ताज़ा खबर
 

कोरोना से मरने वालों में एक तिहाई मुस्लिम समुदाय के लोग, उद्धव सरकार ने उर्दू में शुरू कराया जनजागरूकता अभियान

महामारी विशेषज्ञ प्रदीप अवाटे ने कहा 'ये मामले किसी विशेष धार्मिक समूह की वजह से नहीं बल्कि खराब जीवनशैली के कारण झुग्गियों में फैल रहे हैं। और मलिन बस्तियों में मुस्लिम बड़ी संख्या में हैं। एक छोटे से कमरे में कम से कम 8-10 लोग रहते हैं, जहां सोशल डिस्टेंसिंग रखना बहुत मुश्किल हैं।'

Author Translated By Ikram मुंबई | May 7, 2020 12:24 PM
covid-19तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

Coronavirus: कोरोना वायरस महामारी से महाराष्ट्र में तीन मई तक दर्ज की गई 548 मौतों में से 239 (44 फीसदी) अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय से हैं। राज्य में इस समुदाय की आबादी 12 फीसदी से भी कम है मगर कोरोना से होने वाली मौत में ये तीन गुना से भी ज्यादा है। ऐसे में प्रदेश की उद्धव ठाकरे सरकार ने राज्य के महामारी विभाग को चुनिंदा हॉटस्पॉटों में उर्दू में कोविड-19 जागरुकता संदेश जारी करने और स्थानीय धर्मगुरुओं की मदद लेने के लिए योजना बनाने के लिए कहा है।

द इंडियन एक्सप्रेस को आधिकारिक रिकॉर्ड के विश्लेषण से पता चला है कि राज्य में 17 मार्च से 15 अप्रैल के बीच 187 में से 89 मौतें मुस्लिम समुदाय की थीं। 17 मार्च को महाराष्ट्र में कोरोना से पहली मौत की सूचना मिली थी। इसी तरह 15 अप्रैल से 4 मई के बीच 361 अतिरिक्त मौतों में से 150 इसी समुदाय से थीं।

Coronavirus in Rajasthan LIVE Updates

राज्य के अधिकारी और विशेषज्ञ इसके पीछे कई वजहों की तरह इशारा करते हैं। जैसे खाड़ी से आने वाले यात्रियों पर प्रतिबंध देर से लगा। कई मस्जिदों में शुक्रवार की नमाज 20 मार्च तक जारी रही। समुदाय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा आसपास रहता है, जहां सोशल डिस्टेंसिंग मुश्किल है। अधिक जनसंख्या घनत्व और गरीबों तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच भी एक कारण है।

संयोग से महाराष्ट्र में तबलीगी जमात कार्यक्रम से जुड़े केवल 69 कोरोना संक्रमितों का पता लगाया जा सकता था। तबलीगी कार्यक्रम से जुड़ी राज्य में अकेली मौत 22 मार्च को एक फिलिपिनो नागरिक की थी। इसके विपरीत 18 अप्रैल तक हुई अंतिम गणना में देशव्यापी निजामुद्दीन सुपरस्प्रेडर समूह से जुड़े पॉजिटिव मामलों की संख्या 4,291 थी। मामले में राज्य महामारी विशेषज्ञ प्रदीप अवाटे ने कहा कि काम करने वाले बहुत सारे लोग (खाड़ी में) घर लौट आए और एयरपोर्ट की स्क्रीनिंग के दौरान चूक गए। वह गेम-चेंजर था।

कोरोना वायरस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें | गृह मंत्रालय ने जारी की डिटेल गाइडलाइंस | क्या पालतू कुत्ता-बिल्ली से भी फैल सकता है कोरोना वायरस? | घर बैठे इस तरह बनाएं फेस मास्क | इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेलक्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

इसी तरह गाइडलाइंस के मुताबिक 16 मार्च को पहली बार सरकार ने संयुक्त अरब अमीरात, कतर, ओमान और कुवैत से आने वाले यात्रियों को क्वारंटाइन करना शुरू किया था। इसी दिन ईयू, तुर्की, यूके को प्रतिबंधित कर दिया गया था और 22 मार्च को संभी अंतरराष्ट्रीय को निलंबित कर दिया गया। प्रदीप अवाटे ने कहा कि ज्यादातर मामले अब निचले सामाजिक-आर्थिक स्तर से आ रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘ये मामले किसी विशेष धार्मिक समूह की वजह से नहीं बल्कि खराब जीवनशैली के कारण झुग्गियों में फैल रहे हैं। और मलिन बस्तियों में मुस्लिम बड़ी संख्या में हैं। एक छोटे से कमरे में कम से कम 8-10 लोग रहते हैं, जहां सोशल डिस्टेंसिंग रखना बहुत मुश्किल हैं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Madhya Pradesh Coronavirus Highlights: शराब खरीदने वालों की अंगुलियों पर लग रही चुनाव वाली स्याही, जानें प्रशासन को क्यों उठाना पड़ा ऐसा कदम
2 Coronavirus in India Highlights: चार दिनों में कोरोना से दो BSF जवानों की मौत, अब तक 155 जवान पाए जा चुके हैं पॉजिटिव
3 एक हाथ से रिक्शा चलाकर दो हफ्तों में दिल्ली से बिहार पहुंचा दिव्यांग, बोला- अब कभी नहीं जाऊंगा परदेश
यह पढ़ा क्या?
X