांसद ने कहा- यह वक्त तीन सवालों के जवाब ढूँढने का है, पर सरकार के पास तैयारी एक की भी नहीं है

स्वामी ने कहा कि अब सरकार को कोरोना को कैसा हराना है, अर्थव्यवस्था को ठीक कैसे करना है और चीन को लद्दाख से कैसे भगाना है। इसका एक डॉक्यूमेंट तैयार करना चाहिए।

BJP के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी। (express file photo)

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट कर सरकार को तीन अहम सवालों के जवाब ढूँढने को कहा है। स्वामी ने कहा कि अब सरकार को कोरोना को कैसा हराना है, अर्थव्यवस्था को ठीक कैसे करना है और चीन को लद्दाख से कैसे भगाना है। इसका एक डॉक्यूमेंट तैयार करना चाहिए।

सोमवार को स्वामी ने ट्वीट कर लिखा “समय आ गया है कि सरकार के विश्लेषकों को तीन कार्यान्वयन योग्य दस्तावेज तैयार करने के लिए कहा जाए: 1. कोरोनावायरस पर कैसे विजय प्राप्त करें, 2. ढहती भारतीय अर्थव्यवस्था को कैसे बचाया जाए और जीडीपी को प्रति वर्ष 10 प्रतिशत की दर से कैसे बढ़ाया जाए, 3. चीन को लद्दाख से कैसे निकाला जाए। पर वर्तमान में सरकार के पास तैयारी एक की भी नहीं है।”

स्वामी के इस ट्वीट पर यूजर्स भी अपनी प्रतिकृया दे रहे हैं। एक यूजर ने लिखा “क्यों न स्वामी जी इन्हें तैयार करके मोदी जी को सौंप दें। आखिरकार, यह आपकी पार्टी की सरकार है और आपको उनके समर्थन की जरूरत है।”

इसपर स्वामी ने जवाब देते हुए कहा “मैं 2014 नवंबर से ऐसा कर रहा था। मैंने नवंबर 2019 में हार मान ली क्योंकि न तो मोदी अर्थशास्त्र को समझते हैं और न ही उनके किसी करीबी सहयोगी को इसकी जानकारी है। इसलिए इसे कोल्ड स्टोरेज में रखा गया है। अर्थ ज्ञान गंगा पर जनता को सूचित करना बेहतर है।”

स्वामी के इस ट्वीट पर प्रिथीमन नाम के एक यूजर ने लिखा “आपका क्या जवाब होगा इसपर, आप एक अच्छे विश्लेषक हैं।” इसपर स्वामी ने लिखा “तुम्हारा मतलब सरकार कोई सुराग नहीं है?” एक यूजर ने लिखा “लोग भाजप से नाराज नहीं है लेकिन अब मोदी से हार मान चुके हैं। उन्हें अब सलाहकारों की एक बेहतर टीम की जरूरत है।”

गौरव नाम के एक यूजर ने लिखा “भाजपा को हिन्दू तभी तक अच्छे लगते हैं जब वह बिना सवाल किए “कमल” का “बटन दबाते” रहे। जैसे ही हिन्दू “बेरोजगारी महंगाई, शिक्षा व्यवस्था, स्वास्थ्य, परिवहन सुविधा” जैसी चीजों पर सवाल करता है उसी पल भाजपा के लिए हिंदू “गद्दार” हो जाता है।”

Next Stories
1 घटता कोरोना संक्रमण, बढ़ती मौतें-आखिर माजरा क्या है
2 जिलाधिकारियों से बातचीत के दौरान मोदी से हुई चूक, बोले- तेजी से बढ़ें पॉजिटिव केस, आने लगे ऐसे कमेंट्स
3 वैक्सीन के दोनों डोज लेने के बाद भी जरूरी है मास्क, जानें कैसे अलग है अमेरिका से भारत की स्थिति
यह पढ़ा क्या?
X