ताज़ा खबर
 

काम करते किसी की कट चुकी हैं अंगुलियां तो किसी के पंजे, लॉकडाउन में कंपनी ने निकाला

कंपनी के मजदूर प्रेम सिंह बताते हैं कि दुर्घटना के बाद उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिला। कंपनी का कहना था कि या तो मुआवजा ले लो या फिर नौकरी।

लॉकडाउन के बीच घर लौटते प्रवासी मजदूर। (फाइल फोटो- पीटीआई)

कोरोना वायरस के चलते एक तरफ जहां लोगों की जिंदगियां जा रही हैं वहीं इस संकट की घड़ी में कई मजदूरों को अपनी नौकरी से भी हाथ धोना पड़ रहा है। ताजा मामला हरियाणा के फरीदाबाद का है। जहां कार का हैंड ब्रेक बनाने वाली एक कंपनी में काम करने के दौरान दुर्घटना का शिकार हुए मजदूरों को कंपनी ने निकाल दिया है। निकाले गए मजदूरों में कई मजदूर ऐसे हैं जिनकी अंगुलियां कट चुकी हैं तो किसी के हाथ का पंजा कट चुका है।

एनडीवी की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने लगभग दो दर्जन मजदूरों को निकाल दिया है। इतना ही नहीं दिव्यांग हुए इन मजदूरों को कंपनी ने पक्की नौकरी का भरोसा दिलाया था जिसके चलते यह मजदूर दुर्घटना का शिकार होने के बाद भी कंपनी में काम करते रहे। कंपनी के मजदूर प्रेम सिंह बताते हैं कि दुर्घटना के बाद उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिला। कंपनी का कहना था कि या तो मुआवजा ले लो या फिर नौकरी। इस पर उन्होंने कहा कि उन्हें नौकरी की जरूरत थी तो उन्होंने मुआवजा नहीं लिया। प्रेम सिंह मायूस होकर पूछते हैं कि बताओ अब हमें कौन नौकरी देगा?


मेटल शीट काटते वक्त इन मजदूरों की अंगुलियां कट गई  थीं। फरीदाबाद में करीब 18,000 छोटी-बड़ी फैक्ट्रियां हैं, जिनमें 7 लाख से ज्यादा लोग काम करते हैं। प्रेम सागर का कहना है कि मैंने 18 साल की उम्र में काम करना शुरू किया। अब अंगुलियां कट गई हैं  इसके बावजूद भी वह परिवार की जिम्मेदारियों के चलते वह काम कर रहे हैं। पत्रकार से बातचीत के दौरान एक मजदूर ने कहा कि कम से कम 23 मजदूर ऐसे हैं जिनके शरीर के किसी ना किसी अंग को क्षति पहुंची है।

Next Stories
1 कोरोना का कहरः भारत में केस 5 लाख के पार, सिर्फ महाराष्ट्र में 24 घंटे में पांच हजार ताजा मामले; कुछ सूबों में बढ़ा लॉकडाउन
2 कोरोना का कहर: टीचर को बनाना पड़ रहा पंक्‍चर, सब्‍जी बेचने को मजबूर एक्‍टर
3 Congress नेता अभिषेक मनु सिंघवी कोरोना संक्रमित, पता लगते ही हुए होम क्वारंटीन, पत्नी भी निकलीं पॉजिटिव
ये पढ़ा क्या?
X