ताज़ा खबर
 

रोज़ कोरोना के सौ में हर 12वां केस भारत का, आक्सीजन की ज़रूरत वाले मरीज़ भी बढ़े, 45% मौतें अकेले महाराष्ट्र में

भारत में महाराष्ट्र राज्य कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है। देश में अब तक कोरोना से जितने लोगों की जान गई है, उनमें से 45 फीसदी मौत सिर्फ महाराष्ट्र में हुई हैं।

Coronavirus covid19 maharashtra delhiदेश में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। (रॉयटर्स)

देश में कोरोना का संक्रमण हर रोज तेजी से बढ़ रहा है। हालात ये हैं कि अब दुनिया के हर सौ में से 12 केस भारत के मिल रहे हैं। बीती 12 जून को जहां कोरोना के वैश्विक मामलों में भारत का हिस्सा 8.1 फीसदी था, यानि कि दुनिया के कुल मामलों में से करीब 8 केस भारत में मिल रहे थे। वहीं 10 जुलाई तक यह आंकड़ा बढ़कर 11.8 फीसदी यानि कि करीब 12 तक पहुंच गया है।

देश में संक्रमण की बढ़ती रफ्तार का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि बीती 3 जुलाई को 100 ग्लोबल केस में से 10.5 फीसदी भारत के थे, लेकिन एक हफ्ते में यह आंकड़ा 11.8 फीसदी पर पहुंच गया है। भारत में महाराष्ट्र राज्य कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है। देश में अब तक कोरोना से जितने लोगों की जान गई है, उनमें से 45 फीसदी मौत सिर्फ महाराष्ट्र में हुई हैं। राज्य में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार के पार जाकर 10,116 पहुंच गया है।

देश के कुल कोरोना केस का 44 फीसदी हिस्सा भी महाराष्ट्र के मरीजों का है। बता दें कि देश में कुल कोरोना मरीजों की बात करें तो यह आंकड़ा 8.5 लाख के ऊपर जा चुका है। देश में कोरोना माहमारी से अब तक 22,664 लोगों की मौत हो चुकी है। राजधानी दिल्ली की बात करें तो वहां हालात में थोड़ा सुधार देखने को मिला है।

जून के मध्य में जहां दिल्ली में कोरोना के नए केस 3000 या उससे ज्यादा थे, वो अब बीते दो हफ्ते से 2000 के करीब पहुंच गए हैं। राजधानी में एक्टिव केस भी घटकर 19895 रह गए हैं। दिल्ली में कोरोना से अब तक 3334 लोगों की मौत हुई है और कुल मामले 1,10,921 हैं।

दिल्ली में कोरोना मरीजों की मृत्यु दर में भी कमी देखने को मिली है। जून माह में दिल्ली में कोरोना से मृत्यु दर 3.64 फीसदी थी लेकिन अब यह घटकर 3 फीसदी के आसपास आ गई है। साथ ही दिल्ली में टेस्टिंग की संख्या भी बढ़ायी गई है, जिससे राजधानी में कोरोना से बिगड़े हालात में कुछ सुधार दिखाई दे रहा है।

वही देश में कोरोना मरीजों की संख्या में रिकॉर्ड इजाफे के साथ ही ऑक्सीजन की डिमांड भी काफी बढ़ गई है। बीते एक माह में देश में ऑक्सीजन की डिमांड 2 फीसदी तक बढ़ गई है। द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, जून माह में जहां 5-5.5 फीसदी मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे, वहीं जुलाई में यह आंकड़ा बढ़कर 7 फीसदी तक चला गया है। बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण में इंसान के फेफड़े बुरी तरह प्रभावित होते हैं, ऐसे में हालत बिगड़ने पर मरीज को ऑक्सीजन देने की जरुरत पड़ती है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 28,637 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही 551 लोगों की मौत हुई है। देश में अब कोरोना मरीजों का कुल आंकड़ा बढ़कर 8,49,553 हो गया है। इनमें से 2,92,258 एक्टिव केस हैं। वहीं 5,34,621 मरीज रिकवर हो चुके हैं। देश में कोरोना से अब तक 22,674 लोगों की मौत हुई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिखाई नई राह: कोरोना से लड़ाई में धारावी बनी मिसाल
2 मौसम: दिल्ली एनसीआर में जारी रहेगी बारिश, तापमान गिरा
3 12 जुलाई का इतिहास: महात्मा गांधी की हत्या के बाद आरएसएस पर लगा प्रतिबंध आज ही के दिन सशर्त हटाया गया था
ये पढ़ा क्या?
X