ताज़ा खबर
 

कोरोना पर जारी उम्मीदः Oxford की AstraZeneca वैक्सीन 90% तक कारगर- टेस्ट में दावा, बाकी टीके कितने असरदार? जानें

ट्रायल में पता चला कि अगर वैक्‍सीन की पहली डोज आधी दी जाए और दूसरी डोज पूरी तो यह 90% तक असर करती है।

coronavirus, covid 19कहा जा रहा है कि इस वैक्सीन के कोई गंभीर साइड इफेक्ट नहीं हैं। (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में है और लोग सभी को इंतजार इस महामारी के खिलाफ लड़ने वाली वैक्सीन का है। इस बीच एक टेस्ट में दावा किया गया है कि Oxford की AstraZeneca वैक्सीन 90% तक कारगर हो सकती है। AstraZeneca की तरफ से सोमवार को कहा गया कि इस वैक्सीन का असर 90 फीसदी है और इसके कोई गंभीर साइड इफेक्ट नहीं हैं।

जो वैक्सीन Oxford University द्वारा बनाई गई है उसके बारे में कहा जा रहा है कि ब्रिटेन और ब्राजील में इसके हाफ और फुल डोज की टेस्टिंग की गई है। अंतरिम एनालिसिस के मुताबिक, दो तरह की डोज के आंकड़े एक साथ रखने पर वैक्‍सीन का प्रभाव 70.4% तक रहा। रिसर्चर्स के मुताबिक, अलग-अलग करने पर वैक्‍सीन 90% तक असरदार मिली। वैक्‍सीन ज्‍यादा असरदार तब रही जब पहली डोज हल्‍की और दूसरी सामान्‍य रखी गई। यानी शुरुआती संकेत यह बताते हैं कि वैक्‍सीन वायरस ट्रांसमिशन को कम कर सकती है।

Astra की तरफ से कहा गया है कि डोज के चार पैटर्न्‍स में से एक में वैक्‍सीन 90% तक असरदार रही और अगर हम वही पैटर्न अपनाएं तो कई लोगों को वैक्‍सीन दी जा सकती है। ट्रायल में पता चला कि अगर वैक्‍सीन की पहली डोज आधी दी जाए और दूसरी डोज पूरी तो यह 90% तक असर करती है। कहा जा रहा है कि वैक्सीन से किसी भी प्रकार का गंभीर साइड इफेक्ट नहीं हुआ है। Astra के चीफ एग्जीक्यूटिव Pascal Soriot ने एक बयान जारी कर कहा कि वैक्सीन की क्षमता से यह बात साबित हुई है कि यह कोविड-19 से लड़ने में काफी कारगत साबित होगी इससे पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी पर भी व्यापक असर पड़ेगा।

हालांकि इससे पहले भी वैक्सीन बनाने वाली कुछ अन्य कंपनियों ने भी अलग-अलग दावे किये हैं।
– 16 नवंबर को यूएस आधारित Moderna Inc ने एक बयान जारी कर कहा था कि जिस वैक्सीन पर अभी शोध हुआ है वो 94.5प्रतिशत इफेक्टिव है।

– इससे पहले Pfizer Inc ने कहा था कि फुल ट्रालय डेटा से पता चला है कि उनके द्वारा तैयार की गई वैक्सीन 90 फीसदी तक सक्षम है। ऐसा ही दावा जर्मनी की BioNTech SE ने भी किया था।

– रूस की Sputnik-V vaccine बनाने वाली कंपनी ने 11 नवंबर को दावा किया था यह वैक्सीन 90 फीसदी से ज्यादा कारगर है। हालांकि इस जांच सिर्फ 20 इनफेक्शन पर की गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ज‍िस पाक‍िस्‍तानी को पैनल में बुलाया, उसे ही र‍िपब्‍ल‍िक के एड‍िटर-इन-चीफ अर्नब गोस्‍‍‍‍‍‍वामी ने कहा- क‍िस कॉमेडी सर्कस से निकले हो?
2 महात्मा गांधी के पड़पोते की कोरोना से मौत, कई देशों में अब भी कहर बरपा रहा वायरस
3 ‘Tata Literature Live Festival’ में नॉम चोम्स्की और विजय प्रसाद की ऑनलाइन चर्चा कैंसल, पूछा- यह सेंसरशिप है?
यह पढ़ा क्या?
X