ताज़ा खबर
 

कोरोना से ऐसे बनेगी दूरी? मुंबई में डॉक्टर छोटे हॉस्टलों में रहने को मजबूर, 10 लोग पर 1 टॉयलेट; सोना पड़ता है एक फुट नजदीक

Coronavirus in India: ये डॉक्टर जिस हॉस्टल में रुके हैं वहां तीन से चार डॉक्टरों को एक कमरा साझा करना पड़ रहा है। इन डॉक्टरों के बिस्तर भी एक या दो फीट के नजदीक ही हैं। इसके अलावा करीब 10 डॉक्टरों के लिए टॉयलेट की सुविधा है।

Author Translated By Ikram मुंबई | Updated: April 13, 2020 9:06 AM
hostel roomमुंबई में रेजिडेंट डॉक्टरों के लिए हॉस्टल का एक कमरा। (इंडियन एक्सप्रेस फोटो)

Coronavirus in India: देश में घातक कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच डॉक्टर लगातार सोशल डेस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कह रहे हैं। मगर मुंबई में रेजिडेंट डॉक्टरों को खुद इस नियम का पालन करने में खासी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ये डॉक्टर जिस हॉस्टल में रुके हैं वहां तीन से चार डॉक्टरों को एक कमरा साझा करना पड़ रहा है। इन डॉक्टरों के बिस्तर भी एक या दो फीट के नजदीक ही हैं। इसके अलावा करीब 10 डॉक्टरों के लिए टॉयलेट की सुविधा है।

रविवार (12 अप्रैल, 2020) को सायन हॉस्पिटल (Sion hospital) में दो डॉक्टर टेस्टिंग के दौरान कोरोना से संक्रमित पाए गए। इसके अलावा सेवन हिल्स हॉस्पिटल में दो और के कोरोना टेस्ट पॉजिटिव पाए गए। नए मामलों सामने आने के बाद रेजिडेंट डॉक्टरों के बीच कोरोना संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है।

Coronavirus in India LIVE Updates

इन डॉक्टरों को डर है कि क्वार्टर में करीब रहने पर वो संक्रमण के शिकार हो सकते हैं। बता दें कि मुंबई में कम से कम 90 स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना वायरस संक्रमण के संपर्क में आए हैं, जो शहरों के कुल मामलों का करीब 8 फीसदी है। मुंबई में कोरोना के अधिक केस के चलते महाराष्ट्र संक्रमण के मामलों में देश में पहले नंबर पर है। मामले में सायन हॉस्पिटल के एक रेजिडेंट डॉक्टर ने पूछा, ‘अगर हम ही नहीं रहे तो मरीजों का इलाज कौन करेगा?’

इन डॉक्टरों का अनुरोध है कि फीवर क्लीनिक और आइसोलेशन वार्ड में तैनात लोगों के लिए अलग-अलग आवास दिए जाएं। बता दें कि सेवन हिल्स हॉस्पिटल कोविड मामलों के डॉक्टरों के लिए ताज होटल में उनके रहने की व्यवस्था की है जबकि अन्य हॉस्पिटलों ने स्टाफ से हॉस्टल में ही ‘एडजस्ट’ करने के लिए कहा है। सायन हॉस्पिटल में 800 से ज्यादा रेजिडेंट डॉक्टरों के लिए 210 कमरों वाले तीन हॉस्टल हैं।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

उल्लेखनीय है कि मेडिसिन और सर्जरी विभाग के दो डॉक्टरों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें से एक ने आइसोलेशन वार्ड में काम किया था। दूसरा एक गंभीर रूप से बीमार रोगी के उपचार के दौरान वहां मौजूद था। दरअसल मरीज के फेफड़े पानी भर गया था। वह बेदम था, मगर डॉक्टरों के पास उसकी रिपोर्ट आने तक इंतजार करने का समय नहीं था और उसकी सर्जरी की गई। सर्जरी के बाद उसे कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories