ताज़ा खबर
 

कोरोना के बारे में सामने आईं ये 4 नई जानकारियां; डॉक्टरों की बढ़ी मुश्किल, रिसर्चर्स भी हैरान

यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के रेडियोलॉजिस्ट डॉ. एडम डिमित्रिव के मुताबिक, उनके सामने युवाओं के कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें उन्हें सिर्फ मामूली खांसी थी, या वायरल जैसे लक्षण थे। उन्होंने खुद को घर में क्वारंटीन कर लिया और बाद में उन्हें स्ट्रोक पड़ गया।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: May 15, 2020 4:06 PM
कोरोना का वायरस।

कोरोनावायरस संबंधी कुछ ऐसी जानकारियां सामने आईं है, जिसने डॉक्टरों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। साथ ही महामारी की भयावता को और बढ़ा दिया है। डॉक्टरों का दावा है कि कोरोनावायरस सिर्फ फेफड़े पर ही नहीं, बल्कि किडनी, ब्रेन, हार्ट और लीवर पर भी अटैक करता है। अमेरिका के न्यूयॉर्कस, डेट्रायट, न्यू जर्सी और कई अन्य हिस्सों से न्यूरोलॉजिस्ट ने इसकी पुष्टि की है। यह वायरस न सिर्फ युवाओं को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है, बल्कि उनके दिमाग और हार्ट को नुकसान पहुंचा रहा है। न्यूयार्क में भारतीय मूल के 27 साल के रवि शर्मा के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ।

रवि को एक हफ्ते से खांसी आ रही थी। उन्होंने बेडरूम में ही खुद क्वारंटीन कर लिया। एक मेडिकल टेक्निशयन होने के नाते उन्हें लगा कि वह कोरोनोवायरस से संक्रमित हो गए हैं। हालांकि, डॉक्टरों ने बाद में पाया कि उनके ब्रेन की अर्टिरी में खून का धक्का जमा हुआ है। लेकिन डॉक्टर हैरान हैं। रवि अभी बिल्कुल युवा हैं। रवि हर दिन वर्कआउट करते हैं। उन्हें डायबिटिज, हाई ब्लडप्रेशर या अन्य ऐसी मेडिकल कंडीशंस जैसा कुछ भी नहीं है, जो युवाओं में स्ट्रोक का कारण बन सकती हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के रेडियोलॉजिस्ट डॉ. एडम डिमित्रिव के मुताबिक, उनके सामने युवाओं के कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें उन्हें सिर्फ मामूली खांसी थी, या वायरल जैसे लक्षण थे। उन्होंने खुद को घर में क्वारंटीन कर लिया और बाद में उन्हें स्ट्रोक पड़ गया। डॉ. एडम डिमित्रिव उस स्टडी में शामिल रहे हैं जिसमें कोविड-19 के कारण स्ट्रोक पड़ने के मामलों पर शोध किया गया है। हालांकि, उन रोगियों में से कइयों को डॉयबिटिज या हाई ब्लडप्रेशर था, लेकिन किसी को भी दिल का कोई खतरा नहीं था, जिससे स्ट्रोक की आशंका बढ़ जाती है। उनमें से कई 65 से कम उम्र के थे।

कुछ के लिए, स्ट्रोक कोरोनोवायरस संक्रमण का पहला लक्षण था, और उन्होंने जोखिम से डरते हुए आपातकालीन कमरे में जाना बंद कर दिया। न्यूयॉर्क में माउंट सिनाई हेल्थ सिस्टम के डॉक्टरों ने भी युवाओं पर स्ट्रोक पड़ने के कई मामले देखे। डॉक्टरों ने बताया कि उन्होंने हाल के दो सप्ताह में 5 ऐसे रोगियों का इलाज किया। वे सभी कोरोना संक्रमित थे। अस्पताल में तीन सप्ताह में 50 से कम उम्र के किसी एक रोगी को स्ट्रोक पड़ता था।

इस बीच, भारत में भी एक चौंकाना वाला मामले सामने आया है। एक मासूम 15 दिन तक कोरोना संक्रमित मां के साथ रहा, लेकिन उसकी हर जांच रिपोर्ट निगेटिव आई। यह मामला पंजाब के गुरदासपुर का है। डॉक्टर रिपोर्ट देखकर हैरान हैं। बच्चे का दो बार टेस्ट हो चुका है। दोनों उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है। विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चे के इम्युनिटी सिस्टम की जांच रिसर्चर्स के काफी काम आ सकती है।

दिल्ली की बात करें तो कोरोना के कारण अब तक 115 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से 59 की उम्र 60 साल से ज्यादा थी। दिल्ली में 1247 संक्रमित 60 साल से ज्यादा है। दिल्ली में 50 साल से कम उम्र के 5921 मरीज हैं। इनमें से 22 लोग की मौत हुई। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की मानें तो कुल मरीजों में से 14.72% बुजुर्ग हैं। वहीं, 51.30% मौतें इसी उम्र के मरीजों की हुई हैं। दिल्ली में 86.96% मौतें उनकी हुईं हैं, जिन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें:
शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाई
शराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाई
लॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालन
भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…
कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना संकट में राजनीति! ममता सरकार पर बीजेपी का आरोप- ट्रेनों को जाने का इजाजत नहीं दे रहीं दीदी
2 Corona Virus: 11 साल का बच्चा रिक्शा चलाकर जा रहा बनारस से बिहार के अररिया, वीडियो वायरल, लोग बोले- ‘आज का श्रवण कुमार’
3 इस साल भी देर से दस्तक देगा मानसून, पांच साल में तीन बार देरी से पहुंचने का है रिकॉर्ड
ये पढ़ा क्या?
X