ताज़ा खबर
 

ऑक्सफोर्ड COVID-19 वैक्सीन जून तक आएगी, 225 रुपए में बिकेगा- सीरम इंस्टीट्यूट का एलान, जानिए डिटेल

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन अपने निवेश कोष के माध्यम से गावि को 15 करोड़ डॉलर का जोखिम-रहित धन मुहैया करायेगा, जिसका उपयोग संभावित टीकों के विनिर्माण में सीरम इंस्टीट्यूट का समर्थन करने और भविष्य में कम व मध्यम आय वाले देशों के लिये टीके की खरीद में किया जायेगा।

Corona Virus, Corona Vaccine,सीरम इंस्टीट्यूट ने भारत और निम्न व मध्यम आय वाले देशों के लिये कोविड-19 के टीकों की 10 करोड़ खुराक तैयार करने को गावि तथा बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ गठजोड़ किया है।

ऑक्सफोर्ड की कोविड-19 वैक्सीन जून बाजार में आ जाएगी। सीरम इंस्टीट्यूट का कहना है कि इस टीके की एक खुराक की कीमत 225 रुपये होगी। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई)  भारत व अन्य कम व मध्यम आय वाले देशों के लिये कोविड-19 टीके की 10 करोड़ खुराक का उत्पादन करेगा। इंस्टीट्यूट की तरफ से इस संबंध में गावि और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ पार्टनरशिप की गई है। शुक्रवार को  सीरम इंस्टीट्यूट ने एक बयान में कहा, ‘‘यह गठजोड़ सीरम इंस्टीट्यूट को विनिर्माण क्षमता बढ़ाने में मदद करने के लिये अग्रिम पूंजी प्रदान करेगा।

इससे एक बार किसी टीका या टीके को नियामकीय मंजूरियों तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन की स्वीकृति मिल जाने के बाद गावि कोवैक्स एएमसी के तहत 2021 की पहली छमाही तक भारत व अन्य कम-मध्यम आय वाले देशों में वितरण के लिये पर्याप्त खुराक का उत्पादन किया जा सके।’’ कंपनी ने बताया कि उसने प्रति खुराक तीन डॉलर यानी करीब 225 रुपये की किफायती दर निर्धारित की है।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन अपने निवेश कोष के माध्यम से गावि को 15 करोड़ डॉलर का जोखिम-रहित धन मुहैया करायेगा, जिसका उपयोग संभावित टीकों के विनिर्माण में सीरम इंस्टीट्यूट का समर्थन करने और भविष्य में कम व मध्यम आय वाले देशों के लिये टीके की खरीद में किया जायेगा। इस फंडिंग के जरिये एस्ट्राजेनेका और नोवावैक्स के संभावित टीकों के तैयार करने में भी मदद करेगा। इन दो कंपनियों के वैक्सीन की भी टेस्टिंग चल रही है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अदार पूनावाला ने कहा, ‘‘कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई को मजबूत बनाने की कोशिश में सीरम इंस्टीट्यूट ने भारत और निम्न व मध्यम आय वाले देशों के लिये कोविड-19 के टीकों की 10 करोड़ खुराक तैयार करने को गावि तथा बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ गठजोड़ किया है।’’

भारत सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग की सचिव रेणु स्वरूप ने कहा, ‘‘हम सीरम इंस्टीट्यूट की कोविड-19 द्वारा प्रस्तुत वैश्विक स्वास्थ्य संकट का जवाब देने के लिये इस वैश्विक साझेदारी को देखकर बहुत खुश हैं।” उन्होंने कहा कि भारत के पास न केवल भारत के लिये, बल्कि दुनिया के लिये सुरक्षित और किफायती प्रभावी टीकों के निर्माण का एक प्रमाणित ट्रैक रिकॉर्ड है।

(भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Kerala Air India Plane Crash Highlights: ब्लैक बॉक्स बरामद, आगे जांच के लिए दिल्ली ले जाया जाएगा , मरने वालों की संख्या 18 हुई
2 J&K Bank fraud case: पूर्व वित्त मंत्री के बेटे के खिलाफ ईडी ने 17 स्थानों पर मारा छापा, जानें कौन हैं हिलाल अहमद राथेर
3 कान खोल कर सुन लो उद्धव ठाकरे…फिर तुम्हारी सरकार जाएगी, अरनब गोस्वामी ने सीएम को दिया खुला चैलेंज, वीडियो वायरल
ये पढ़ा क्या?
X