ताज़ा खबर
 

Hydroxychloroquine: क्या है कोरोना से लड़ने के लिए ICMR का सुझाया हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन ?

Hydroxychloroquine (हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन) Uses: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 21 मार्च को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन -एज़िथ्रोमाइसिन के कॉकटेल के उपयोग के बारे में ट्वीट किया था जिसके बाद दवा का इस्तेमाल किया गया था।

कोरोनावायरस के उपचार के लिए ICMR ने हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन इस्तेमाल करने की सलाह दी है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने सोमवार को कोरोना वायरस के उपचार के लिए हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन  के उपयोग का सुझाव दिया। परिषद का कहना है कि इस  दवा का संक्रमित और संदिग्ध दोनों  ही पिरिस्थितियों में हो सकता है।

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन  (एंटी मलेरिया ड्रग क्लोरोक्वीन से अलग है) एक मौखिक दवा है जिसका उपयोग ऑटोइम्यून रोगों जैसे कि संधिशोथ के उपचार में किया जाता है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 21 मार्च को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन -एज़िथ्रोमाइसिन के कॉकटेल के उपयोग के बारे में ट्वीट किया था जिसके बाद दवा का इस्तेमाल किया गया था।

19 मार्च को द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ में को लिखे गए एक लेख में इस दवा के फायदे और बीमारियों से लड़ने की क्षमता के बारे में बताया गया था। खासतौर से  यह दवा कोरोनोवायरस के खिलाफ एंटीवायरल गतिविधि को दर्शाती है। इस दवा का खास असर SARS-CoV-2  [ यह वही वायरस जो COVID-2 का कारण बनता है ]

ड्रग कंसंट्रेशन और विट्रो ड्रग टेस्टिंग पर आधारित फार्मालॉजिकल मॉडलिंग के मुताबिक हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के साथ प्रोफिलैक्सिस SARS-CoV-2 संक्रमण और वायरल को रोक सकता है।अमेरिका में प्रोफिलैक्सिस या एसएआरएस-सीओवी -2 संक्रमण के उपचार के लिए हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के कई ​​परीक्षणों की योजना बनाई गई है या जल्द ही इसे शुरु किया जाएगा।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

क्या हैं इसके साइड इफेक्ट: मेडलाइनप्लस के अनुसारहाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के कुछ साइड इफेक्ट भी हैं जिनमें सिरदर्द, चक्कर आना, भूख में कमी, मतली, दस्त, पेट दर्द, उल्टी और त्वचा पर लाल चकत्ते शामिल हैं। इसके ओवरडोज से दौरे पड़ सकते हैं या रोगी बेहोश हो सकता है। एक स्टडी के मुताबिक सुझाव दिया कि अकेले हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन या अजिथ्रोमाइसिन के इतर दोनों को मिलाकर देने से अपर रेस्पिरेटरी ट्रेक्ट में  SARS-CoV-2 RNA कम होते नजर आ रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Coronavirus संकट पर वित्त मंत्री का ऐलान- अब 30 जून तक भरा जा सकेगा इनकम टैक्स रिटर्न, लेट भुगतान 12% से घटाकर हुआ 9 फीसदी
2 Coronavirus पर CM योगी का फैसला- 27 मार्च तक समूचा UP रहेगा लॉकडाउन, 35 लाख श्रमिकों को देंगे 1000 रुपए भत्ता
3 MP: शिवराज सिंह चौहान ने साबित किया बहुमत, सदन में नहीं था एक भी Congress MLA
ये पढ़ा क्या?
X