ताज़ा खबर
 

SCO समिट में पीएम नरेंद्र मोदी का बिना नाम लिए पाकिस्तान पर हमला, कहा- आतंकवाद की फंडिंग बंद हो

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी भारत को SCO सदस्यता मिलने पर बधाई दी।

चीनी अखबार लिखता है कि भारत ने ऐसे देश को चुनौती दी है, जो ताकत में उससे कहीं अधिक दमदार है। (PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कजाकिस्तान में शंघाई सहयोग सम्मेलन (SCO) सम्मेलन को संबोधित किया। उन्होंने सभी देशों के साथ भारत के संबंध ऐतिहासिक बताते हुए भारत को SCO की सदस्यता मिलने पर सभी देशों का आभार व्यक्त किया। पीएम मोदी ने कहा कि आतंक मानव मूल्यों का सबसे बड़ा दुश्मन है और आतंकवाद से लड़ाई में सभी देशों का सहयोग जरूरी है। साथ ही उन्होंने कहा कि आतंकवाद की फंडिग बंद होनी चाहिए। मोदी ने कहा कि एससीओ सदस्यों के बीच कनेक्टिविटी परियोजनाओं में सहयोग भारत के लिए प्राथमिकता है, देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता महत्वपूर्ण कारक होने चाहिए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भी भारत को SCO सदस्यता मिलने पर बधाई दी। उन्होंने कहा इससे शांति और विकास को बढ़ावा मिलेगा। SCO  आतंक के खिलाफ काम करेगा। नवाज ने कहा कि हमें भविष्य की पीढ़ियों के लिए शांति की विरासत छोड़नी चाहिए, ना कि विरोधाभास और संघर्ष की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अस्ताना में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन से इतर शुक्रवार को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे और परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता के मुद्दे पर बढ़ते मतभेदों के बीच दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने के तरीकों पर चर्चा की।

शरीफ से मिले मोदी, पूछा सेहत का हाल

इससे एक दिन पहले नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तानी के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक कार्यक्रम में 17 महीने बाद मुलाकात की। इससे पहले दोनों नेताओं ने 25 दिसंबर 2015 को लाहौर में मुलाकात की थी। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों में जमी बर्फ, बातचीत में गतिरोध और जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर बढ़ती शत्रुता के बीच एक-दूसरे का अभिवादन किया। इसके अलावा पीएम मोदी ने नवाज शरीफ और उनकी मां की सेहत का हाल भी पूछा।

 

किसान आंदोलन: आरएसएस नेता ने ही कर रखा है शिवराज सरकार की नाक में दम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App