ताज़ा खबर
 

Coronavirus Vaccine HIGHLIGHTS: रूस ने ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण में भारत से सहयोग मांगा

इससे पहले, विश्व में कोरोना की पहली वैक्सीन बनाने का दावा करने वाले रूस ने दूसरी वैक्सीन बनाने का भी दावा किया है।

Covid19 vaccine russia oxford astragenica icmr siiदुनिया के कई देश कोरोना वैक्सीन विकसित करने में जुटे हैं। (AP/PTI)

Coronavirus (Covid-19) Vaccine India HIGHLIGHTS: रूस ने भारत से कोविड-19 टीके ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण और यहां इसके तीसरे चरण के परीक्षण के लिए सहयोग मांगा है। सरकारी सूत्रों ने बताया कि कोविड-19 टीके से संबंधित राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह की 22 अगस्त को हुई पिछली बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। ‘स्पूतनिक वी’ का विकास ‘गमालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ एपिडेमोलॉजी एंड माइक्रोबायलॉजी’ तथा ‘रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड’ (आरडीआईएफ) ने मिलकर किया है।

इस टीके के बारे में सीमित डेटा को लेकर कई तबकों ने संदेह व्यक्त किया है। सरकार के एक सूत्र ने कहा, ‘‘रूस सरकार ने भारत सरकार से कोविड-19 के टीके ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण और यहां इसका तीसरे चरण का परीक्षण करने के लिए सहयोग मांगा है।’’ सूत्र ने कहा, ‘‘जैव प्रौद्योगिकी विभाग और स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग से मामले को देखने को कहा गया है। रूस सरकार के अधिकारियों ने ‘स्पूतिनक वी’ के बारे में कुछ सूचना और डेटा साझा किया है, जबकि टीके के प्रभाव तथा सुरक्षा से संबंधित अन्य डेटा की प्रतीक्षा की जा रही है।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या रूस सरकार ने भारत में ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण के लिए कोई औपचारिक आग्रह किया है, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जहां तक ‘स्पूतनिक वी’ टीके का सवाल है तो भारत और रूस दोनों संपर्क में हैं। कुछ शुरुआती सूचना साझा की गई है, जबकि कुछ ब्योरे की प्रतीक्षा है।’’ सूत्रों के अनुसार, भारत में रूस के राजदूत निकोलय कुदाशेव ने प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन और साथ में जैव प्रौद्योगिकी तथा स्वास्थ्य अनुसंधान विभागों के सचिवों से इस संबंध में संपर्क किया है।

Live Blog

Highlights

    06:56 (IST)26 Aug 2020
    टीके के मानव परीक्षण के संचालन के लिए आवश्यक सभी प्रशासनिक प्रक्रिया पूरी : डॉ. मुरलीधर तांबे

    पुणे के संस्थान बी जे मेडिकल कॉलेज (जिससे ससून जनरल हॉस्पिटल सम्बद्ध है) के डीन डॉ. मुरलीधर तांबे ने कहा, ‘‘हमने टीके के मानव परीक्षण के संचालन के लिए आवश्यक सभी प्रशासनिक प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया है। अब हम खुराक की प्रतीक्षा कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आदर्श रूप से, परीक्षण अगले सप्ताह शुरू होना चाहिए।’’

    05:47 (IST)26 Aug 2020
    पांच स्वयंसेवकों की कोविड-19 और एंटीबॉडी जांच की जाएगी

    भारती विद्यापीठ के मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र के चिकित्सा निदेशक डॉ. संजय लालवानी ने कहा, ‘‘शुरुआत करने के लिए हमने पांच स्वयंसेवकों की पहचान की है, जिनकी कोविड-19 और एंटीबॉडी जांच की जाएगी और जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आएगी उन्हें बुधवार को टीकाकरण के लिए चुना जाएगा।’’

    04:44 (IST)26 Aug 2020
    सरकार ने एन-95 मास्क, चिकित्सा किट के निर्यात की शर्तों में ढील दी

    सरकार ने मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव में काम आने वाले मास्क और डाक्टरों द्वारा पहने जाने वाली चिकित्सा पोशाक (किट) के निर्यात पर लगी पाबंदियों में ढील दी है।

    03:51 (IST)26 Aug 2020
    एसआईआई ने जेनर इंस्टीट्यूट ऑफ ऑक्सफोर्ड के साथ किया समझौता

    टीके बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी एसआईआई ने ब्रिटिश-स्वीडिश फार्मा कंपनी आस्ट्राजेनेका के साथ मिलकर जेनर इंस्टीट्यूट ऑफ ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित संभावित टीके के उत्पादन के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

    02:24 (IST)26 Aug 2020
    वैक्सीन की प्रक्रिया में गोपनीयता बरते रहें देश

    वैक्सीन को लेकर दुनिया भर में कई तरह के दावे किए जा रहे हैं। इसके चलते कई देश अपनी पूरी प्रक्रिया में काफी गोपनीयता बरत रहे हैं। कोविड-19 से निपटने को लेकर उनके तरीके गोपनीय हैं।

    23:15 (IST)25 Aug 2020
    प्रयोगात्‍मक तौर पर कोरोना वैक्‍सीन का इस्‍तेमाल करने वाला पहला देश है चीन

    अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट ने दावा किया है कि चीन लोगों पर प्रयोगात्‍मक तौर पर कोरोना वैक्‍सीन का इस्‍तेमाल करने वाला पहला देश है। उसका कहना है कि चीन ने अपने लोगों को कोरोना की वैक्सीन दे दी है। 

    22:20 (IST)25 Aug 2020
    और जानें रूस की दूसरी वैक्सीन के बारे में

    EpiVacCorona नाम की नई वैक्सीन (रूस) को वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर तैयार किया गया है। नई वैक्सीन का ट्रायल सितंबर में पूरा होने की उम्मीद है। वैक्सीन का पहला ट्रायल 57 वॉलंटियर्स पर किया गया था।

    इधर मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि कोरोना की पहली वैक्सीन बनाने वाले रूस ने अपनी वैक्सीन स्पुतनिक-V को लेकर भारत से संपर्क साधा है। बताया जाता है कि रूस अपनी वैक्सीन की विस्तृत जानकारी भारत के साझा भी कर रहा है। इसके लिए बायोटेक्निक विभाग और आईसीएमआर से भी संपर्क किया गया है।।

    22:20 (IST)25 Aug 2020
    रूस ने दूसरी वैक्सीन बनाने का भी दावा किया

    विश्व में कोरोना की पहली वैक्सीन बनाने का दावा करने वाले रूस ने दूसरी वैक्सीन बनाने का भी दावा किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नई वैक्सीन भी जल्द लॉन्च होगी। नई वैक्सीन को पहली वाली से ज्यादा सुरक्षित बताया जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक स्पुतनिक-V वैक्सीन लगाने के बाद लोगों में जो साइड इफेक्ट दिखे थे, नई वैक्सीन की डोज से वैसा नहीं होगा।

    22:19 (IST)25 Aug 2020
    गैरजिम्मेदार युवा फैला रहे कोरोना- ICMR के महानिदेशक

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा- जहां तक ​​स्पुतनिक-5 वैक्सीन (रूस में विकसित COVID-19 वैक्सीन) का संबंध है, भारत और रूस बात कर रहे हैं। कुछ प्रारंभिक जानकारी साझा की गई है।

    इसी बीच, कॉन्फ्रेंस में ICMR के महानिदेशक प्रो डॉ. बलराम भार्गव ने बताया, "मैं यह नहीं कहूंगा कि युवा या बुजुर्ग लोग बल्कि गैर-जिम्मेदार, कम सतर्क लोग जो मास्क नहीं पहन रहे हैं भारत में महामारी को चला रहे हैं।"

    21:50 (IST)25 Aug 2020
    जमैका के अधिकारी ने कहा, उसेन बोल्ट कोरोना पॉजिटिव

    जमैका के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि महान फर्राटा धावक उसेन बोल्ट कोरोना वायरस जांच में पॉजिटिव पाये गए हैं । मंत्री क्रिस्टोफर टफ्टोन ने कहा कि बोल्ट को नतीजे की जानकारी थी और हाल ही में उनके संपर्क में आये लोगों की पहचान कर ली गई है । उन्होंने कहा ,‘‘ अब सभी को पता है कि बोल्ट कोरोना पॉजिटिव हैं । उन्हें औपचारिक तौर पर सूचित कर दिया गया है ।मुझे अधिकारियों ने बताया है ।’’ बोल्ट ने कल सोशल मीडिया पर बताया था कि वह कोरोना वायरस जांच के नतीजे का इंतजार कर रहे हैं और एहतियात के तौर पर पृथकवास में हैं ।

    21:05 (IST)25 Aug 2020
    संयुक्त राष्ट्र ने आगाह किया, प्लाजमा पद्धति से इलाज अब भी प्रायोगिक चरण में

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सोमवार को आगाह करते हुए कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों के रक्त प्लाजमा से दूसरे मरीजों का इलाज अब भी प्रायोगिक इलाज पद्धति माना जाता है। संगठन ने अमेरिका द्वारा इस इलाज पद्धति को प्रोत्साहित करने पर चिंता जताई है क्योंकि कई वैज्ञानिकों को डर है कि इससे सामान्य अध्ययन पटरी से उतर सकता है। उल्लेखनीय है कि रविवार को अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए)ने जन स्वास्थ्य संकट के दौरान भरोसेमंद प्रायोगिक दवा के जरिये इलाज करने की अनुमति देने के अपने विशेषाधिकार का प्रयोग करते हुए ‘ आपात इस्तेमाल’ बता कर, इस पद्धति से इलाज की अनुमति दे दी। प्लाजमा पद्धति से सुरक्षित और प्रभावी इलाज की अनुमति पर बहस के बीच, कई अध्ययन इसके वास्तविक प्रभाव को जांचने के लिए चल रहे हैं। डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ.सौम्या स्वामीनाथन ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘इसके नतीजे निर्णायक नहीं है। इस समय भी इसके बहुत कम गुणवत्ता वाले सबूत मौजूद हैं।’’ 

    20:46 (IST)25 Aug 2020
    अफ्रीका महाद्वीप अब पोलियो वायरस से मुक्त, लेकिन पोलियो का खतरा बरकरार

    स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा मंगलवार को करीब एक दशक के प्रयास के बाद अफ्रीका महाद्वीप के ‘पोलियो वायरस’ से मुक्त होने की घोषणा किए जाने की उम्मीद है। हालांकि, एक दर्जन से अधिक देशों में ‘वैक्सीन डेराइव्ड पोलियो’ (पोलियो वायरस के जीन में बदलाव कर बने टीके को जब बच्चे को दिया जाता है तो करीब छह से आठ हफ्ते तक बच्चे के मल से यह वायरस निकलते हैं और इनमें से कुछ पोलियो की बीमारी पैदा करने में सक्षम हो सकते हैं) से बच्चों के अंगों के खराब होने की आशंका बनी हुई है। अफ्रीका को पोलियो वायरस से मुक्त घोषित किए जाने के बाद केवल पाकिस्तान और अफगानिस्तान ही ऐसे देश होंगे जहां पर पोलियो वायरस सक्रिय है और स्वास्थ्य कर्मियों पर हमले और असुरक्षा की वजह से पोलियो की बीमारी और जटिल हो गई है।

    20:26 (IST)25 Aug 2020
    कोविड-19 जांच में बढ़ोतरी के बावजूद संक्रमण दर में कमी हुई है: मंत्रालय

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 की जांच में काफी बढ़ोतरी होने के बावजूद संक्रमित होने की दर में लगातार कमी आई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने साथ ही रेखांकित किया कि उपचाराधीन मामलों में पहली बार 24 घंटे में 6,423 की कमी आयी है। मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 की जांच वर्तमान में बढ़कर प्रतिदिन प्रति दस लाख 600 जांच से अधिक हो गई है जो कि एक अगस्त को प्रतिदिन प्रति 10 लाख पर 363 जांच की थी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सात-दिवसीय ‘रोलिंग’ औसत के आधार पर कोविड-19 से संक्रमित होने की दर अगस्त के पहले सप्ताह के दौरान 11 प्रतिशत थी, वह अब घटकर आठ प्रतिशत हो गई है।

    19:44 (IST)25 Aug 2020
    पुणे: आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के टीके का मानव परीक्षण बुधवार से हो सकता है शुरू

    आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के अनुसंधाकर्ताओं द्वारा विकसित संभावित कोरोना वायरस टीके की खुराक मानव पर दूसरे चरण के परीक्षण के लिए मंगलवार को यहां भारती विद्यापीठ मेडिकल कालेज में पहुंची। यह जानकारी एक अधिकारी ने दी। संस्थान के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि परीक्षण बुधवार से शुरू हो सकता है। यह संस्थान सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा भारत में मानव पर परीक्षण के लिए चुने गए 17 संस्थानों में से एक है।

    भारती विद्यापीठ के मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र के चिकित्सा निदेशक डॉ. संजय लालवानी ने कहा, ‘‘शुरुआत करने के लिए हमने पांच स्वयंसेवकों की पहचान की है, जिनकी कोविड-19 और एंटीबॉडी जांच की जाएगी और जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आएगी उन्हें बुधवार को टीकाकरण के लिए चुना जाएगा।’’

    17:58 (IST)25 Aug 2020
    कोरोना पर कैसी है भारत की स्थिति?

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने के लिए की जाने वाली जांच में कई गुना वृद्धि हुयी है। वहीं, संक्रमण दर में खासी कमी आयी है। कोविड-19 बीमारी से ठीक हो चुके लोगों की संख्या देश में उपचाराधीन मरीजों की 3.4 गुना है।

    मंत्रालय के मुताबिक, पहली बार, कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 24 घंटों के अंदर 6,423 की कमी आयी है। इस वायरस से संक्रमित मौजूदा मरीजों में 2.70 प्रतिशत मरीज आक्सीजन पर हैं जबकि 1.92 प्रतिशत लोग आईसीयू में तथा 0.29 प्रतिशत लोग वेंटिलेंटर पर हैं।

    15:50 (IST)25 Aug 2020
    पुणे में आज से शुरू वैक्सीन के दूसरे चरण का ट्रायल

    पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई), ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित संभावित कोविड-19 टीके कोविशील्ड के दूसरे चरण का मानव क्लीनिकल परीक्षण आज से शुरू होगा। कोविशील्ड की सुरक्षा और प्रतिरोधक क्षमता जांचने के लिए पुणे स्थित भारती विद्यापीठ चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में स्वस्थ वयस्क भारतीयों पर नियंत्रित अध्ययन किया जाएगा।

    15:11 (IST)25 Aug 2020
    रूस की वैक्सीन के आगे खुद ही इम्यून होने का डर

    वैज्ञानिकों ने डर जताया है कि कोरोनावायरस रूस की वैक्सीन के आगे खुद ही इम्यून हो सकता है। दरअसल, रूस ने अपनी वैक्सीन स्पूतनिक-V का सिर्फ कुछ ही लोगों पर परीक्षण किया है और इसके नतीजे साफ नहीं हैं। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि अगर यह वैक्सीन ज्यादा प्रभावकारी न हुई या इसका आंशिक प्रभाव ही हुआ तो यह कोरोना के म्यूटेशन के खतरे को नहीं संभाल पाएगी और बेकार साबित होगी।

    14:21 (IST)25 Aug 2020
    रूस ने भारत में वैक्सीन उत्पादन करने की इच्छा जताई

    पहले भी खबर आई थी कि रूस भारत के साथ पार्टनरशिप करने के लिए इच्छुक है। रूस ने भारत में कोरोना की दवा 'स्पूतनिक-V' का बड़े पैमाने पर उत्पादन करने की इच्छा जताई है। एक रूसी अधिकारी ने बताया कि रूस कोविड-19 की वैक्सीन स्पूतनिक-V के उत्पादन के लिए भारत के साथ साझेदारी पर विचार कर रहा है।

    13:38 (IST)25 Aug 2020
    कोरोना वैक्सीन पर भारत का बड़ा कदम, होगा आत्मनिर्भर!

    भारत में कोरोना वैक्सीन का आज दूसरा ट्रायल शुरू होगा। फेज-2 ट्रायल काफी अहम होता है, क्योंकि फेज-2 ट्रायल के साथ ही बड़े पैमाने पर वैक्सीन के फेज-3 ट्रायल का रास्ता साफ होता है। भारत में तैयार ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन का नाम Covishield रखा गया है। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी मिलकर कोरोना वैक्सीन पर काम कर रहे हैं। पुणे के भारती विद्यापीठ मेडिकल कॉलेज दूसरे राउंड का ट्रायल शुरू होगा। दूसरे फेज के ट्रायल के दौरान स्वस्थ वॉलेंटियर्स को Covishield वैक्सीन की खुराक दी जाएगी।

    12:00 (IST)25 Aug 2020
    अमरीका में प्लाज्मा थेरेपी से घटेगी मृत्युदर, 35 फीसदी आएगी कमी, ट्रंप ने दी मंजूरी

    विश्व में कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह प्रभावित अमेरिका ने प्लाज्मा थेरेपी को मंजूरी दे दी है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बताया कि आपात स्थिति में गंभीर बीमार मरीजों के लिए प्लाज्मा थेरेपी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस मंजूरी बहुत से लोगों की जिंदगियां बचाई जा सकेंगी। ट्रंप के मुताबिक इससे देश में कोरोना से होने वाली मौतों में 35 फीसदी तक की कमी लाई जा सकती है। अमेरिका में अभी तक 70 हजार से ज्यादा लोगों को प्लाज्मा थेरेपी दी जा चुकी है। बता दें कि अमेरिका दुनिया में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावति है। कोरोना पर जानकारी देने वाले वर्ल्डोमीटर के मुताबिक यूएसए में 59,15,630 लोगों को कोरोना की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 1,81,114 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि अच्छी बात ये है कि कुल मरीजों में 32,17,981 ठीक हो चुके हैं और 25,16,535 एक्टिव केस हैं। 61 हजार मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है।

    11:21 (IST)25 Aug 2020
    कोरोना वैक्सीन: भारत का बड़ा कदम, होगा आत्मनिर्भर!

    भारत में कोरोना वैक्सीन का आज दूसरा ट्रायल शुरू होगा। फेज-2 ट्रायल काफी अहम होता है, क्योंकि फेज-2 ट्रायल के साथ ही बड़े पैमाने पर वैक्सीन के ट्रायल (फेज-3) का रास्ता साफ होता है। भारत में तैयार ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन का नाम Covishield रखा गया है।

    10:25 (IST)25 Aug 2020
    भारत में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल आज से शुरू

    भारत में आज से ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनिका द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल शुरू किया जाएगा। यूनिवर्सिटी ने भारत में वैक्सीन के उत्पादन के लिए पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को पॉर्टनर बनाया है। इस बीच सीरम में अतिरिक्त निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने बताया कि इसके लिए केंद्रीय औषधि मानक एवं नियंत्रण संगठन से सभी मंजूरी मिल गई है। 25 अगस्त यानी आज से भारती विद्यापीठ चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में मानव क्लीनिकल परीक्षण शुरू होगा।

    09:32 (IST)25 Aug 2020
    भारत में संक्रमितों का आंकड़ा 31.64 लाख पहुंचा

    देश में कोरोना वायरस महामारी तेजी से फैल रही है। वर्ल्डोमीटर की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 31,64,881 हो चुकी है। इनमें 24,03,101 मरीज ठीक हो चुके हौं और 7,03,234 एक्टिव केस हैं। इसके अलावा कोरोना अब तक 58,546 लोगों की मौत हो चुकी है।

    08:46 (IST)25 Aug 2020
    पिछली सदी में संक्रमण से लड़ने के लिए हुआ था प्लाज्मा का इस्तेमा

    विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक डॉ सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि पिछली सदी में विभिन्न संक्रामक बीमारियों के इलाज के लिये बीमारी से उबरे लोगों के प्लाज्मा का इस्तेमाल किया गया था और इसका परिणाम मिला जुला रहा था। स्वामीनाथन ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन प्लाज्मा थेरेपी को अब भी प्रायोगिक ही मानता है, और इसका लगातार मूल्यांकन किया जाना चाहिये । सौम्या ने कहा कि इस उपचार को मानकीकृत करना कठिन है क्योंकि लोगों में अलग अलग स्तर का एंटीबॉडी बनता है और प्लाज्मा केवल उन्हीं लोगों से लेना होता है जो बीमारी से ठीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि छोटे स्तर पर अध्ययन हुए हैं और इनसे निम्न कोटि के साक्ष्य मिले हैं।

    08:07 (IST)25 Aug 2020
    प्लाज्मा का इस्तेमाल अब भी एक 'प्रायौगिक' थेरेपी के तौर पर देखा जा रहा: विश्व स्वास्थ्य संगठन

    विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के इलाज के लिए रोगमुक्त हो गए लोगों के प्लाज्मा का इस्तेमाल अब भी एक 'प्रायौगिक' थेरेपी के तौर पर देखा जा रहा है और इसके जो प्रारंभिक परिणाम आये हैं उससे यह पता चलता है कि यह अभी 'अनिर्णायक' है।

    07:19 (IST)25 Aug 2020
    कब आएगी वैक्सीन?

    दुनिया भर के मुल्क कोरोना महामारी की दवा तलाशने में दिन-रात जुटे हैं। तीन वैक्सीन के ट्रायल अलग-अलग चरण में हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले समय में वैक्सीन देश को मिल सकती है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो 2021 की शुरुआत में वैक्सीन आने की संभावना है।

    06:13 (IST)25 Aug 2020
    केंद्र सरकार ने पहले ऑर्डर में सेरम इंस्टीट्यूट से 68 करोड़ डोज की मांग की

    ऐसी खबर आई थी कि भारत को कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन 73 दिन में मिल सकती है। सेरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के एक उच्च अधिकारी ने एक मीडिया ग्रुप को इसकी जानकारी दी थी। बताया गया है कि भारतीयों को राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत सभी वैक्सीन मुफ्त में मिलेंगी। बताया गया है कि केंद्र सरकार ने पहले ऑर्डर में सेरम इंस्टीट्यूट से 68 करोड़ डोज की मांग की है।

    05:47 (IST)25 Aug 2020
    चीन में क्लीनिकल ट्रायल के बाहर वैक्सीन इस्तेमाल करने की मिली अनुमति

    चीन में एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि सरकार कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को जुलाई से वैक्सीन दे रही है। खास बात है कि वैक्सीन पर अभी भी पूरी तरह से मुहर नहीं लगी है। चीन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग प्रमुख चेंग चोंगेई ने बताया कि सरकार ने सार्स-कोविड-2 (यानी कोविड-19) की वैक्सीन स्वास्थ्य कर्मचारियों और सीमा पर तैनात अधिकारियों को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी। अधिकारी ने ये भी बताया कि पिछले सात दिनों से चीन में स्थानीय स्तर पर कोई नया मामला सामने नहीं आया है। चीन में क्लीनिकल ट्रायल के बाहर वैक्सीन इस्तेमाल करने का यह पहला ऐसा मामला है जिसकी पुष्टि हुई है।

    03:19 (IST)25 Aug 2020
    रूस ने नई वैक्सीन का नाम रखा

    रूस ने देश में विकसित पहली वैक्सीन का नाम Sputnik5 रखा था और दूसरी वैक्सीन का नाम EpiVacCorona रखा गया है। रूस ने EpiVacCorona वैक्सीन का निर्माण साइबेरिया के वर्ल्ड क्लास वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट (वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी) में किया है।

    02:13 (IST)25 Aug 2020
    रूस की नई वैक्सीन में पहले की कमियां दूर हुईं

    रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस महामारी की एक और वैक्सीन तैयार कर ली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रूस का कहना है कि पहली वैक्सीन के जो साइड इफेक्ट सामने आए थे, वह नई वैक्सीन लगाने पर नहीं होंगे। 11 अगस्त को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा था कि रूस ने कोरोना वायरस की सफल वैक्सीन तैयार कर ली है। ऐसा करने वाला रूस पहला देश बन गया था। रूस ने पहली कोरोना वैक्सीन के उपयोग की इजाजत भी दे दी थी।

    23:01 (IST)24 Aug 2020
    कोविड: अमेरिका में हजारों कपनियों एवं निकायों को पर्यावरण नियमों की अनदेखी की अनुमति मिली

    अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी के चलते हजारों तेल एवं गैस कंपनियों, सरकारी इकाइयों और अन्य को खतरनाक उत्सर्जनों की निगरानी बंद करने या स्वास्थ्य एवं पर्यावरण की रक्षा पर केंद्रित नियमों की अनदेखी करने की इजाजत मिल गयी है। उसका नतीजा हुआ है कि पर्यावरण संबंधी कम निगरानी से टेक्सास में कुछ शोधन संयत्रों और केंटकी में सेना के एक डिपो में नर्व गैस वाले आयुधों का बड़े पैमाने पर खंडित किया जा रहा है, आइओवा और मिन्नेसोटा में खेतो में उर्वरकों एवं मृत पशुओं का ढेर लग गया है और समाज के लिए अन्य जोखिम भी बढ़ गये हैं। दरअसल सरकार ने धुएं की निकासी के लिए चिमनी, चिकित्स्कीय अपशिष्ट को दूसरी जगह भेजने, सीवेज संयंत्रों और तेल के कुंओं और रासायनिक संयंत्रों पर नियमों में ढील दे दी है।

    23:01 (IST)24 Aug 2020
    भारत में कोविड-19 के 61,408 नए मामले, चीन में आठ दिन से कोई स्थानीय मामला नहीं

    भारत में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 61,408 नए मामले सामने आए, जबकि चीन में पिछले आठ दिन से महामारी का कोई स्थानीय मामला सामने नहीं आया है। नयी दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अपडेट किए गए आंकड़ों के अनुसार भारत में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 61,408 नए मामले सामने आने के साथ ही महामारी की चपेट में आने वाले लोगों की कुल संख्या 31 लाख से अधिक हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटे में 836 रोगियों की मौत के बाद कोविड-19 से मरने वाले लोगों की कुल संख्या 57,542 हो गई है।

    20:07 (IST)24 Aug 2020
    कोरोना पीड़ितों को मुआवाजा देने के लिए राष्ट्रीय नीति का अनुरोध करने वाली याचिका खारिज

    उच्चतम न्यायालय ने कोरोना वायरस बीमारी के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को समान मुआवजा देने के लिए राष्ट्रीय नीति तैयार करने के अनुरोध संबंधी याचिका पर सुनवाई से सोमवार को इनकार कर दिया। न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति आर एस रेड्डी की पीठ ने याचिका को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि प्रत्येक राज्य की अलग नीति है और वे अपनी आर्थिक ताकत के मुताबिक मुआवजा देते हैं।

    याचिकाकर्ता हाशिक थाइकांडी की ओर से पेश अधिवक्ता दीपक प्रकाश ने कहा कि वह महज एक राष्ट्रीय नीति बनाने का अनुरोध कर रहे हैं ताकि पूरे देश में समान रूप से मुआवजा दिया जा सके। उन्होंने कहा कि कई लोग भारत में कोविड-19 की वजह से मरे हैं और पीड़ितों को समान मुआवजा नहीं मिल रहा है। प्रकाश ने कहा कि कुछ मामलों में, दिल्ली सरकार ने एक करोड़ रुपये मुआवजा दिया जबकि कुछ राज्य एक लाख रुपये दे रहे हैं। मुआवजे पर एक समान नीति नहीं है।

    17:51 (IST)24 Aug 2020
    चीन का दावा- जुलाई से कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने वालों को दे रहा वैक्सीन

    उधर, चीन में एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि सरकार कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को जुलाई से वैक्सीन दे रही है। खास बात है कि वैक्सीन पर अभी भी पूरी तरह से मुहर नहीं लगी है। चीन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग प्रमुख चेंग चोंगेई ने बताया कि सरकार ने सार्स-कोविड-2 (यानी कोविड-19) की वैक्सीन स्वास्थ्य कर्मचारियों और सीमा पर तैनात अधिकारियों को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी। अधिकारी ने ये भी बताया कि पिछले सात दिनों से चीन में स्थानीय स्तर पर कोई नया मामला सामने नहीं आया है। चीन में क्लीनिकल ट्रायल के बाहर वैक्सीन इस्तेमाल करने का यह पहला ऐसा मामला है जिसकी पुष्टि हुई है।

    16:25 (IST)24 Aug 2020
    ट्रंप ने कोविड-19 के लिए प्लाज्मा उपचार को अधिकृत करने की घोषणा की

    राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए कोन्वलेसेंट प्लाज्मा से उपचार को अधिकृत करने की रविवार को घोषणा की। इस कदम को वह “एक बड़ी कामयाबी” बता रहे हैं, उनके शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने इसे “उम्मीदों भरा” बताया है जबकि अन्य स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि इसकी खुशी मनाने से पहले इसपर और अध्ययन की जरूरत है। यह घोषणा तब की गई है जब व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने शिकायत की कि खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) की ओर से बीमारी के लिए टीका और उपचार स्वीकृत करने में राजनीतिक दृष्टि से प्रेरित देरी की जा रही है जिसकी वजह से ट्रंप के पुनर्निर्वाचन की संभावानाएं घट रही हैं। रिपब्लिकन राष्ट्रीय सम्मेलन की पूर्व संध्या पर, ट्रंप ने रविवार शाम हुई प्रेस वार्ता में प्लाज्मा थेरेपी अधिकृत किए जाने की एफडीए की घोषणा के केंद्र में खुद को रखा। इससे कुछ मरीजों को इलाज हासिल करने में सहूलियत होगी लेकिन यह एफडीए की पूर्ण स्वीकृति के समान नहीं होगा।

    15:36 (IST)24 Aug 2020
    रूस ने दूसरी वैक्सीन का नाम EpiVacCorona रखा

    रूस ने देश में विकसित पहली वैक्सीन का नाम Sputnik5 रखा था और दूसरी वैक्सीन का नाम EpiVacCorona रखा गया है। रूस ने EpiVacCorona वैक्सीन का निर्माण साइबेरिया के वर्ल्ड क्लास वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट (वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी) में किया है।

    15:15 (IST)24 Aug 2020
    रूस में दूसरी कोरोना वैक्सीन बनकर तैयार

    रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस महामारी की एक और वैक्सीन तैयार कर ली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रूस का कहना है कि पहली वैक्सीन के जो साइड इफेक्ट सामने आए थे, वह नई वैक्सीन लगाने पर नहीं होंगे। बता दें कि 11 अगस्त को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा था कि रूस ने कोरोना वायरस की सफल वैक्सीन तैयार कर ली है। ऐसा करने वाला रूस पहला देश बन गया था। रूस ने पहली कोरोना वैक्सीन के उपयोग की इजाजत भी दे दी थी।

    14:38 (IST)24 Aug 2020
    ट्रंप ने कोविड-19 के लिए प्लाज्मा उपचार को अधिकृत करने की घोषणा की

    राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए कोन्वलेसेंट प्लाज्मा से उपचार को अधिकृत करने की रविवार को घोषणा की। इस कदम को वह ‘‘एक बड़ी कामयाबी’’ बता रहे हैं, उनके शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी ने इसे ‘‘उम्मीदों भरा’’ बताया है जबकि अन्य स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि इसकी खुशी मनाने से पहले इसपर और अध्ययन की जरूरत है। यह घोषणा तब की गई है जब व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने शिकायत की कि खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) की ओर से बीमारी के लिए टीका और उपचार स्वीकृत करने में राजनीतिक दृष्टि से प्रेरित देरी की जा रही है जिसकी वजह से ट्रंप के पुर्निनर्वाचन की संभावानाएं घट रही हैं।

    13:52 (IST)24 Aug 2020
    कोरोना वैक्सीन पर मौलाना का दावा- इसमें लगी है चिप, मुस्लिम धर्मगुरुओं ने की कार्रवाई की मांग

    कोरोना वायरस महामारी के लिए वैक्सीन आने से पहले ही एक मौलाना ने बेतुका बयान दिया है। उन्होंने दावा किया कि वैक्सीन में चिप लगी है। इस दावे के साथ मौलाना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। दूसरी तरफ अन्य मुस्लिम धर्मगुरुओं ने मौलाना के बयान की निंदा की है और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। मुस्लिम धर्मगुरु और जमीयत दावतुल मुस्लिमीन के संरक्षक कारी इसहाक ने कहा कि ऐसे वीडियो वायरल करने वालो के खिलाफ कार्रवाई हो।

    12:45 (IST)24 Aug 2020
    ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का इस हफ्ते से भारत में होगा सेकेंड फेस ट्रायल

    कुछ हफ्तों पहले ही ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की ओर से विकसित की जा रही वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल की शुरुआत की गई थी। अब भारत में भी इसके दूसरे चरण के मानवीय परीक्षण की तैयारी हो चुकी है। भारत में इस हफ्ते से ये ट्रायल शुरू हो सकता है।

    11:56 (IST)24 Aug 2020
    ICMR पैनल की पूर्व अध्यक्ष ने कही बड़ी बात, बोलीं- अगले साल तक भी वैक्सीन आए, इसकी गारंटी नहीं

    भारत की प्रमुख चिकित्सा वैज्ञानिकों में से एक और कोविड-19 दवाइयों और टीकों पर ICMR पैनल की पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर गगनदीप कांग ने अगले साल के शुरुआत में कोरोना वैक्सीन आने की उम्मीद पर कहा है कि मुझे लगता है कि इसकी सबसे अधिक संभावना है, मगर गारंटी से नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जब तक आपके पास वास्तव में वैक्सीन पर प्रभाशाली डेटा नहीं है तब तक ये कहना है असंभव है कि टीका इंसानों पर काम करेगा या नहीं। उन्होंने कहा कि इम्यूनोजेनेसिटी पर हमारे पास उत्साहजनक डेटा है। हमारे पास कुछ अध्ययनों का उत्साहजनक डेटा भी है, जो यह संकेत देते हैं कि उन टीकों में से कुछ का मूल्यांकन किया गया है जो गंभीर बीमारियों को रोकते हैं।

    10:23 (IST)24 Aug 2020
    Corona Vaccine बनाने में रूस देगा साथ? 50 लाख डोज का ऑर्डर देगी भारत सरकार

    09:27 (IST)24 Aug 2020
    भारत में सभी को मुफ्त में मिलेगी वैक्सीन

    ऐसी खबर आई थी कि भारत को कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन 73 दिन में मिल सकती है। सेरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के एक उच्च अधिकारी ने एक मीडिया ग्रुप को इसकी जानकारी दी थी। बताया गया है कि भारतीयों को राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत सभी वैक्सीन मुफ्त में मिलेंगी। बताया गया है कि केंद्र सरकार ने पहले ऑर्डर में सेरम इंस्टीट्यूट से 68 करोड़ डोज की मांग की है।

    08:21 (IST)24 Aug 2020
    सबसे पहले वैक्सीन किसी दी जाए, इसपर चर्चा तेज

    दुनिया के कई देश कोरोना वैक्सीन विकसित करने में जुटे हैं। इस बीच इस बात की भी चर्चा है कि वैक्सीन का प्रोडक्शन शुरू होने के बाद सबसे पहले वैक्सीन किन्हें दी जानी चाहिए? विशेषज्ञों की राय है कि कोरोना वैक्सीन सबसे पहले हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी जानी चाहिए क्योंकि वो ही सबसे ज्यादा रिस्क पर हैं। रूस ने, जिसने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल की है, वहां भी सबसे पहले वैक्सीन की डोज हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी जाएगी।

    07:35 (IST)24 Aug 2020
    165 से ज्यादा देशों में वैक्सीन पर रिसर्च

    दुनियाभर में कोरोना की 165 से ज्यादा वैक्सीन पर रिसर्च चल रही है। इनमें से 32 वैक्सीन ह्युमन ट्रायल चरण में पहुंच चुकी हैं। वहीं रूस द्वारा बनाई गई कोरोना वैक्सीन को अप्रूवल भी मिल गया है। वहीं दुनियाभर की 8 वैक्सीन ह्युमन ट्रायल के तीसरे चरण में पहुंच चुकी हैं।

    05:46 (IST)24 Aug 2020
    कोरोना से निपटने के लिए नीम पर शोध

    देश में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच अब रिसर्चर्स ने एक बार फिर आयुर्वेद में इसका हल ढूंढने की कोशिश शुरू कर दी है। इसी सिलसिले में विशेषज्ञ कोरोना से लड़ाई में नीम कितना कारगर हो सकता है, इस पर रिसर्च कर रहे हैं। यह रिसर्च ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद और निसर्ग हर्ब्स कंपनी मिलकर कर रही हैं। शोध से जुड़े सभी परीक्षण फरीदाबाद के ईएसआईसी अस्पताल में 7 अगस्त से शुरू हो चुके हैं। बताया गया है कि इस रिसर्च में 250 लोग शामिल हैं। सभी वॉलंटियर्स को नीम के कैप्सूल दिए गए हैं। अब यह देखा जाएगा कि उन पर नीम का क्या असर होता है।

    03:50 (IST)24 Aug 2020
    आईसीएमआर अगले हफ्ते लांच करेगा वैक्सीन पोर्टल

    इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) अगले हफ्ते तक कोरोना वैक्सीन पर रिसर्च की जानकारी देने वाला वैक्सीन का पोर्टल लॉन्च कर सकता है। बताया गया है कि यह देश का पहला वैक्सीन पोर्टल होगा और इसमें कोरोना वैक्सीन पर सभी जानकारियां मुहैया कराई जाएंगी। बता दें कि भारत में फिलहाल तीन वैक्सीन ट्रायल के एडवांस स्टेज में हैं।

    02:20 (IST)24 Aug 2020
    बांग्लादेश को भारत में बनी वैक्सीन में दिलचस्पी

    बांग्लादेश ने भारत में निर्मित कोरोना वैक्सीन में दिलचस्पी दिखाई है। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि वह भारत में बन रहे वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल्स कराने के लिए तैयार है। उसने यह भी उम्मीद जताई है कि मंजूरी के बाद उसे भारत से किफायती दर पर जल्द सप्लाई मिलने लगेगी।

    01:32 (IST)24 Aug 2020
    वैक्सीन ट्रायल में भारतीय भी शामिल

    अमेरिकी ड्रग कम्पनी मॉडर्ना के तीसरे वैक्सीन ट्रायल में भारतीय भी शामिल होंगे। ट्रायल 30 हजार लोगों पर किया जा रहा है। इसमें शामिल होने के लिए अब तक 40 फीसदी यानी 13,194 लोगों ने रजिस्ट्रेशन भी करा लिया है। कंपनी ने ट्वीट करके यह जानकारी साझा की है। ट्वीट के मुताबिक, वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल में शामिल होने के लिए 18 फीसदी ऐसे लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है, जो अश्वेत, भारतीय, अमेरिकी और अलास्का के निवासी हैं।

    20:44 (IST)23 Aug 2020
    दिल्ली में फिर से कोरोना के मामलों में आया उछाल

    जहां एक तरफ दुनिया भर में कोरोना की वैक्सीन बनाने की कोशिशें जारी हैं, वहीं दूसरी तरफ भारत में कोरोना के मामलों में हर रोज बढ़ोत्तरी हो रही है। राजधानी दिल्ली में जहां बीते कुछ समय से कोरोना संक्रमण नियंत्रण में था, वहां अब एक बार फिर से उछाल देखने को मिला है। बता दें कि दिल्ली में आज कोरोना के 1450 नए मरीज मिले हैं। जो कि अगस्त माह में एक दिन में मिलने वाला मरीजों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। दिल्ली में अब कोरोना मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1.61 लाख हो गई है। वहीं 4300 मरीजों की मौत हो चुकी है।

    Next Stories
    1 पांच पूर्व सीएम समेत 23 वरिष्ठ कांग्रेसियों का सोनिया गांधी को खत, टॉप-टू-बॉटम करें आमूल-चूल बदलाव!
    2 भारत ने दो टूक कहा, आंतरिक मामलों में दखल न दें चीन-पाक; कश्मीर को बताया था विवादित मसला
    3 दिल्ली की रायशुमारी: अभी न मेट्रो में सफर करेंगे और न ही बच्चों को स्कूल भेजेंगे
    ये पढ़ा क्या?
    X