ताज़ा खबर
 

कोरोना से दांव पर 11 करोड़ नौकरियां और देश की 30% जीडीपी, निराशा के अंधकार में MSME सेक्टर

कोरोना संकट की वजह से देशभर में माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSME) से जुड़ी ऐसी तमाम कंपनियां हैं जो कोरोना वायरस की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन में निराशा के अंधकार के बीच डूब रही हैं।

कोरोना संकट और देशव्यापी लॉकडाउन में सिर्फ ये 11 करोड़ नौकरियों ही दांव पर नहीं हैं बल्कि भविष्य में होने वाले देश के कुल विनिर्माण उत्पादन का 45 प्रतिशत, 40 प्रतिशत निर्यात – और राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 30 प्रतिशत भी दांव पर आ चुका है।

 Pranav Mukul , Anand Mohan J , Aanchal Magazine , Aashish Aryan

दिल्ली में स्थित एक मशीन-पार्ट बनाने वाली कंपनी, जो अपने 24 कामगारों को सैलरी नहीं दे सकती है, से लेकर पुणे के एक पेंट-निर्माता कंपनी तक नकदी संकट झेल रही है और दिवालिया होने की कगार पर खड़ी है। एक स्टार्टअप कंपनी को 90 लाख मास्क बनाने का ऑर्डर मिला है लेकिन उसे अभी भी बैंक से पैसे मिलने का इंतजार है, क्योंकि उसके पास फंड की कमी है। लुधियाना में भी एक एक्सपोर्ट कंपनी का बिल क्लियर नहीं हो पा रहा है। कोरोना संकट की वजह से देशभर में माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSME) से जुड़ी ऐसी तमाम कंपनियां हैं जो कोरोना वायरस की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन में निराशा के अंधकार के बीच डूब रही हैं।

ऐसी कंपनियां देश में बड़े औद्योगिक पारिस्थितिकी तंत्र की स्थापना करती हैं और बड़े उद्योगों के लिए सहायक इकाइयों के रूप में बड़े पैमाने पर काम करती हैं। ऐसी 5 करोड़ इकाइयों में करीब 11 करोड़ लोग काम करते हैं। कोरोना संकट और देशव्यापी लॉकडाउन में सिर्फ ये 11 करोड़ नौकरियों ही दांव पर नहीं हैं बल्कि भविष्य में होने वाले देश के कुल विनिर्माण उत्पादन का 45 प्रतिशत, 40 प्रतिशत निर्यात – और राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 30 प्रतिशत भी दांव पर आ चुका है।

Coronavirus in India Live Updates:

सरकारी सूत्रों ने बताया कि इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि सरकार अपने दूसरे राहत पैकेज में बड़े उद्योगों की जगह इस सेक्टर पर फोकस कर सकती है। सरकार के अंदरूनी सूत्रों ने बताया कि अबतक एमएसएमई सेक्टर पहले घोषित किए गए राहत उपायों की श्रृंखला से काफी लाभान्वित नहीं हुए हैं।

पिछले एक पखवाड़े से, सरकार एमएसएमई को दिए जानेवाले राहत पैकेज को अंतिम रूप देने के लिए लगातार पिछले दो सप्ताह से चर्चा कर रही है। शनिवार को फिक्की के एक वेबीनार को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, “हमने वित्त मंत्री और प्रधान मंत्री को राहत पैकेज के लिए सिफारिशें भेजी हैं और मुझे उम्मीद है कि जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी। हम हरसंभव राहत देने की कोशिश करेंगे।”  बता दें कि एक हफ्ते पहले, गडकरी ने MSME सेक्टर के लिए 1 लाख करोड़ रुपये के रिवॉल्विंग फंड के आवंटन की वकालत की थी।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें:

कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए

इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं

क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 फंसे लोगों की कठिनाई: घर लौटने की चाहत में बाधक बन रहा एकांतवास का वनवास
2 पूर्णबंदी के दौरान चोरी-चुपके शराब पहुंचाने की कोशिश
3 तुगलकी फरमान: पीपीई किट 12 घंटे पहनने का आदेश, डॉक्टर बेहोश
IPL 2020: LIVE
X