ताज़ा खबर
 

ट्रक खड़े रहे, रेलवे स्टाफ रोके गए, ऑनलाइन डिलीवरी स्टाफ के साथ बदतमीजी; जानें- लॉकडाउन के हालात

दरअसल कई राज्यों ने लॉकडाउन के तहत अपने अपने प्रदेश की सीमाएं भी सील कर दी हैं, जिससे ऐसे हालात बने हैं। माल गाड़ियों को ही संचालन की छूट दी गई है।

Translated By नितिन गौतम नई दिल्ली | Updated: March 25, 2020 8:27 AM
कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान जरूरी चीजों की सप्लाई भी हुई बाधित। (एक्सप्रेस फोटो)

Surbhi Gupta   Pranav Mukul  Avishek G Dastidar

देश में जारी लॉकडाउन के बीच देश के विभिन्न हाइवेज पर जरूरी सामान जैसे दवाईयां, दूध, फल और सब्जियां आदि ले जाने वाले ट्रकों की लंबी लाइन लग गई है। दरअसल कई राज्यों ने लॉकडाउन के तहत अपने अपने प्रदेश की सीमाएं भी सील कर दी हैं, जिससे ऐसे हालात बने हैं। माल गाड़ियों को ही संचालन की छूट दी गई है लेकिन राज्य सरकारों द्वारा जिन जरूरी सेवाओं को लॉकडाउन में छूट दी गई है, उनमें रेलवे शामिल नहीं है। जिससे माल ढुलाई सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं।

लॉकडाउन के दौरान दी गई छूट को लेकर काफी कन्फ्यूजन की स्थिति रही। ऑनलाइन राशन की सप्लाई करने वाली कंपनियां जैसे ग्रोफर्स और बिग बास्केट आदि भी इस लॉकडाउन के हालात से कन्फ्यूजन की स्थिति में हैं। ग्रोफर्स के सीईओ अलबिंदर ढींढसा ने ट्वीट कर बताया कि उनकी कंपनी के फरीदाबाद स्थित वेयरहाउस को अधिकारियों ने बंद करा दिया है।

बिग बास्केट के अधिकारियों ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पुलिस ने पूरे देश में उनके लॉजिस्टिक पार्टनर्स को रोक दिया है। ऑनलाइन फार्मेसी 1mg के सहसंस्थापक प्रशांत टंडन ने बताया कि उनके डिलिवरी स्टाफ को हैदराबाद, दिल्ली, मुंबई, लखनऊ और बेंगलुरू में पीटने की करीब 17-18 घटनाएं हुई।

ऐसी ही शिकायतें अन्य होम डिलिवरी कंपनियों की तरफ से सामने आयी हैं। रेलवे ने कैबिनेट सचिव को बताया है कि माल ढुलाई में लगे उनके करीब 5000 कर्मचारियों को ड्यूटी पर आने से रोका गया है। एक सरकारी अधिकारी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि कानूनी एजेंसियां हमारे कर्मचारियों, लेबर को यह कहकर ड्यूटी पर नहीं आने दे रहे हैं कि सभी ट्रेनें बंद हो गई हैं, ऐसे में किसी रेलवे कर्मचारी को छूट नहीं दी जाएगी।

बिहार में जरूरी चीजों की कमी हुई है। बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने बताया कि ‘हमारे यहां पश्चिम बंगाल से चावल आते हैं, दालें मध्य प्रदेश के कटनी और सतना से आती हैं। वहीं सरसों का तेल राजस्थान से आता है। ट्रकों को राज्य की सीमाओं पर रोक दिया गया है।’

आल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के अध्यक्ष कुलतरण सिंह अटवाल ने बताया कि ‘अधिकतर ट्रक बिहार, पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और कुछ दक्षिण भारतीय राज्यों की सीमाओं पर रुके हुए हैं। सरकार ने सब कुछ रोक दिया है। लेकिन अगर ट्रांसपोर्ट चेन टूटेगी तो इससे जरूरी चीजों की सप्लाई में कमी आ सकती है।’

Next Stories
1 दिल्ली: खाने को लंगर, सोने को रैन बसेरों का सहारा
2 दिल्ली: नवरात्र में होगा भाजपा के नए अध्यक्ष का फैसला
3 दिल्ली: पुलिस ने शाहीनबाग प्रदर्शन बंद कराया, विरोध के लिए आई भीड़ को लौटाया
ये पढ़ा क्या?
X