ताज़ा खबर
 

COVID-19 संकटः नरेंद्र मोदी सरकार का दावा, ‘देश में अभी दूसरे चरण में है कोरोना’; पर इन जगहों पर शून्य है केंद्र का हाल!

Coronavirus Cases Latest News in India: भारत में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने के लिए उन दस महत्वपूर्ण क्षेत्रों और शहरों की पहचान की है जहां इस वायरस के 'असामान्य' ट्रांसमिशन का पता चला है।

Author Translated By Ikram नई दिल्ली | Published on: March 31, 2020 10:12 AM
मध्यप्रदेश के धौलपुर-मुरैना सीमा पर स्थित चंबल पुल को पार करते हुए प्रवासी श्रमिक। (Express photo by Gajendra Yadav)

Coronavirus Cases Latest News in India: कोरोना वायरस लगाातार देश में अपने पैर पसार रहा है। देश में वायरस से संक्रमितों के मामले बढ़कर 1,251 पहुंच चुके हैं। इनमें 101 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 32 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच भारत में कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने के लिए उन दस महत्वपूर्ण क्षेत्रों और शहरों की पहचान की है जहां इस वायरस के ‘असामान्य’ ट्रांसमिशन का पता चला है। इनमें राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के दो इलाके दिलशाद गार्डन और निजामुद्दीन हैं। इसके अलावा नोएडा (यूपी), मेरठ (यूपी), भीलवाड़ा (राजस्थान), अहमदाबाद (गुजरात), कासरगोड (केरल), मुंबई (महाराष्ट्र), और पुणे (महाराष्ट्र) में अधिक से अधिक से कोरोना टेस्टिंग का निर्णय लिया गया है।

एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (IDSP) से जुड़े एक सूत्र ने बताया, ‘कोरोना टेस्टिंग के लिए हम आमतौर पर ऐसे क्षेत्रों की पहचान करते हैं जहां समूह में दस से अधिक मामले सामने आते हैं। ऐसे क्षेत्र जहां कई समूह में कोरोना के केस होते हैं उसे ‘हॉटस्पॉट’ माना जाता है। कभी-कभी मामले स्थानीय होते हैं मगर कभी-कभी इतने व्यापक होते हैं कि पूरे शहर को कवर करना पड़ता है। इसमें अहमदाबाद एक अपवाद है जहां सिर्फ पांच केस सामने आए, मगर इनमें तीन लोगों की मौत हो गई। आमतौर पर हमारा आंकलन है कि मौत का आंकड़ा 100 मरीजों पर होता है। यही वजह है कि अहमदाबाद हमारी लिस्ट में ‘हॉटस्पॉट’ है। ऐसे में तीन मौत और कुल पांच मामले आपस में मेल नहीं खाते।’

Coronavirus संकटः निजामुद्दीन में धार्मिक सभा में हिस्सा लेने वाले 6 लोगों की कोविड-19 से मौत

Coronavirus: लॉकडाउन के बीच हरियाणा के प्रधान सचिव ने तोड़ा क्वारंटीन नियम! विदेश यात्रा से लौटने के बाद नहीं बनाई सामाजिक दूरी; घर पर लगा नोटिस फाड़ा

स्वास्थ्य मंत्रालय में एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया, ‘हम हॉटस्पॉट में टेस्ट कर रहे हैं मगर ये सिर्फ प्रोटोकॉल के अनुसार किया जाएगा।’ हालांकि सरकार का मानना है कि कोरोना का प्रसार दूसरे चरण में है और अभी तक इसके सामुदायिक प्रसार (community transmission) का मामला सामने नहीं आया है। मामले में स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने सोमवार (30 मार्च, 2020) को कहा, ‘हम हॉटस्पॉट के उभरते हुए मामलों का अध्ययन कर रहे हैं। इन सभी स्थानों पर सख्त निगरानी और कोरोना रोकथाम के उपायों का पालन किया जाएगा।’ हालांकि देश में अभी तक 38,432 लोगों की टेस्टिंग की गई है।

हॉटस्पॉट्स में टेस्टिंग के फैसले के पीछे का तर्क देते हुए एक सूत्र ने कहा कि अगर 100 मामलों में एक मौत को देखे तो भारत में संक्रमण के मामलों की संख्या आधे से भी कम है। इसका मतलब है कि कुछ तो छूट रहा है। टेस्टिंग रणनीति में अभी कोई बदलाव नहीं हुआ है।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली के निजामुद्दीन में एक धार्मिक बैठक के बाद ये इलाका एक हॉटस्पॉट के रूप में उभरा है जिसमें इंडोनेशिया और मलेशिया की ट्रेवल हिस्ट्री वाले लोग शामिल हैं। इसी तरह दिलशाद गार्डन इंडेक्स का मरीज सऊदी अरब से लौटा था और अपने निधन से पहले तक उसने मोहल्ला क्लीनिक में एक हजार से ज्यादा मरीजों को देखा था।

मेरठ का मामला खासा चिंताजनक है क्योंकि जो व्यक्ति दुबई से लौटा उसने ससुराल जाने के सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल किया था। घर के अलावा वो पड़ोस के घर में भी गया, ऐसे में परिवार से संदेह है कि उसने कई लोगों को वायरस की चपेट में ला दिया होगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना मरीज के कारण अस्पताल में हंगामा, संक्रमण फैलने का डर
2 दिल्ली में लॉकडाउन का असर: घर का बिगड़ा बजट तो मंडी पहुंचे लोग
3 बंदी बेहतर विकल्प, स्वास्थ्य सेवाओं को मिला तैयारी का वक्त