ताज़ा खबर
 

Coronavirus मरीज के फेफड़े बना देता है बेहद कठोर? ऑटोप्सी में बुजुर्ग के फेफड़े मिले लेदर की गेंद जितने सख्त

कोरोना मरीज की ऑटोप्सी करने वाले डॉक्टर ने कहा है कि उनकी खोज अमेरिका और इटली से अलग और नई तरह की हैं। यानी भारत में कोरोनावायरस की स्ट्रेन बाकी जगहों से अलग है।

Coronavirus, COVID-19फेफड़ों पर होता है कोरोनावायरस का सबसे बुरा असर। (प्रतीकात्मक फोटो)

भारत में कोरोना का कहर अब धीरे-धीरे थमता दिख रहा है। हालांकि, मृतकों का आंकड़ा अभी भी पांच सौ के ऊपर बना हुआ है। पिछली कई स्टडीज में सामने आया है कि कोरोनावायरस मानव शरीर में सबसे पहले कोशिकाओं में खून जमाने का काम करता है। इसके बाद फेफड़ों पर हमला कर उन्हें कमजोर कर देता है। अब कर्नाटक में कोरोना से जान गंवाने वाले एक व्यक्ति की ऑटोप्सी रिपोर्ट में सामने आया है कि यह वायरस मौत के 18 घंटे बाद तक उसके गले और नाक के स्वैब सैंपल्स में मौजूद रहता है।

मृतक की ऑटोप्सी करने वाले बेंगलुरू के ऑक्सफोर्ड मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर दिनेश राव ने बताया कि 62 साल के मरीज के फेफड़े बिल्कुल किसी लेदर बॉल की तरह सख्त हो गए थे। फेफड़े में मौजूद वायु कोष बंद हो गए थे और खून की कोशिकाओं में थक्के जम गए थे।

डॉक्टर राव ने बताया कि कोरोना मरीज की ऑटोप्सी से संक्रमण के आगे बढ़ने के बारे में जानकारी मिलती है। मेडिकल कॉलेज में फॉरेंसिक डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉक्टर राव के मुताबिक, ऑटोप्सी 10 अक्टूबर को की गई थी। ये पूरी प्रक्रिया करीब एक घंटे 10 मिनट तक जारी रही थी और संक्रमण के आखिरी माइक्रोस्कोपिक सबूत बुधवार (21 अक्टूबर) को आए हैं।

राव ने बताया कि उन्होंने कोरोना मरीज की नाक, गले-मुंह, फेफड़ों की सतह, सांस लेने के पैसेज और चेहरे और गले की त्वचा से पांच स्वैब सैंपल्स इकट्ठा किए थे। आरटी-पीसीआर टेस्ट में सामने आया था कि गले और नाक के सैंपल्स मौत के बाद भी पॉजिटिव थे। यानी कोरोना मरीज का शव भी संक्रामक हो सकता है। खास बात यह थी कि मृतक की त्वचा में संक्रमण निगेटिव पाया गया।

ऑक्सफोर्ड मेडिकल कॉलेज में यह ऑटोप्सी मरीज के परिवार की सहमति से ही की गई थी। दरअसल, उसके ज्यादातर परिवारवाले होम आइसोलेशन या क्वारैंटाइन में रखे गए थे और इसलिए वे शव को ले भी नहीं सकते थे। डॉक्टर राव ने कहा कि उनकी खोज अमेरिका और इटली से अलग और नई तरह की हैं। यानी भारत में कोरोनावायरस की स्ट्रेन बाकी जगहों से अलग है। राव अपनी इस स्टडी को जल्द ही प्रकाशित करवा सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कभी घर से ही बिस्कुट बना बेचती थीं, आज हैं बड़ी MD, अब कंपनी ला रही 550 करोड़ का IPO; जानें रजनी बेक्टर्स की सक्सेस स्टोरी
2 डेटा प्रोटेक्शन बिलः Amazon ने संसदीय समिति के सामने पेश होने से किया इन्कार, FB की अंखी दास से दो घंटे तक पूछताछ- सूत्र
3 Kapil Dev health Live Update: कपिल की सेहत पर कोहली, सचिन और युवराज की प्रतिक्रिया, पढ़ें
ये पढ़ा क्या?
X