ताज़ा खबर
 

डेटा से सबक लेकर नीति बनाए सरकार, सिर्फ लॉकडाउन से नहीं मरेगा कोरोना’, WHO की चीफ साइंटिस्ट ने केंद्र को चेताया

Coronavirus Outbreak in india: डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि घातक कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लंबी चलने की संभावना है। उन्होंने कहा कि इससे पार पाने के लिए सिर्फ लॉकडाउन जैसे कदम प्रभावी साबित नहीं हो सकते हैं।

coronavirusतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (इंडियन एक्सप्रेस फोटो)

Coronavirus Outbreak in india: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की चीफ साइंटिस्ट डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने कहा है कि घातक कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लंबी चलने की संभावना है। उन्होंने कहा कि इससे पार पाने के लिए सिर्फ लॉकडाउन जैसे कदम प्रभावी साबित नहीं हो सकते हैं। इसमें अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों को भी शामिल करना होगा। अंग्रेजी दैनिक अखबार द हिंदू को एक साक्षात्कार में स्वामीनाथन ने यह बात कही है। डॉक्टर सौम्या ने तीस वर्षों तक तपेदिक और एचआईवी पर शोध के क्षेत्र में काम किया है। वह साल 2015 से 2017 तक भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) की महानिदेशक भी रह चुकी है।

क्या भारत में कोरोना वायरस की अधिक टेस्टिंग की जानी चाहिए? इसके जवाब में स्वामीनाथन ने कहा कि डेटा इस महामारी को कंट्रोल करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हमें टेस्टिंग बढ़ाने की जरुरत है। हालांकि सच्चाई यह है कि टेस्टिंग किट की कमी के चलते हम चाहते हुए भी हर किसी की टेस्टिंग नहीं कर सकते। हालांकि कई देशों में सीरोलॉजिकल टेस्टिंग का भी इस्तेमाल होने लगा है। इससे आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि कितनी आबादी प्रभावित है और वायरस का भौगोलिक प्रसार की स्थिति भी जान सकते हैं।

Coronavirus in India LIVE Updates

उन्होंने कहा कि देश में हर जिले के लोगों के नमूने पर एक राष्ट्रव्यापी सीरोलॉजिकल सर्वे के साथ हमारे पास पूरे भारत में इसके प्रसार का एक नक्शा हो सकता है। हम यह तो जानते हैं कि देश में 250 से अधिक जिलों में कोरोना के मामले मिले हैं लेकिन यह जानते कि क्या अन्य 400 अन्य जिलों में कोरोना संक्रमण नहीं है। सीरोलॉजिकल टेस्टिंग से हमें इस बात की जानकारी मिलेगी। इससे समय समय पर यह भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना प्रकोप कैसे विकसित हो रहा है। ऐसे में डेटा से सबक लेकर कोरोना के खिलाफ नीति बनाए जाने की आवश्यकता है।

बता दें कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मृतकों की संख्या रविवार को 273 हो गई और कोविड-19 मरीजों की संख्या 8,356 पर पहुंच गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में अब भी 7,367 लोग संक्रमण की चपेट में हैं जबकि 715 लोग ठीक हुए और एक व्यक्ति विदेश चला गया है। मंत्रालय ने बताया कि शनिवार शाम से करीब 34 और लोगों की मौत हुई। अब तक सबसे ज्यादा 127 मौत महाराष्ट्र में हुई है। इसके बाद मध्य प्रदेश में 36, गुजरात में 22 और दिल्ली में 19 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। पंजाब में 11 लोगों की मौत हुई है जबकि तमिलनाडु में 10 और तेलंगाना में नौ मौत हुई है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में छह लोगों ने जबकि पश्चिम बंगाल में पांच लोगों ने बीमारी के चलते दम तोड़ दिया। जम्मू-कश्मीर में चार और उत्तर प्रदेश में पांच मौत हुई है। हरियाणा और राजस्थान में तीन-तीन लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक केरल में दो लोगों की मौत हुई है। बिहार, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा, झारखंड और असम में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। शनिवार शाम तक मृतकों का आंकड़ा 242 था। हालांकि, शनिवार रात नौ बजे तक विभिन्न राज्यों से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई पीटीआई-भाषा की तालिका के मुताबिक कोविड-19 से कम से कम 287 मौत हुई है। (एजेंसी इनपुट)

Next Stories
1 पश्चिम बंगाल में लॉकडाउन उल्लंघन! सख्ती से पालन पर गृह मंत्रालय ने फिर लिखा ममता सरकार को खत
2 13 दिन में 18 गुना बढ़े तमिलनाडु में कोरोना मरीज, देखें- तेरह दिन में दस राज्यों की कैसे बदली तस्वीर और ग्राफ
3 कोरोना से पिछले 24 घंटे में 31 लोगों की मौत, 1211 नए मामले मिले, कुल आंकड़ा 10 हजार के पार
ये पढ़ा क्या?
X