ताज़ा खबर
 

कोरोना: 204 जिलों में कम हुआ टीकाकरण, 306 जिलों में 20% से ज्यादा पॉजिटिविटी

भारत में अब तक कोविड-19 के 17.26 करोड़ टीके लगाए जा चुके हैं। सोमवार को यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई।

Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: May 11, 2021 11:53 AM
दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में एक महिला को टीका लगाते हुए हेल्थ वर्कर। (फोटोः पीटीआई)

कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के बीच देश के 204 जिलों में कम टीकाकरण हुआ है, जबकि 306 जिलों में 20 फीसदी से अधिक पॉजिटिविटी रेट दर्ज किया गया है। यह जानकारी हमारे सहयोगी अखबार “दि इंडियन एक्सप्रेस” द्वारा जिलावार डेटा के विश्लेषण के बाद सामने आई है।

24 अप्रैल से 30 अप्रैल की तुलना में एक मई से सात मई के बीच टीकाकरण में कमी दर्ज की गई। केंद्र द्वारा सिर्फ 50 फीसदी खुराकें ही सीधे राज्यों को वितरित की गईं। वहीं, शेष 50 प्रतिशत सीधे खुले बाजार से खरीदी जा रही हैं। कुल-मिलाकर 24 से 30 अप्रैल के बीच 77.23 लाख डोज इन अधिक पॉजिटिविटी वाले 306 जिलों में दी गईं, जबकि 1 मई से सात मई के बीच यह आंकड़ा 60.51 लाख आ गया, जो कि 21.64 फीसदी है। ऐसा होने के साथ तीन बड़ी चीजें उभर कर सामने आती हैं। 1- ऐसे 66% जिलों में टीकाकरण में गिरावट शुरू हुई, क्योंकि राज्यों को 18-44 साल के लोगों के लिए 50 फीसदी खुराकें खुद खरीदनी पड़ीं। 2- इनमें से अधिकांश देश के ग्रामीण जिलों में हैं। 3- जिन 101 जिलों में कोरोना मामलों में उछाल आया, वहां टीकाकरण में वृद्धि (1-7 मई के बीच) 19.11 लाख खुराक मामूली थीः लगभग 40 फीसदी ऐसी डोज दिल्ली और हरियाणा में दी गईं। यह दर्शाता है कि जहां टीकाकरण में वृद्धि हो रही है, वहां भी यह कुछ राज्यों में केंद्रित है।

कहां 50% से अधिक कम हुआ टीकाकरण?: 37 जिलों में वैक्सिनेशन में 50 फीसदी से अधिक गिरावट दर्ज की गई। एक से सात मई के बीच इन जिलों में 5.18 लाख खुराकें दी गई थीं। छह अधिक पॉजिटिविटी रेट वाले जिले जहां 70 फीसदी से अधिक कम टीकाकरण हुआ, उनमें सिक्किम का दक्षिणी जिला (80 फीसदी), कर्नाटक का उदुपी (73.72 प्रतिशत) महाराष्ट्र का सतारा (71.36 फीसदी) और ओडिशा का बारगढ़ (76.09%) हैं।

40-50% गिरावट यहां-यहां की गई दर्ज: इस श्रेणी में 23 जिले हैं। 1-7 मई के बीच 5.84 लाख डोज यहां दी गई थीं। कर्नाटक के पांच जिले, ओडिशा के तीन, बंगाल और केरल के दो-दो इस कैटेगरी में आते हैं। पुणे, अमृतसर, चेन्नई, त्रिपुरा और अर्णाकुलम प्रमुख जिलों में से हैं।

बता दें कि भारत में अब तक कोविड-19 के 17.26 करोड़ टीके लगाए जा चुके हैं। सोमवार को यह जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई। मंत्रालय के मुताबिक, 18 से 44 आयु वर्ग के 5,18,479 लाभार्थियों को सोमवार को पहली खुराक मिली, जिससे टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण के शुरू होने के बाद से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में टीका लगवाने वाले इस श्रेणी के लोगों की संख्या बढ़कर 25,52,843 हो गई।

इस आयुवर्ग में अबतक महाराष्ट्र के 5,10,347, राजस्थान के 4,11,002, दिल्ली के 3,66,309, गुजरात के 3,23,601 और हरियाणा के 2,93,716, बिहार के 1,77,885, उत्तर प्रदेश के 1,66,814 और असम के 1,06,538 लोगों ने टीका लगवाया है। मंत्रालय ने कहा कि अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार देश में अब तक दी गई कोविड-19 टीके की खुराकों की कुल संख्या बढ़कर 17,26,33,761 हो गई है। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 कोरोनाः भारतीय स्ट्रेन को WHO ने रखा ‘चिंताजनक स्वरूप’ की श्रेणी में; येचुरी बोले- मोदी-शाह गए खामोशी में
2 कोरोना: कांग्रेस ने दिल्ली के हालात पर साधा बीजेपी पर निशाना तो कौवे का फोटो दिखाने लगे भाजपा प्रवक्ता
3 प. बंगाल की महिला से रेप मामले में SKM ने कहा- टिकरी बार्डर पर अब नहीं है किसान सोशल आर्मी का टेंट, आरोपियों को किया बैन
ये पढ़ा क्या?
X