कोरोनाः राहुल ने PM को बता दिया इवेंट मैनेजर, कहा- टीका पर रणनीति नहीं है; लोग बोले- कांग्रेस काल में लाइन में घंटों लगने के बाद भी न मिलता था सिलेंडर

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज पीएम मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि उनकी समस्या यह है कि टीकाकरण की कोई रणनीति नहीं है।

rahul gandhi, corona, narendra modi modi
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक और ट्वीट कर केंद्र सरकार के खिलाफ कोरोना महामारी के दौरान लोगों के साथ ना खड़े रहने का आरोप लगाया। (एक्सप्रेस फोटो: प्रवीण खन्ना )

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज पीएम मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि उनकी समस्या यह है कि टीकाकरण की कोई रणनीति नहीं है। प्रधानमंत्री रणनीतिक रूप से नहीं सोचते। वह एक इवेंट मैनेजर हैं, वह एक समय में एक ही इवेंट के बारे में सोचते हैं। हालांकि राहुल गांधी की ये टिप्पणी ट्विटर यूजर्स को रास नहीं आई। योगेश जोशी (@ykjoshi) नाम के ट्विटर यूजर ने जवाब दिया कि कल भारत ने लोगों को 30 लाख वैक्सीन की खुराक दी। अगर यह जारी रहा तो इसका मतलब है कि प्रति माह 9 करोड़ खुराक। टीकाकरण का पैमाना देखें। आपकी पार्टी के शासन काल में कई घंटे कतार में खड़े रहने के बाद भी लोगों को रसोई गैस सिलेंडर नहीं मिलता था।

मालूम हो कि आज कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश में कोरोना रोधी टीकाकरण की कथित तौर पर धीमी गति होने को लेकर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने जिस तरह से ‘नौटंकी’ की और अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई, उस कारण कोरोना वायरस की दूसरी लहर आई। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को कोरोना से होने वाली मौतों को लेकर ‘झूठ बोलने’ की बजाय सच्चाई देश को बतानी चाहिए तथा विपक्ष के सुझावों को सुनना चाहिए कि विपक्ष सरकार का दुश्मन नहीं है। राहुल गांधी ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘कोरोना संकट को लेकर हमने एक के एक बाद सरकार को सलाह दी, लेकिन सरकार ने हमारा मजाक बनाया है। प्रधानमंत्री ने समय से पहले यह घोषित कर दिया कि कोरोना को हरा दिया गया है। सच्चाई यह है कि सरकार और प्रधानमंत्री को कोरोना समझ नहीं आया है और आज तक समझ नहीं आया है।’’

उन्होंने इस बात पर जोर दिया, ‘‘कोरोना एक बदलती हुई बीमारी है। इस वायरस को जितना समय आप देंगे, जितनी जगह देंगे यह उतना ही खतरनाक बनता जाएगा। मैंने पिछले साल कहा था कि कोरोना को समय और जगह मत दीजिए।’’ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘कोरोना को रोकने के तीन-चार तरीके हैं। इनमें से एक तरीका टीकाकरण है। लॉकडाउन एक हथियार है, लेकिन यह अस्थायी समाधान है। सामाजिक दूरी और मास्क भी अस्थायी समाधान है। टीका स्थायी समाधान है। अगर आप तेजी से टीका नहीं लगाते हैं तो वायरस बढ़ता जाएगा।’’

उन्होंने कहा , ‘‘कुछ ही समय पहले मैंने देखा कि विदेश मंत्री ने कहा कि हम ‘टीका कूटनीति’ कर रहे हैं और देश का नाम रोशन कर रहे हैं। आज स्थिति क्या है? देश के सिर्फ तीन फीसदी लोगों को टीका लगाया गया। यानी 97 फीसदी लोगों को कोरोना पकड़ सकता है। इस सरकार ने कोरोना के लिए दरवाजा खुला छोड़ रखा है।’’

राहुल गांधी ने कहा, ‘‘अमेरिका ने अपनी आधी आबादी को टीका लगा दिया। ब्राजील जैसे देश ने आठ-नौ फीसदी लोगों को टीका लगा दिया। हम टीका बनाते हैं, लेकिन हमारे यहां सिर्फ तीन फीसदी लोगों को टीका लगा है।’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘दूसरी लहर प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी है। प्रधानमंत्री ने जो नौटंकी की, अपनी जिम्मेदारी पूरी नहीं की, उसका कारण दूसरी लहर है।’’ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आगाह किया कि अगर मौजूदा गति से टीकाकरण हुआ तो और भी लहर आएगी क्योंकि वायरस का स्वरूप बदलता जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘जिस मृत्यु दर की बात की जा रही है वो झूठ है। यह झूठ सरकार फैला रही है। यह राजनीतिक मामला नहीं है, यह देश के भविष्य और देश के लोगों की जान बचाने का मामला है। विपक्ष सरकार का दुश्मन नहीं है। विपक्ष उनको रास्ता दिखा रहा है।’’

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट