ताज़ा खबर
 

COVID-19 संकट के बीच 15 अप्रैल से UP में खुल जाएगा लॉकडाउन? CM योगी आदित्यनाथ ने दिया ये जवाब

Corona Virus: कोरोना वायरस से निपटने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन (बंद) के दौरान हर जरूरतमंद को बिना भेदभाव के समय से भोजन मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन जिलों में अब तक सामुदायिक रसोई शुरू नहीं हुई हैं, मुख्य सचिव वहां के जिलाधिकारी से बात कर भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं।

मुख्यमंत्री ने शनिवार को अपने आवास पर अधिकारियों की बैठक में कहा, ‘‘नियंत्रण कक्ष में अगर कोई फोन नहीं उठा रहा है तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जाए।(फाइल फोटो)

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते  देशभर में लॉकडाउन के बीच सीएम योगी ने उत्तर प्रदेश से लॉकडाउन हटाने को लेकर बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि 15 अप्रैल से हम लॉकडाउन को खोलेंगे तो जमावड़ा या भीड़ न होने पाए। इसमें आपका सहयोग चाहिए। 15 अप्रैल के बाद लॉकडाउन खोला गया और अगर भीड़ हो गई तो सारी मेहनत पर पानी फिर जाएगा। इसके लिए हम व्यवस्था बनाएंगे। उन्होंने कहा कि 15 अप्रैल के बाद राज्य में चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाने की व्यवस्था बनाई जाएगी।

कोरोना वायरस से निपटने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन (बंद) के दौरान हर जरूरतमंद को बिना भेदभाव के समय से भोजन मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिन जिलों में अब तक सामुदायिक रसोई शुरू नहीं हुई हैं, मुख्य सचिव वहां के जिलाधिकारी से बात कर भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इसके साथ ही संबंधित डीएम (जिलाधिकारी) की जवाबदेही भी तय की जाए और उन्हें भी ऐसे डीएम की सूची उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि भोजन वितरण के कार्य में गांवों में प्रधानों के अलावा नगर निकायों में पार्षदों और अन्य कर्मचारियों की भी इसमें मदद ली जाए और एलपीजी सिलेंडर, दवा एवं जरूरी सामान हर किसी को मिलना चाहिए।

Corona Virus in India live Update

मुख्यमंत्री ने शनिवार को अपने आवास पर अधिकारियों की बैठक में कहा, ‘‘नियंत्रण कक्ष में अगर कोई फोन नहीं उठा रहा है तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जाए। जिला आपूर्ति अधिकारी को निर्देश दें कि अगर कोई राशन नहीं मिलने की शिकायत करता है तो तुरंत उसका राशनकार्ड बनाने के साथ राशन और 1000 रुपये की मदद उस तक पहुंचाएं। सीएम हेल्पलाइन नंबर पर जिन जिलों की शिकायतें सर्वाधिक आ रही हैं उनकी खुद निगरानी करने के साथ-साथ उनकी सूची भी मुझे उपलब्ध कराएं।’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘बंद के बावजूद सामाजिक दूरी के मानकों का जानबूझकर उल्लंघन या अराजकता फैलाना सोची-समझी साजिश है। ऐसे लोगों के साथ बेहद सख्ती से पेश आएं। तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हर किसी की धर-पकड़ करें। सबके मोबाइल जब्त कर कॉल डिटेल की जांच करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 इनको ही पकड़ लीजिए… ये लोग कौम को बदनाम कर रहे हैं, लाइव बहस के दौरान मुस्लिम स्कॉलर पर भड़के पैनलिस्ट
2 Ayushman Bharat Yojana लाभार्थियों के लिए राहत! अस्पतालों में COVID-19 की जांच और इलाज होगा मुफ्त
3 Coronavirus से सबसे ज्यादा युवा संक्रमित, 42 फीसदी मरीजों की उम्र 21 से 40 साल के बीच, 60 से ऊपर वाले मात्र 17%