ताज़ा खबर
 

कोरोना मरीजों की रूट मैपिंग, जियो टैगिंग कर हो रही स्क्रीनिंग, टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर केरल लड़ रहा महामारी से जंग

पिछले रविवार को केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने एक मीटिंग में कहा कि पथानमथिट्टा जिला प्रशासन द्वारा अपनाई गई रणनीति अनुकरण करने लायक है।

Author Edited By प्रमोद प्रवीण तिरुनंतपुरम | Updated: April 12, 2020 9:20 AM
इस जिले में लगभग सभी लोगों को निगरानी में रखा गया है, जिन्होंने हवाई, रेल या सड़क मार्ग से वहां प्रवेश किया है।

दिल्ली में तब्लीगी जमात के मरकज से फैले कोरोना संक्रमण करे अलर्ट के बाद केरल ने सघन अभियान चलाकर कोरोना का टेस्ट कराया। इस दौरान 19 वर्षीय एक युवती में कोरोना के लक्षण दखाई दिए। उसे 14 दिनों के लिए होम क्वारंटीन कर दिया गया। छानबीन में पता चला कि उसने जमातियों के जमावड़े के करीब के र्लवे स्टेशन से ट्रेन पकड़ी थी और यात्रा कर घर लौटी थी। केरल में कोरोना के हॉस्पॉट बन चुके पथानमथिट्टा कोरोना से जंग में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर बेहतर उदाहरण पेश कर रहा है।

इस जिले में लगभग सभी लोगों को निगरानी में रखा गया है, जिन्होंने हवाई, रेल या सड़क मार्ग से वहां प्रवेश किया है। जिला प्रशासन ने कोरोना मरीजों और संदिग्धों का न केवल कॉन्टैक्ट डिटेल्स तैयार किया है बल्कि उसकी रूट मैपिंग भी की है। इसके विश्लेषण के आधार पर उच्च-जोखिम के रूप में निर्धारित समूहों का परीक्षण किया जा रहा है। शनिवार (11 अप्रैल) की शाम तक जिले में 2244 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका था।

पिछले रविवार को केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने एक मीटिंग में कहा कि पथानमथिट्टा जिला प्रशासन द्वारा अपनाई गई रणनीति अनुकरण करने लायक है। इस जिले में कोरोना का पहला मामला मार्च के शुरुआत में दिखा था, जब तीन सदस्यीय दल इटली से लौटा था। जां में उस परिवार के कई लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। यह आंकड़ा 16 तक पहुंचा था।

देशभर में कोरोना वायरस से जुड़ी लाइव जानकारी के लिए यहां क्लिक करे

कोरोना से निपटने के लिए पहले कदम के रूप में, पथानमथिट्टा जिला प्रशासन ने जिले की सीमाओं को सील कर दिया। देश के अन्य हिस्सों के विपरीत, जहां केवल विदेशों से यात्रा इतिहास वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जा रही थी, यहां विदेशों से आए लोगों के साथ-साथ दूसरे राज्यों, जिलों से आए लोगों की भी स्क्रीनिंग की गई और उनका डेटाबेस तैयार किया गया। डीएम ने बताया कि उस समय लोगों को सोशल आइसोलेशन, क्वारंटीन और कन्टेन्मेंट स्ट्रैटेजी का पता नहीं था लेकिन हमने इसे मुस्तैदी से लागू किया।
Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Next Stories
1 Coronavirus Lockdown: बच्चा बीमार, उसे ऊंटनी का ही दूध देना है’, महिला ने पीएम से लगाई गुहार तो IPS अफसर बने देवदूत, स्पेशल परमिशन ले ट्रेन से मुंबई पहुंचवाया 20 लीटर दूध
2 लोकनायक अस्पताल के सहायक नर्सिंग अधीक्षक में कोरोना संक्रमण की पुष्टि, दो अन्य में भी दिखे लक्षण
3 ऑनलाइन भुगतान से बचने को दुकानदारों के पास लाखों बहाने
ये पढ़ा क्या?
X