ताज़ा खबर
 

कोरोनाः टीकाकरण से पहले प्रचार- पूर्व केंद्रीय मंत्री ने PM नरेंद्र मोदी को बताया ‘देवदूत’

गोयल तत्कालीन NDA सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री (संसदीय मामलों और सांख्यिकी व कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय) रहे हैं। वह इसके अलावा केंद्रीय युवा और खेल मंत्रालय की जिम्मेदारी भी संभाल चुके हैं।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: January 15, 2021 9:29 AM
Coronavirus, COVID19 Vaccine, Narendra ModiBJP नेता विजय गोयल। (Express Archive Photo by Tashi Tobgyal)

Coronavirus/COVID-19 टीकाकरण अभियान 16 जनवरी से भारत में शुरू होना है। पर इससे पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रचार चालू हो गया है। ऐसा पूर्व केंद्रीय मंत्री और BJP नेता विजय गोयल ने किया है। कोरोना काल में उन्होंने पीएम को देवदूत बताया है। कहा है कि पीएम की दूरदृष्टि ने देश को कोरोना से लड़ने की शक्ति दी।

दरअसल, शुक्रवार को कुछ अखबारों में एक फुल पेज का ऐड आया। यह गोयल की ओर से दिया गया था। नीले रंग के बैकग्राउंड पर बड़ा सा मोदी का पोट्रेट फोटो था। उस पर बड़े-बड़े अक्षरों से लिखा था, “मोदी- तुझे सलाम।” यह पंक्ति फिल्मी पंच और नाम ‘मां- तुझे सलाम’ से मेल खाती है।

बहरहाल, इस प्रचाररूपी ऐड में नीचे लिखा था, “एक देव दूत जिसकी दूरदृष्टि ने देश को कोरोना से लड़ने की शक्ति दी।” नीचे लिखा था- देशव्यापी वैक्सीनेशन की शुरुआत। विज्ञापन में नीचे गोयल का नाम था, जबकि संस्था से जुड़े उपाध्यक्षों, महामंत्रियों और सचिवों के नाम का जिक्र था।

गोयल तत्कालीन NDA सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री (संसदीय मामलों और सांख्यिकी व कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय) रहे हैं। वह इसके अलावा केंद्रीय युवा और खेल मंत्रालय की जिम्मेदारी भी संभाल चुके हैं।

मौजूदा समय में वह हेरिटेज इंडिया फाउंडेशन (Heritage India Foundation) के अध्यक्ष हैं, जिसकी उन्हीं ने स्थापना की थी। वह इसके अलावा लोक अभियान (Lok Abhiyan) से भी जुड़े हैं।

बता दें कि शनिवार (16 जनवरी, 2021) से भारत भर में कोरोना टीका लगाने से जुड़े अभियान का आगाज होगा, जिसे खुद पीएम लॉन्च करेंगे। कहा जा रहा है कि यह विश्व का सबसे बड़ा वैक्सिनेशन प्रोग्राम होगा, जो पूरे मुल्क को कवर करेगा।

सबसे पहले किसे मिलेगी दवा?: पहले चरण में तीन करोड़ फ्रंट लाइन वर्कर्स को ये टीका मिलेगा, जिसके बाद 27 करोड़ की आबादी कवर की जाएगी। इसमें 50 साल से अधिक के उम्र वाले लोगों और गंभीर बीमारियों (Co-Morbidities) से ग्रसित मरीजों को शामिल किया जाएगा।

Next Stories
1 Army Day: भारत मां के सपूतों ने जब सांचू में कर दी थी घेरा बंदी, तो छूट गए थे PAK के पसीने, सफेद झंडा लहरा ‘भाग खड़ा’ हुआ था
2 NITI आयोग, वित्त मंत्रालय की आपत्ति के बावजूद अडानी को दे दिए गए 6 एयरपोर्ट!
3 सात दिन से लगातार 20 हजार से कम मामले
ये पढ़ा क्या?
X